Skip to content

जिंक टेबलेट के उपयोग | Zinc Tablet Uses in Hindi


Published:
Updated:
image

Zinc एक ऐसा खनिज है जो शरीर को सुचारू रूप से कार्य करने के लिए आवश्यक है । बाल झड़ने की समस्या से लेकर यौन समस्याओं तक यह कई बीमारियों में कारगर साबित होता है । आप जिस भोजन का सेवन करते हैं, उससे आपको भरपूर मात्रा में जिंक की प्राप्ति हो जाती है । लेकिन कई व्यक्तियों में जिंक की कमी हो जाती है जिसके लिए डॉक्टर एक ही सलाह देते हैं: Zinc Tablet Uses in Hindi


जिंक टैबलेट की मदद से आप शरीर के लिए आवश्यक जिंक की पूर्ति कर सकते हैं । इसके टैबलेट के सेवन से आपकी ढेरों फायदे प्राप्त होते हैं जैसे आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत होती है, दस्त रुक जाता है, त्वचा का स्वास्थ्य बेहतर होता है, प्रजनन क्षमता में सुधार होता है, आदि । इस ब्लॉग में हम आपको विस्तार से बताएंगे कि जिंक क्या है, जिंक के उपयोग, जिंक टैबलेट के फायदे आदि।


जिंक क्या है (Zinc kya hai)

जिंक एक खनिज है जो शरीर के कई महत्वपूर्ण कार्यों के लिए आवश्यक है । यह शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करता है, घावों को ठीक करता है, प्रोटीन संश्लेषण और सेल विकास में मदद करता है, प्रजनन क्षमता को बढ़ाता है आदि। रोजाना लिए जाने वाले आहार जैसे मांस, अंडे, साबुत अनाज आदि में प्रचुर मात्रा में मिल जाता है ।

खासकर कि आप अगर मांस जैसे चिकन और मछली, सीफूड जैसे झींगा और टूना, अंडे, फलियां जैसे बीन्स और सोयाबीन, साबुत अनाज आदि का सेवन करते हैं तो आपको जिंक भरपूर मात्रा में मिल जायेगा । हालांकि कई बार हम संतुलित आहार का सेवन नहीं कर पाते, इसलिए जिंक टैबलेट के सेवन की सलाह दी जाती है । 


जिंक टैबलेट के फायदे (Zinc Tablet Uses in Hindi)

यदि आपके शरीर में जिंक की कमी हो गई है तो डॉक्टर आपको Zinc Tablet इस्तेमाल करने का सुझाव दे सकते हैं । यह जिंक टैबलेट आपके शरीर के लिए कैसे फायदेमंद है, आइए समझते हैं: 


1. इम्यून सिस्टम को मजबूत करता है (Strengthens the immune system)

अगर आप अपनी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत रखना चाहते हैं तो जिंक टैबलेट आपके लिए काफी कारगर है । इसमें कई गुण पाए जाते हैं जिससे हमारा इम्यून सिस्टम मजबूत बनता है । यह एंटीऑक्सीडेंट के रूप में कार्य करता है जिससे मुक्त कणों से हमारी रक्षा होती है । मुक्त कण उम्र बढ़ने और कई प्रकार की बीमारियों का कारण बनते हैं । 

साथ ही, यह सफेद रक्त कोशिकाओं के उत्पादन और कार्य को बढ़ावा देता है जो शरीर को संक्रमण से लड़ने में मदद करते हैं । कुछ अध्ययनों से यह भी पता चलता है कि इसमें एंटीवायरल प्रोपर्टीज भी मौजूद होती हैं जिससे यह कुछ वायरल संक्रमणों की गंभीरता और अवधि को कम करता है ।


2. घावों को ठीक करता है (Helps in quick healing of wounds)

जिंक घावों को भरने में भी काफी मददगार साबित होता है । जिंक कोशिका विभाजन और वृद्धि के लिए आवश्यक है, जो ऊतकों के पुनर्जनन में महत्वपूर्ण प्रक्रियाएं हैं । यह नई कोशिकाओं के बनने में मदद करता है जिससे घावों के स्थान पर मौजूद खराब सेल्स हट जाता है और नए सेल्स उनकी जगह ले लेते हैं । 

