Skip to content

Vitamin B12 ki kami se kya hota hai | विटामिन बी की कमी से होने वाले रोग


Published:
Updated:
image

विटामिन बी12 जिसे Cobalamin भी कहा जाता है, बी विटामिन परिवार का एक महत्वपूर्ण सदस्य है। यह एक water soluble vitamin है जिसका अर्थ है कि यह आसानी से पानी में घुल जाता है। यह शरीर के लिए कई तरह से फायदेमंद है और अगर इसकी कमी हो जाए तो आपको कई रोगों से जूझना पड़ सकता है। Vitamin B12 Ki Kami Se Kya Hota Hai का ब्लॉग हमने इसी लिए तैयार किया है ताकि आपको इसके फायदे, इसकी कमी से होने वाले रोग, कमी के लक्षण सभी जानकारी मिल सके।

विटामिन बी12 शरीर के लिए इसलिए महत्वपूर्ण है क्योंकि इसकी ही मदद से नर्वस सिस्टम सुचारू रूप से काम करता है, प्रोटीन सिंथेसिस में मदद मिलती है, रक्त कोशिकाएं बेहतर ढंग से फॉर्म होती हैं और भी कई फायदे। अगर आपके शरीर में इसकी कमी हो जाए तो आप मुर्गीपालन, मछली, अंडे, और डेयरी उत्पादों के सेवन से इसकी कमी को पूरी कर सकते हैं। तो आइए जानते हैं कि Vitamin B12 Ki Kami Se Kya Hota Hai.


Vitamin B12 Ki Kami Se Kya Hota Hai (विटामिन बी12 की कमी से क्या होता है)

अगर आपके शरीर में विटामिन बी12 की कमी हो जाए तो आपको कई रोग होने की संभावना बढ़ जाती है। इसकी कमी से एनीमिया, नर्वस सिस्टम के कार्यों में गड़बड़ी, मानसिक स्वास्थ्य खराब होना, जिह्वा की सूजन, गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल समस्याएं, तेजी से बाल झड़ना हो सकती हैं। आइए विस्तार से समझते हैं कि विटामिन बी12 की कमी से क्या होता है।


1. तेजी से बाल झड़ना (Rapid hair fall may occur)

विटामिन बी12 की कमी से तेजी से बाल झड़ने की समस्या शुरू होना एक आम समस्या है। बल्कि अगर आपके शरीर में इस विटामिन की कमी हो जाए तो पहली दिक्कत तो यही होगी कि आपके तेजी से बाल झड़ना शुरू हो जायेंगे। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि बालों के सही विकास और मजबूती के लिए विटामिन बी12 काफी मददगार होता है। खासतौर कर लाल रक्त कोशिकाओं के निर्माण में यह विटामिन महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यही लाल रक्त कोशिकाएं ऑक्सीजन और पोषक तत्वों को सिर की त्वचा तक पहुंचाते हैं।

ऐसे में अगर आपके शरीर में इस विटामिन की कमी हो जाए तो बालों को ऑक्सीजन और पोषक तत्व नहीं मिलेंगे जिससे बाल झड़ना शुरू हो सकता है। हालांकि अगर आपके बाल झड़ रहे हैं तो जरूरी नहीं कि सिर्फ विटामिन बी12 की कमी ही कारण हो, 20 से भी अधिक कारण हो सकते हैं। इसलिए हम आपको Hair Test देने की सलाह देते हैं जोकि बिलकुल मुफ्त है और आप मात्र 2 मिनट में इस पूरा भी कर सकते हैं। यह आपके बाल झड़ने के सटीक कारण का पता लगाता है और सही उपचार भी देता है।


2. एनीमिया की समस्या (Vitamin B12 Deficiency Anemia)

शरीर में विटामिन बी12 की कमी होने पर एनीमिया की समस्या का सामना भी आपको करना पड़ सकता है। जैसा कि हमने आपको पहले ही बताया, यह विटामिन स्वस्थ लाल रक्त कोशिकाओं (red blood cells) को बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। विटामिन बी12 की कमी डीएनए संश्लेषण में बाधा डालकर स्वस्थ लाल रक्त कोशिका उत्पादन को बाधित करती है और इसकी वजह से खराब या हानिकारक लाल रक्त कोशिकाओं का निर्माण शुरू हो जाता है।

