Skip to content

Supradyn Tablet uses in Hindi | सुप्राडिन टैबलेट के फायदे और नुकसान


Published:
Updated:
image

Supradyn Tablet, एक ऐसी एलोपैथी दवा जिसे आप आसानी से किसी भी मेडिकल स्टोर से बिना पर्ची यानी प्रिस्क्रिप्शन के पा सकते हैं। कई विटामिंस और मिनरल्स से भरपूर इस टैबलेट को कई स्वास्थ्य फायदे के लिए इस्तेमाल में लाया जाता है। खासतौर पर इसमें Vitamins जैसे A, D, B complex, C, E, zinc, iron, और calcium पाया जाता है। आमतौर पर इसका इस्तेमाल शरीर में पोषक की कमी होने पर किया जाता है।


इस ब्लॉग में हम इसी पावर टैबलेट के बारे में विस्तार से आपको जानकारी देंगे। न सिर्फ आप यह जानेंगे कि Supradyn tablet uses in Hindi क्या है, बल्कि सुप्राडिन टैबलेट के फायदे और नुकसान, इसके सेवन का तरीका, जरूरी सावधानियां, साइड इफेक्ट्स आदि कई प्रमुख बिंदुओं पर भी आपको जानकारी दी जाएगी।


सुप्राडिन टैबलेट क्या है (Supradyn Tablet in Hindi)


सुप्राडिन टैबलेट (Supradyn Tablet) एक पोषण पूरक है जिसमें मल्टीविटामिन, खनिज और अन्य कई पोषक तत्व होते हैं जो समग्र स्वास्थ्य में सुधार करते हैं। इसका उपयोग आमतौर पर अल्जाइमर रोग, एसिड अपच, एनीमिया के निदान या उपचार के लिए किया जाता है। इसके अलावा, अगर शरीर में पोषक तत्वों की कमी हो जाती है तो डॉक्टर इसके सेवन की सलाह देते हैं।


सुप्राडिन एक एलोपैथी दवा है जोकि आसानी से किसी भी मेडिकल स्टोर पर बिना किसी पर्ची यानी प्रिस्क्रिप्शन के मिल जाती है। लेकिन, इसके इस्तेमाल से पहले आपको सलाह दी जाती है कि एक बार डॉक्टर से संपर्क अवश्य करें। संतुलित भोजन का सेवन करने से ही हमारे शरीर को आवश्यक सभी पोषक तत्व प्राप्त हो जाते हैं, लेकिन फिर भी इन पोषक तत्वों की शरीर में कमी हो जाए तो डॉक्टर इसके सेवन की सलाह देते हैं।


सुप्राडिन टैबलेट के फायदे (Supradyn tablet uses in Hindi)


Supradyn Tablet uses in Hindi कई हैं, जैसे यह हमारे पूरे शरीर के स्वास्थ्य को सपोर्ट करता है, कुपोषण को दूर रखता है, एनीमिया रोग के जोखिम को कम करता है, हड्डियों को मजबूत बनाता है, कमजोरी दूर करता है, शरीर में प्रोटीन की कमी दूर करता है जिससे मांशपेशियों का निर्माण सही ढंग से होता है। आइए विस्तार से सुप्राडिन टैबलेट के फायदे पर बात करते हैं।


१. इम्यून सिस्टम को मजबूत करता है (Strengthens the immune system)


सुप्राडिन टैबलेट के फायदे की बात करें तो सबसे पहला और बड़ा फायदा है हमारी इम्यून सिस्टम को। यह हमारे इम्यून सिस्टम को मजबूत करता है जिससे संक्रमण से लड़ने में मदद मिलती है और हमारा शरीर बार बार बीमार पड़ने से भी बच जाता है। इसमें vitamins C, D, Zinc और अन्य कई पोषक तत्व पाए जाते हैं जोकि इम्यून सिस्टम को मजबूत करने और इसके कार्य को बेहतर करने में मदद करते हैं।


अगर शरीर में इन पोषक तत्वों की कमी हो जाए तो हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर हो जाती है और हम जल्दी जल्दी बीमार भी पड़ने लगते हैं। इसमें विटामिन सी और ई एंटीऑक्सीडेंट की तरह काम करते हैं जिससे ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस को दूर करता है जोकि इम्यून सिस्टम के सेल्स को कमजोर करने के लिए जिम्मेदार होते हैं। 


२. शरीर को ऊर्जावान बनाता है (Plays an important role in energizing the body)


शरीर को ऊर्जावान बनाने में भी सुप्राडिन टैबलेट use in Hindi है। अगर हमारे शरीर में ऊर्जा की कमी हो जाती है तो हम जल्दी थक जाते हैं, आलस्य और कमजोरी के शिकार हो जाते हैं, अत्यधिक नींद आने लगती है और साथ ही हमारी पर्सनल और प्रोफेशनल लाइफ भी नकारात्मक तरीके से प्रभावित होती है।ऐसे में शरीर ऊर्जावान रहे इसके लिए जरूरी है कि आप सुप्राडिन टैबलेट का सेवन डॉक्टर की सलाह के पश्चात करें। 