इसके अलावा यह कॉलेजन के उत्पादन को भी बढ़ावा देता है, जोकि एक प्रोटीन है जिससे त्वचा का निर्माण होता है । ऐसे में यह घाव पर मौजूद खराब त्वचा की कोशिकाओं को स्वस्थ कोशिकाओं से रिप्लेस करने का कार्य करता है । इसके अलावा, जहां घाव होता है, वहां सूजन हो जाती है जिससे दर्द भी होता है । इस परिस्थिति में भी जिंक में मौजूद एंटी इंफ्लेमेटरी गुण सूजन को दूर करके व्यक्ति को राहत पहुंचाता है । 


3. बालों का झड़ना रोकता है (It Prevents hair fall)

जिंक का अगला प्रमुख फायदा यह है कि यह बालों का झड़ना भी रोकता है । यह बालों के रोम के निर्माण और मरम्मत में मदद करता है और साथ ही बालों के रोम के चारो ओर तेल ग्रंथियों के कार्य को भी नियंत्रित करता है । इससे बालों का झड़ना कम हो जाता है । जिन व्यक्तियों में जिंक की कमी होती है, उनके बाल कमजोर हो जाते हैं और फिर टूटना शुरू हो जाते हैं । ऐसे में जिंक उनकी मदद कर सकता है ।

यह प्रोटीन संश्लेषण की बढ़ावा देता है जो बालों के रोम के निर्माण के लिए बेहद जरूरी है । साथ ही यह बालों की मरम्मत करने में भी अहम भूमिका निभाता है। इसलिए अगर आप Zinc Tablet Use in Hindi करते हैं तो आपके बाल झड़ना कम हो सकते हैं । इसके अलावा अगर आप चाहें तो Traya Hair Test दे सकते हैं जो आपकी बालों से संबंधित सभी समस्याओं का One Stop Solution है । यह कम उम्र में बालों का झड़ना भी रोक सकता है ।


4. प्रजनन क्षमता को बढ़ाने में मददगार है (Helpful in increasing fertility)

जिंक प्रजनन क्षमता को बढ़ाने के लिए भी आवश्यक है । यह सिर्फ पुरुषों के लिए ही नहीं बल्कि महिलाओं की प्रजनन क्षमता में भी वृद्धि करता है । पुरुषों में यह शुक्राणु (sperm) के उत्पादन और परिपक्वता के लिए महत्वपूर्ण घटक है । यह अंडकोष में उच्च मात्रा में पाया जाता है, जहां शुक्राणु का विकास होता है । साथ ही, यह टेस्टोस्टेरोन लेवल को भी रेगूलेट करता है जिससे उचित मात्रा में स्पर्म प्रोडक्शन हो सके ।

महिलाओं के प्रजनन स्वास्थ्य के लिए भी यह जरूरी है क्योंकि यह महिलाओं में मासिक धर्म चक्र और ओव्यूलेशन के नियमन में शामिल है । पर्याप्त जिंक का स्तर सामान्य ओवुलेटरी फ़ंक्शन में योगदान दे सकता है। इसके अलावा, यह भ्रूण के सही विकास में भी मदद करता है क्योंकि यह डीएनए सिंथेसिस और कोशिकाओं के विभाजन में मदद करता है । इसलिए स्वस्थ गर्भावस्था के लिए जिंक महत्वपूर्ण है ।


5. त्वचा संबंधित समस्याओं को दूर भगाता है (Keeps skin related problems away)

जिंक त्वचा के लिए भी काफी महत्वपूर्ण है । जैसा कि हमने आपको पहले ही बताया, यह त्वचा की कोशिकाओं के विकास और मरम्मत में मदद करता है जिससे त्वचा मजबूत बनती है । साथ ही, यह साइटोकिंस के उत्पादन को भी रोकता है जिससे सूजन की समस्या होती है । इसमें मौजूद एंटी माइक्रोबियल और एंटी बैक्टिरियल गुण त्वचा संबंधित रोग जैसे मुंहासे, खुजली और घावों को ठीक करने में मदद करते हैं ।