इसके परिणामस्वरूप स्वस्थ लाल रक्त कोशिकाओं की कमी हो जाती है, जिससे एक प्रकार का एनीमिया होता है जिसे विटामिन बी12 की कमी वाला एनीमिया कहा जाता है। अगर आपको इस विटामिन की कमी से एनीमिया की शिकायत है तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें और उपचार कराएं अन्यथा स्तिथि गंभीर हो सकती है। तो इस तरह आपने जाना कि B12 Ki Kami Se Kya Hota Hai.


3. कब्ज की समस्या (may cause constipation)

विटामिन बी12 आपके पाचन तंत्र के स्वास्थ्य में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है और इसलिए अगर आपके शरीर में इस विटामिन की कमी हो जाए तो कब्ज की समस्या हो सकती है। दरअसल विटामिन बी12 हमारे पूरे शरीर में फैली नसों के स्वास्थ्य के लिए जरूरी होता है, यानि जो हमारी पाचन तंत्र में मौजूद नसें हैं उनका स्वास्थ्य भी विटामिन बी12 से जुड़ा हुआ है। ये नसें ही आंत में मौजूद मांशपेशियों के संकुचन को नियंत्रित करती हैं जो भोजन को पाचन तंत्र में ले जाने में मदद करते हैं।

जब बी12 की कमी होती है, तो आंत में नसें क्षतिग्रस्त या कमजोर हो सकती हैं। इससे मांसपेशियों में संकुचन हो सकता है, जिससे भोजन पाचन तंत्र के माध्यम से धीमी गति से आगे बढ़ सकता है। इससे आपको कब्ज की समस्या हो सकती है। ऐसे में अगर आप कब्ज की समस्या से बचना चाहते हैं तो आपको बी12 से युक्त भोजन का सेवन लगातार करना चाहिए।


4. डायरिया की समस्या (Vitamin B12 deficiency diarrhea)

विटामिन बी12 की कमी से डायरिया की समस्या भी आपको हो सकती है। विटामिन बी12 ही वह विटामिन है जो आपकी आंतों की अंदरूनी परत के स्वास्थ्य को बनाए रखता है। यह अंदरूनी परत ही सुनिश्चित करता है कि आपके शरीर में पोषक तत्वों का अवशोषण सही ढंग से हो रहा है और साथ ही हानिकारक पदार्थों के खिलाफ एक रुकावट का कार्य भी करता है। यानि आपके आंतों को नुकसान पहुंचाने वाले खराब पदार्थों/तत्वों को दूर रखने में भी यही परत मदद करती है।

ऐसे में जब आपके शरीर में विटामिन बी12 की कमी हो जाती है तो आंत की यह अंदरूनी परत कमजोर हो सकती है या इसमें सूजन आ सकती है। कमजोर होने या सूजन होने की वजह से न ही पोषक तत्वों का अवशोषण सही ढंग से होगा और न ही आपकी आंत खराब पदार्थों से होने वाले नुकसान से बच पायेगी। इसलिए आपको डायरिया या मल का बेहद पतला होना, पेट दर्द और पेट में गड़बड़ी जैसी दिक्कतें हो सकती हैं।


5. भूख में कमी (Loss of appetite)

अगर आपके शरीर में विटामिन बी12 की कमी हो जाए तो अचानक से आपको भूख लगना बंद हो जायेगा और आपका पूरा स्वास्थ्य खराब होने लगेगा। यह स्वाभाविक भी है क्योंकि हमने आपको ऊपर ही बताया कि इसकी कमी से डायरिया और कब्ज की समस्या शुरू हो जाती है। ये दोनो ही समस्याएं पाचन तंत्र और पाचन क्रिया के कार्य को खराब कर देती हैं जिससे भोजन करने की इच्छा खत्म हो जाती है। 