इसके अलावा यह त्वचा की उम्र को बढ़ने से भी रोकता है । यह कॉलेजन के उत्पादन को बढ़ावा देता है जिससे त्वचा को मजबूती मिलती है और त्वचा चमकदार बनती है। इसलिए जिंक टैबलेट के फायदे आपकी पूरी त्वचा के लिए हैं। 


6. मधुमेह को नियंत्रित करने में मददगार हो सकता है (May prove helpful in controlling diabetes)

मधुमेह जिसे आप डायबिटीज के नाम से भी जानते हैं, एक ऐसी गंभीर समस्या है जिसमें शरीर इन्सुलिन का ठीक ढंग से उपयोग नहीं कर पाता है । यही इन्सुलिन ब्लड शुगर को नियंत्रित करता है पर मधुमेह में इसका उपयोग सही ढंग से नहीं हो पाता । ऐसे में, जिंक इन्सुलिन सेंसिटिविटी में सुधार करता है और शरीर को इसका उपयोग करने के लिए अधिक कुशल बनाता है। 

इसके साथ ही, यह इन्सुलिन उत्पादन को भी बढ़ावा देता है । तो अगर किसी व्यक्ति में इंसुलिन का उत्पादन कम होता है तो जिंक मदद कर सकता है । इस तरह जिंक टैबलेट आपको हृदय रोग, स्ट्रोक और नेफ्रोपथी से रक्षा करता है । हालांकि इन समस्याओं के लिए सीधे जिंक टैबलेट का इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर से संपर्क करें ।


7. रूसी से छुटकारा दिलाता है (helps in getting rid of dandruff)

जिंक में कई ऐसे गुण मौजूद होते हैं जिनसे रूसी की समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है । जिंक में एंटीफंगल गुण पाए जाते हैं जोकि Malassezia को नियंत्रित करने में मदद करता है । इसकी वजह से ही रूसी में चिड़चिड़ापन महसूस होता है । साथ ही, यह Sebum production में भी मदद करता है । 

अगर सीबम का उत्पादन असंतुलित है तो यह रूसी में योगदान दे सकता है। स्वस्थ संतुलन बनाए रखने में मदद करके, जिंक रूसी को रोकने में भूमिका निभा सकता है । रूसी का एक कॉमन फैक्टर है मृत त्वचा कोशिकाएं । ऐसे में जिंक त्वचा कोशिकाओं के सामान्य कामकाज में मदद करता है और खोपड़ी पर त्वचा कोशिकाओं के टर्नओवर में योगदान कर सकता है। इससे मृत त्वचा कोशिकाएं हटेंगी और आपको संभवतः रूसी से छुटकारा मिलेगा ।


जिंक की कमी के लक्षण (Zinc Deficiency Symptoms)

अगर आपके शरीर में जिंक की कमी हो गई है तो आपको निम्नलिखित लक्षण दिखाई दे सकते हैं । अगर आप इनमें से कोई भी लक्षण देखते हैं तो डॉक्टर की सलाह के पश्चात ही Zinc Tablet Uses in Hindi शुरू कर सकते हैं । तो चलिए जिंक की कमी के लक्षणों पर एक नजर डालते हैं:

  • ‌बार बार सर्दी होना
  • ‌दस्त पड़ना
  • ‌त्वचा की समस्याएं शुरू होना जैसे मुंहासे, खुजली
  • ‌घावों का जल्दी ठीक न होना
  • ‌बालों का झड़ना
  • ‌रूसी की समस्या
  • ‌भूख न लगना
  • ‌थकान महसूस करना
  • ‌यौन समस्याओं से ग्रसित होना जैसे नपुंसकता और बांझपन

ध्यान रखें कि सभी समस्याओं का एक अकेला कारण जिंक ही नहीं हो सकता है । इसलिए बिना डॉक्टर के परामर्श के Zinc Tablet का सेवन आपके लिए हानिकारक भी साबित हो सकता है। 


जिंक टैबलेट के नुकसान (Disadvantages of Zinc Tablets)

जहां एक और जिंक टैबलेट के फायदे हैं तो वहीं कुछ इसके नुकसान भी हैं । ये नुकसान या साइड इफेक्ट्स आप तभी महसूस करेंगे जब आप इसका सेवन जरूरत से ज्यादा कर लेंगे या बिना डॉक्टर की परामर्श के इसका सेवन शुरू करेंगे । चलिए एक नजर डालते हैं इसके संभावित नुकसानों पर: 

  • ‌पेट दर्द
  • ‌मतली
  • ‌उल्टी
  • ‌सिर दर्द
  • ‌थकान

अगर आप जिंक सप्लीमेंट लेने के पश्चात ऊपर दिए दुष्प्रभाव देखते हैं तो तुरंत अपने डॉक्टर से बात करें । साथ ही हमेशा इसका सेवन डॉक्टर द्वारा सुझाए गए डोज के अनुरूप ही लें ।


जिंक से भरपूर प्राकृतिक खाद्य पदार्थ (Natural food sources of zinc)

जैसा कि हमने आपको पहले ही बताया, जिंक की जरूरतों को पूरा करने के लिए संतुलित आहार ही काफी है । अगर आप उचित मात्रा में आहार लेते हैं तो आपको इसकी प्रचुर मात्रा प्राप्त हो जायेगी । तो चलिए देखते हैं कि ऐसे कौन से प्राकृतिक खाद्य पदार्थ हैं जिनमें जिंक पाया जाता है:

  • मांस: इसमें चिकन, पोर्क आदि शामिल है 
  • ‌समुंद्री मास: इसमें केकड़ा, झींगा मछली और झींगा शामिल है
  • ‌दूध से बने उत्पाद: दूध और उसके उत्पाद जैसे कि घी, मक्खन, दही आदि
  • ‌दाने और बीज: इसमें काजू, बादाम, कद्दू के बीज शामिल हैं जिसमें प्रचुर मात्रा में जिंक मौजूद होता है
  • ‌दाले: कुछ दालों खासकर चना की दाल और मसूर की दाल में जिंक मौजूद होता है ।
  • ‌सब्जियां: पलक, मशरूम में जिंक मौजूद होता है

इस तरह पूरी सूची आपके सामने है कि किन खाद्य पदार्थों में आपको जिंक की प्राप्ति होती है । अगर आप जंक फूड की जगह इन भोज्य पदार्थों का सेवन करते हैं तो आपको कभी भी हॉस्पिटल के चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगे ।


जिंक की खुराक और इस्तेमाल करने का तरीका (Zinc dosage and method of use)


अगर आप संतुलित आहार लेते हैं तो आपकी सभी जिंक जरूरतें पूरी हो जाएंगी । लेकिन अगर किन्हीं वजहों से आपके शरीर में जिंक की कमी हो गई है तो आप जिंक की सप्लीमेंट्स जैसे टैबलेट, कैप्सूल या सिरप भी ले सकते हैं।  खासकर कि गर्भवती महिलाओं, स्तनपान कराने वाली महिलाओं को इसकी आवश्यकता पड़ती है । बात करें जिंक के दैनिक खुराक की तो आप निचे दिए टेबल में पूरी जानकारी देख सकते हैं ।


आयु वर्ग

खुराक

शिशु (6 महीने तक)

2

शिशु (7-12 महीने)

3

बच्चे (1-3 वर्ष)

3

बच्चे (4-8 वर्ष)

5

बच्चे (9-13 वर्ष)

8

किशोर (14-18 वर्ष)

9-11

वयस्क (19 वर्ष और अधिक)

8-11

गर्भवती महिलाएं

11

स्तनपान कराने वाली महिलाएं

12



इसके अलावा, जिंक सप्लीमेंट्स आपको सुबह के वक्त लेना चाहिए । इससे आपकी दिनभर की जिंक की जरूरतों की पूर्ति हो जायेगी और साथ ही आप भोजन भी सही से अवशोषित होगा । आमतौर पर इसे दिन में एक बार ही लिया जाता है । आप चाहें तो डॉक्टर की परामर्श के पश्चात Multivitamin Tablet का सेवन भी कर सकते हैं, जिसमें पर्याप्त मात्रा में जिंक मौजूद होता है ।


निष्कर्ष (Conclusion)