साथ ही, आपके पेट में भोजन गलाने वाले एसिड का उत्पादन सुचारू रूप से हो इसके लिए भी विटामिन बी12 महत्वपूर्ण होता है। यह Stomach Acid ही भोजन को तोड़ने, पचाने और अवशोषण करने में मुख्य भूमिका निभाता है। ऐसे में इसकी कमी से पेट में एसिड का उत्पादन कम हो सकता है, जिससे अपच और मतली हो सकती है, जिससे भूख कम हो सकती है। तो अगर आपको भूख कम लगती है तो इसका एक कारण इस विटामिन की कमी भी हो सकती है।


6. खराब मानसिक स्वास्थ्य (Poor mental health)

विटामिन बी12 की कमी से आपका मानसिक स्वास्थ्य भी खराब हो सकता है और आप डिप्रेशन तक में भी जा सकते हैं। दरअसल विटामिन बी12 ही हमारे दिमाग में महत्वपूर्ण ट्रांसमिटर्स के उत्पादन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं जिसमें शामिल है सेरोटोनिन, डोपामाइन, और नॉरपेनेफ्रिन। ये सभी न्यूरोट्रांसमीटर हमारे पूरे मानसिक स्वास्थ्य को रेग्यूलेट करने में अहम भूमिका निभाते हैं। 

ये न्यूरोट्रांसमीटर हमारी नींद, मूड और दिमागी क्षमता को भी रेग्यूलेट करते हैं। ऐसे में अगर शरीर में विटामिन बी12 की कमी हो जाए तो इन न्यूरोट्रांसमीटर का उत्पादन अचानक से घट सकता है जिसकी वजह से पूरा मानसिक स्वास्थ्य बिगड़ सकता है। बी12 की कमी अवसाद के लिए एक ज्ञात जोखिम कारक है। बी12 की कमी वाले लोगों को खराब मूड, गतिविधियों में रुचि की कमी, थकान और ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई जैसे लक्षण अनुभव हो सकते हैं।


7. हृदय संबंधित रोग (Heart disease)

शरीर में विटामिन बी12 की कमी होने पर आपको हृदय रोगों से भी जूझना पड़ सकता है। इसके भी दो अहम कारण हैं, आइए आसान शब्दों में समझते हैं। दरअसल विटामिन बी12 को शरीर में नाइट्रिक ऑक्साइड के फॉर्मेशन में महत्वपूर्ण माना गया है। यह एक ऐसा मॉलिक्यूल है जोकि रक्त वाहिकाएं को शांत करने के साथ ही उनके विस्तारण में भी मदद करती हैं। ऐसे में अगर इस विटामिन की कमी हो जाती है तो इससे रक्त वाहिका की कार्यक्षमता ख़राब हो जाती है, जिससे रक्त का स्वतंत्र रूप से प्रवाह करना कठिन हो जाता है और संभावित रूप से हृदय पर तनाव बढ़ जाता है।

दूसरा कारण है एनीमिया, जोकि हमने आपको पहले ही बताया। विटामिन बी12 की कमी से एनीमिया होने पर शरीर में जरुरी स्वस्थ लाल रक्त कोशिकाओं की संख्या में भारी कमी देखने को मिल सकती है। तब हृदय को पूरे शरीर में पर्याप्त ऑक्सीजन युक्त रक्त पंप करने के लिए अधिक मेहनत करने की आवश्यकता होती है, जिससे समय के साथ heart failure जैसी हृदय संबंधी समस्याएं हो सकती हैं।


8. तंत्रिका संबंधी समस्याएं (Neurological problems)

अगर आपके शरीर में विटामिन बी12 की कमी हो जाए तो तांत्रिक संबंधी समस्याएं शुरू हो सकती हैं। विटामिन बी12 हमारे नर्वस सिस्टम के समग्र स्वास्थ्य में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसकी कमी संतुलन और समन्वय को नियंत्रित करने वाली नसों को प्रभावित कर सकती है, जिससे चलने में कठिनाई, चक्कर आना और गिरने का खतरा बढ़ जाता है। 