जिंक शरीर के लिए एक आवश्यक खनिज है । यह प्रतिरक्षा प्रणाली, प्रजनन क्षमता, पाचन तंत्र, बालों के स्वास्थ्य और त्वचा स्वास्थ्य आदि के लिए काफी महत्वपूर्ण खनिज है । अगर आप रोजाना संतुलित आहार लेते हैं तो आपके शरीर को इसकी पर्याप्त पूर्ति हो जाती है । हालांकि, किन्हीं कारणों से जिंक की कमी से जूझ रहे लोग Zinc Tablet Uses in Hindi भी सकते हैं ।

उम्मीद है कि आप जिंक क्या है, जिंक टैबलेट के उपयोग, जिंक टैबलेट के नुकसान और इसकी सही खुराक आदि से संबंधित सभी प्रश्नों के उत्तर पा गए होंगे । हम आपको यही सुझाव देते हैं कि बिना डॉक्टर के परामर्श के इसका सेवन कदापि न करें ।


अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (Frequently Asked Questions)

1. जिंक की कमी से कौन सा रोग होता है ?

जिंक की कमी से हृदय रोग, बालों का झड़ना, त्वचा संबंधित रोग जैसे मुंहासे, खुजली, भूख में कमी आना, बार बार दस्त होना आदि रोग होते हैं । इसकी कमी से रोग प्रतिरोधक क्षमता पर नकारात्मक असर पड़ता है ।


2. कौन से फल में जिंक ज्यादा होता है ?

ब्लैकबेरी, कीवी, अमरूद और अनार में जिंक की मात्रा मौजूद होती है । हालांकि अन्य खाद्य पदार्थ जैसे मांस, दूध से बने उत्पाद, कुछ सब्जियां और सी फूड में ज्यादा मात्रा में जिंक मौजूद होता है ।


3. जिंक टैबलेट लेने का सही समय क्या है ?

जिंक टैबलेट लेने का सही समय सुबह है । आप भोजन करने के पश्चात जिंक टैबलेट का सेवन कर सकते हैं । इससे आपके शरीर को जरूरी खनिज भी प्राप्त होगा और भोजन सही से अवशोषित भी होगा ।


3. Zinc Tablet से कौन से स्वास्थ्य लाभ मिलते हैं ?

Zinc Tablet के सेवन से बालों का झड़ना रोकता है, हृदय स्वास्थ्य बेहतर होता है, इम्यून सिस्टम मजबूत बनता है, घाव जल्दी भरते हैं, मधुमेह नियंत्रित रहता है और साथ ही त्वचा संबंधित रोगों से भी शरीर की रक्षा करता है ।


4. जिंक की कमी के क्या लक्षण होते हैं ?

जिंक की कमी के निम्नलिखित लक्षण होते हैं:

  • ‌बार बार सर्दी होना
  • ‌दस्त आना
  • ‌त्वचा संबंधित समस्याओं से जूझना
  • ‌बालों का झड़ना
  • ‌भूख न लगना
  • ‌थकान महसूस करना
  • ‌यौन समस्याएं जैसे नपुंसकता और बांझपन


References



अस्वीकरण: यह ब्लॉग सिर्फ सामान्य जानकारी के लिए है न कि किसी बीमारी के इलाज के लिए। आपको सलाह दी जाती है कि किसी भी रोग या शारीरिक समस्या के लिए सबसे पहले डॉक्टर से संपर्क करें।



 



files/author_Dr.-Shailendra-Chaubey-BAMS_300x_3fb01719-6325-4801-b35b-3fb773a91669.jpg

Dr. Shailendra Chaubey, BAMS

Ayurveda Practioner

A modern-day Vaidya with 11 years of experience. He is the founder of Dr. Shailendra Healing School that helps patients recover from chronic conditions through the Ayurvedic way of life.

Popular Posts

Leave a comment

Please note, comments need to be approved before they are published.

आपके बाल झड़ने का कारण क्या है?

डॉक्टरों द्वारा डिज़ाइन किया गया Traya का मुफ़्त 2 मिनट का हेयर टेस्ट लें, जो आपके बालों के झड़ने के मूल कारणों की पहचान करने के लिए आनुवांशिक, स्वास्थ्य, जीवनशैली और हार्मोन जैसे 20+ कारकों का विश्लेषण करता है।

हेयर टेस्ट लेTM