तंत्रिकाओं के क्षतिग्रस्त होने से मांसपेशियाँ कमज़ोर हो सकती हैं, जिससे सीढ़ियाँ चढ़ने, वस्तुओं को पकड़ने या चलने जैसी गतिविधियाँ प्रभावित हो सकती हैं। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि विटामिन बी12 ही Myelin के उत्पादन के लिए जरुरी होती हैं जोकि तंत्रिका तंतुओं को घेरता है और उनकी रक्षा करता है, विद्युत तारों में भी आपने यह देखा होगा। अगर इसका उत्पादन कम हो जाए तो Nerve Fiber (तंत्रिका तंतु) क्षतिग्रस्त हो सकते हैं जिससे तंत्रिका संबंधित समस्याओं का जन्म हो सकता है।


9. जीभ की सूजन (Glossitis)

विटामिन बी12 की कमी से जूझने वाले लोगों में जीभ की सूजन हो जाती है, हालांकि यह सभी व्यक्तियों में नहीं होता। इसकी भारी कमी से जूझ रहे लोगों को ही जीभ की सूजन का सामना करना पड़ सकता है। परंतु ऐसा क्यों होता है कि विटामिन बी12 की कमी से जीभ सूज जाती है? इसका कारण यह है कि हमारे जीभ की ऊपरी सतह हमेशा खुद को बदलती रहती है जिसके लिए इसे लगातार पोषक तत्वों की आवश्यकता पड़ती है। यही विटामिन डीएनए सिंथेसिस और कोशिका विभाजन के लिए भी जरुरी होता है।

जब बी12 की कमी होती है, तो ये सेलुलर प्रक्रियाएँ ख़राब हो जाती हैं। जीभ को पुरानी कोशिकाओं को प्रभावी ढंग से बदलने के लिए पर्याप्त स्वस्थ नई कोशिकाओं का उत्पादन करने के लिए आवश्यक बिल्डिंग ब्लॉक नहीं मिलते हैं। इससे जीभ में सूजन की समस्या हो जाती है जिसका उपचार हालांकि आसानी से किया जा सकता है। 


10. अचानक से वजन घटना (Sudden weight loss)

विटामिन बी12 की कमी होने पर आपका वजन तेजी से घट सकता है। हालांकि विटामिन बी12 की कमी सीधे तौर पर आपके वजन पर कोई असर नहीं डालती है लेकिन अप्रत्यक्ष रूप से वजन घटने की समस्या हो सकती है। जैसा कि हमने आपको पहले ही बताया, इसकी कमी होने पर आपको डायरिया की समस्या हो सकती है। डायरिया की समस्या होने पर भोजन करने की रुचि खत्म हो जाती है और भूख कम लगने लगती है।

इस परिस्थिति में आप कम भोजन करेंगे यानि आपके शरीर में कम कैलरी जाएगी जोकि वजन बढ़ाने का सबसे मुख्य कारण है। इसके अलावा, दूसरी समस्या जिसका भी हमने जिक्र किया था वह है कब्ज। कब्ज होने पर भी भूख कम लगती है और भोजन करने की इच्छा खत्म हो जाती है। इसमें भी आपके शरीर में कम भोजन की वजह से कम पोषक तत्व मौजूद होगा, कैलरी की मात्रा भी कम हो जायेगी जिससे आपका वजन तेजी से घटना शुरू हो सकता है।


Vitamin B12 Ki Kami Ke Lakshan (विटामिन बी12 की कमी के लक्षण)

विटामिन बी12 की कमी के कई लक्षण दिखाई देते हैं। इसकी कमी होने पर एनीमिया, थकान, कमजोरी, हाथों और पैरों में झुनझुनी या सुन्नता, दृष्टि समस्याएं, मूड में बदलाव, स्मृति हानि और मनोभ्रंश जैसे लक्षण दिखाई देते हैं। आइए विस्तार से जानते हैं कि Vitamin B12 Ki Kami Ke Lakshan क्या हैं।


1. एनीमिया (Anaemia)

विटामिन बी12 की कमी होने पर आपको कई लक्षण दिखाई दे सकते हैं जिसमें एनीमिया भी शामिल है। एनीमिया एक ऐसी समस्या है जिसमें हीमोग्लोबिन और लाल रक्त कोशिकाओं में कमी हो जाती है। एनीमिया होने पर आपको अत्यधिक थकान, कमजोरी, चक्कर आने जैसी समस्याओं से जूझना पड़ सकता है।  एनीमिया B12 Ki Kami Ke Lakshan में शामिल है। 


2. अत्यधिक थकान और कमजोरी (Fatigue And Weakness)

विटामिन बी12 की कमी से अत्यधिक थकान और कमजोरी होना भी हो सकता है। खासतौर पर हमेशा थकान महसूस करना और किसी कार्य को करने के लिए एनर्जी न होना इस विटामिन की कमी के प्रमुख लक्षण हैं। थकावट और कमजोरी इस हद तक होगी कि आप 9 घंटे की गहरी नींद लेने के पश्चात भी सुबह उठने पर थका हुआ ही महसूस करेंगे। यानि अत्यधिक थकान B12 Deficiency Symptoms In Hindi का हिस्सा है।


3. अत्यधिक बालों का झड़ना (Rapid hair fall)

विटामिन बी12 की कमी से तेजी से बाल झड़ने की समस्या हो सकता है। अगर आपके बाल झड़ रहे हैं तो हो सकता है कि इसका कारण बी12 विटामिन हो, लेकिन अन्य 20 से भी अधिक कारण भी हो सकते हैं। सही सटीक कारण और उपचार के लिए हम आपको Hair Test देने का सुझाव देते हैं जोकि फ्री है और घर बैठे स्मार्टफोन की मदद से मात्र 2 से 3 मिनट में दिया जा सकता है।


4. हाथ पैर सुन्न होना और झुनझुनी (Numbness and tingling)

हाथ पैर सुन्न पड़ना और झुनझुनी की समस्या भी विटामिन बी12 की कमी की वजह से हो सकती है। हमने आपको पहले ही बताया कि अगर शरीर में इस विटामिन की कमी हो जाए तो नसें क्षतिग्रस्त हो सकती हैं। नसें क्षतिग्रस्त होने की वजह से आपको झुनझुनी और हाथ पैर सुन्न पड़ने की समस्या महसूस हो सकती है।


5. दृष्टि दोष हो सकता है (Vision problems)


अगर आपके शरीर में विटामिन बी12 की कमी हो जाए तो दृष्टि दोष या देखने से जुड़ी परेशानियां शुरू हो सकती हैं। इसकी कमी होने पर धुंधला दिखाई देना या बिलकुल भी न दिखाई देने की भी समस्या जन्म ले सकती है। दरअसल इसकी कमी होने पर नेत्र - संबंधी तंत्रिका भी डैमेज हो जाते हैं।


6. त्वचा का पीला पड़ना (Pale skin)


पीली त्वचा की समस्या भी विटामिन बी12 की कमी होने पर अवतरित हो सकती है। यह होता है खासतौर पर एनीमिया की वजह से जिसके बारे में हमने आपको पहले ही बताया। इसकी कमी होने पर लाल रक्त कोशिकाओं का निर्माण धीमा हो जाता है या रुक जाता है जिसकी वजह से त्वचा पीली पड़ सकती है।


7. जीभ में सूजन (Swelling of the tongue)


विटामिन बी12 की कमी होने पर जीभ कोमल, लाल और सूज सकती है। विटामिन बी12 ही जीभ के ऊपरी परत को लगातार बदलने में मदद करती है और नई जीभ कोशिकाओं के निर्माण को सुगम बनाती है। ऐसे में अगर इस विटामिन की कमी हो जाए तो इस प्रक्रिया में बाधा पड़ सकती है जिससे जीभ सूज सकती है और उसमें लालिमा आ सकती है।


8. मुंह में छालें पड़ना (Mouth ulcers)


विटामिन बी12 की कमी होने पर मुंह में छाले भी पड़ सकते हैं। विटामिन बी12 पूरे शरीर में स्वस्थ कोशिका विभाजन और विकास के लिए आवश्यक है, जिसमें मुंह की परत की कोशिकाएं भी शामिल हैं। ऐसे में इस विटामिन की कमी इस प्रक्रिया को ख़राब कर सकती है, जिससे मुंह की परत क्षतिग्रस्त होने की संभावना बढ़ सकती है और छाले हो सकते हैं।


9. याददाश्त कमजोर होना (Memory loss)


विटामिन बी12 की भारी कमी होने पर याददाश्त कमजोर पड़ सकती है। इसके अलावा आप डिमेंशिया और डिप्रेशन का भी अनुभव कर सकते हैं। डिमेंशिया स्मृति, भाषा, समस्या-समाधान और अन्य सोचने की क्षमताओं की हानि के लिए एक सामान्य शब्द है जो दैनिक जीवन में हस्तक्षेप करने के लिए काफी गंभीर है। तो ये रहे Vitamin B12 Ki Kami Ke Lakshan In Hindi.


विटामिन बी12 की कमी का खुद इलाज करने के तरीके


विटामिन बी12 को कमी का खुद इलाज करने के कई तरीके हैं। आप घर बैठे भी बिना डॉक्टर की मदद के सामान्य विटामिन बी12 की कमी का इलाज कर सकते हैं। इसके लिए मांस, पोल्ट्री, मछली, अंडे और डेयरी जैसे पशु उत्पादों का सेवन करें। फोर्टिफाइड अनाज, पौष्टिक खमीर और कुछ पौधे-आधारित दूध भी विकल्प हो सकते हैं।


साथ ही, यदि आहार में परिवर्तन पर्याप्त नहीं है, तो आपका डॉक्टर उचित मात्रा में बी12 की खुराक की सिफारिश कर सकता है। लेकिन अगर इस विटामिन की भारी कमी हो गई है और गंभीर लक्षण दिखाई दे रहे हैं तो सबसे पहले डॉक्टर से संपर्क करें और उचित इलाज कराएं। आपके शरीर में विटामिन बी12 की कमी है या नहीं और कितनी कमी है, इसे जांचने के लिए डॉक्टर ब्लड टेस्ट करवा सकते हैं।


विटामिन बी की कमी से होने वाले रोग (Vitamin B Ki Kami Se Rog)


विटामिन बी की कमी से कई रोग आपको हो सकते हैं। विटामिन बी को हम बी कॉम्प्लेक्स के नाम से भी जानते हैं क्योंकि इसमें कई बी विटामिंस सदस्य मौजूद होते हैं। ऐसे में इसकी कमी से आपको:


  • ‌बेरी बेरी
  • ‌पेलाग्रा
  • ‌एनीमिया
  • ‌केंद्रीय तंत्रिका तंत्र को नुकसान
  • ‌हृदय रोग
  • ‌उपरी श्वसन पथ का संक्रमण
  • ‌मानसिक रोग
  • ‌डिप्रेशन
  • ‌कमजोरी

अगर आपके शरीर में विटामिन बी की कमी से इन रोगों के लक्षण दिखाई दे रहे हैं तो बिना देर किए डॉक्टर से संपर्क करें। इसके अलावा, आप अपने आहार में बदलाव करके अधिकाधिक संख्या में विटामिन बी से युक्त भोज्य पदार्थों को शामिल करके भी विटामिन बी की कमी से होने वाले रोगों से छुटकारा पा सकते हैं।


विटामिन बी12 कितना होना चाहिए (What is the normal level of vitamin B12)


विटामिन बी12 का सामान्य स्तर 160 से 950 पिकोग्राम प्रति मिलीलीटर (पीजी/एमएल) या 118 से 701 पिकोमोल्स प्रति लीटर (पीएमओएल/एल) होना चाहिए। यह एक सामान्य स्तर है जोकि एक स्वस्थ व्यस्क में होना चाहिए। हालांकि बी12 का स्तर व्यक्ति, आयु, लिंग और अन्य कारणों से घट या बढ़ सकता है।


इसके अलावा, 200 और 300 पीजी/एमएल के बीच के स्तर को सीमा रेखा माना जा सकता है और आपका डॉक्टर दोबारा परीक्षण या आगे की जांच की सिफारिश कर सकता है। इसके साथ ही 200 पीजी/एमएल से नीचे का स्तर आम तौर पर विटामिन बी12 की कमी का संकेत देता है और आपका डॉक्टर संभवतः उपचार की सिफारिश करेगा।


निष्कर्ष (Conclusion)


विटामिन बी12 की कमी से एनीमिया, नर्वस सिस्टम के कार्यों में गड़बड़ी, मानसिक स्वास्थ्य खराब होना, जिह्वा की सूजन, गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल समस्याएं, तेजी से बाल झड़ना शुरू हो सकती हैं। इसके अलावा, विटामिन बी12 की कमी के लक्षणों में शामिल है थकान और कमजोरी, जीभ में सूजन, याददाश्त कमजोर होना, हृदय स्वास्थ्य खराब होना, दृष्टि संबंधित समस्याएं आदि।


ऐसे में अगर आपके शरीर में विटामिन बी12 की कमी हो जाए तो आपको अपने आहार में परिवर्तन कर लेना चाहिए। आहार में ऐसे खाद्य पदार्थों को शामिल कर सकते हैं जिसमें विटामिन बी12 की मात्रा अधिक हो जैसे मांस, पोल्ट्री, मछली, अंडे और डेयरी जैसे पशु उत्पादों का सेवन करें। फोर्टिफाइड अनाज, पौष्टिक खमीर और कुछ पौधे-आधारित दूध भी विकल्प हो सकते हैं। एक स्वास्थ्य व्यक्ति में विटामिन बी12 का सामान्य स्तर 160 से 950 पिकोग्राम प्रति मिलीलीटर (पीजी/एमएल) या 118 से 701 पिकोमोल्स प्रति लीटर (पीएमओएल/एल) होना चाहिए।


अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (Frequently Asked Questions)


1. विटामिन बी12 की कमी से क्या होता है?

विटामिन बी12 की कमी से एनीमिया, नर्वस सिस्टम के कार्यों में गड़बड़ी, मानसिक स्वास्थ्य खराब होना, जिह्वा की सूजन, गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल समस्याएं, तेजी से बाल झड़ना शुरू हो सकती हैं।


2. विटामिन बी12 की कमी के लक्षण क्या हैं?

विटामिन बी12 की कमी के लक्षणों में शामिल है थकान और कमजोरी, जीभ में सूजन, याददाश्त कमजोर होना, हृदय स्वास्थ्य खराब होना, दृष्टि संबंधित समस्याएं आदि।


3. विटामिन बी12 की कमी का खुद इलाज करने के तरीके क्या हैं?

अगर शरीर में सामान्य विटामिन बी12 की कमी हो गई हो तो आपको अपने आहार में मांस, पोल्ट्री, मछली, अंडे और डेयरी जैसे पशु उत्पादों का सेवन करें। फोर्टिफाइड अनाज, पौष्टिक खमीर और कुछ पौधे-आधारित दूध शामिल करना चाहिए।


4. शरीर में विटामिन बी12 की सामान्य मात्रा कितनी होती है?

विटामिन बी12 का सामान्य स्तर 160 से 950 पिकोग्राम प्रति मिलीलीटर (पीजी/एमएल) या 118 से 701 पिकोमोल्स प्रति लीटर (पीएमओएल/एल) होना चाहिए। यह एक सामान्य स्तर है जोकि एक स्वस्थ व्यस्क में होना चाहिए। हालांकि बी12 का स्तर व्यक्ति, आयु, लिंग और अन्य कारणों से घट या बढ़ सकता है।


References

files/author_Dr.-Shailendra-Chaubey-BAMS_300x_3fb01719-6325-4801-b35b-3fb773a91669.jpg

Dr. Shailendra Chaubey, BAMS

Ayurveda Practioner

A modern-day Vaidya with 11 years of experience. He is the founder of Dr. Shailendra Healing School that helps patients recover from chronic conditions through the Ayurvedic way of life.

Popular Posts

Leave a comment

Please note, comments need to be approved before they are published.

आपके बाल झड़ने का कारण क्या है?

डॉक्टरों द्वारा डिज़ाइन किया गया Traya का मुफ़्त 2 मिनट का हेयर टेस्ट लें, जो आपके बालों के झड़ने के मूल कारणों की पहचान करने के लिए आनुवांशिक, स्वास्थ्य, जीवनशैली और हार्मोन जैसे 20+ कारकों का विश्लेषण करता है।

हेयर टेस्ट लेTM