Supradyn Tablet में विटामिन बी पाया जाता है जोकि भोजन को एनर्जी में बदलने के लिए सबसे अहम होता है। इसके पश्चात, इसमें आयरन की मात्रा भी भरपूर होती है जिसकी कमी से एनीमिया और कमजोरी होती है। ऐसे में सुप्राडिन टैबलेट में मौजूद आयरन हड्डियों को मजबूती प्रदान करने के साथ ही, एनीमिया के जोखिम को कम करता है जिससे शरीर ऊर्जावान होता है।


३. एनीमिया के जोखिम को कम करता है (Reduces the risk of anemia)


एनीमिया एक ऐसा रोग है जिसमें हमारे शरीर में मौजूद खून में पर्याप्त मात्रा में red blood cells यानि लाल रक्त कोशिकाएं मौजूद नहीं होती हैं। लाल रक्त कोशिकाएं ही शरीर के विभिन्न भागों में ऑक्सीजन और पोषक तत्व पहुंचाने के लिए मददगार होती हैं। ऐसे में अगर किसी व्यक्ति को एनीमिया हो जाए तो ऑक्सीजन और जरुरी पोषक तत्वों के शरीर के हर भाग में न पहुंचने से कमजोर, थकान, त्वचा का पीला होना आदि हो सकता है।


इस परिस्थिति में Supradyn tablet मददगार साबित हो सकता है। इसमें आयरन प्रचुर मात्रा में मौजूद होती है जिससे शरीर एनीमिया के जोखिम से दूर हो जाता है। साथ ही यह हड्डियों और मांशपेशियों को भी मजबूती देता है ताकि वे सुचारू रूप से कार्य कर सकें।


४. त्वचा के स्वास्थ्य को बेहतर करता है (Helps improve skin health)


Supradyn Tablet uses in Hindi त्वचा स्वास्थ्य की वजह से भी किया जाता है। ऐसा इसलिए क्योंकि इसमें विटामिन सी और विटामिन ई प्रमुखता से पाया जाता है। ये दोनों ही विटामिन एंटीऑक्सीडेंट्स गुणों से युक्त होते हैं जिसकी वजह से free radical damage को कम किया जा सकता है। इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट्स गुण कई त्वचा संबंधित समस्याओं को भी दूर करने में मदद करता है जैसे एक्ने, पिंपल्स, रैशेज आदि।


अगर आपके शरीर में विटामिंस और मिनरल्स की कमी हो जाए तो इसका सीधा प्रभाव त्वचा पर भी पड़ता है। इससे आपकी त्वचा की रंगत बदल जाती है, त्वचा रूखी और बेजान दिखने लगती है। इस परिस्थिति में सुप्राडिन टैबलेट उन पोषक तत्वों की कमी को दूर करता है जिससे त्वचा साफ, स्वस्थ और सुंदर दिखने लगती है। 


५. बालों को स्वस्थ और मजबूत बनाता है (Makes hair healthy and strong)


बालों को स्वस्थ और मजबूत बनाने में भी Supradyn Tablet फायदेमंद है। बालों के स्वास्थ्य के लिए कुछ विटामिंस और मिनरल्स बेहद ही आवश्यक होते हैं जैसे आयरन, जिंक, बायोटिन, विटामिन ए, सी और डी। ये सभी पोषक तत्व बालों को मजबूत बनाने, उनका झड़ना रोकने, उन्हें लंबा और चमकदार बनाने में अहम भूमिका निभाते हैं। 


खुशी की बात तो यह है कि ये सभी पोषक तत्व आपको सुप्राडिन टैबलेट में मिल जाते हैं। सुप्राडिन में कुछ पोषक तत्व बाल विकास चक्र के विभिन्न चरणों में भी योगदान करते हैं। जैसा कि हमने आपको पहले ही बताया है, इसमें विटामिन सी और विटामिन ई पाया जाता है जोकि एंटीऑक्सीडेंट्स की तरह काम करते हैं। अगर कोई व्यक्ति बालों के लिए Supradyn गोली का उपयोग करता है तो इससे ऑक्सीडेटिव तनाव कम होता है जोकि बाल झड़ने का प्रमुख कारण है। 


लेकिन, अगर आपको बालों से संबंधित कोई भी समस्या है तो Supradyn Tablet का इस्तेमाल करने के बजाय Traya Hair Test दें। क्योंकि बाल झड़ना, रूसी या बालों का विकास न होना ढेरों कारणों से होता है और बिना कारण जाने समाधान करना हानिकारक होता है। Traya Hair Test फ्री है और इसकी मदद से आप यह जान पाते हैं कि आखिर समस्या है क्या, उस समस्या की वजह क्या है और अंत में उस समस्या का समाधान करने के लिए क्या करना चाहिए। 


६. हड्डियों को मजबूत बनाता है (Supradyn tablet strengthens bones) 


हड्डियों को मजबूती देने में भी Supradyn Tablet सहायक होता है और इसका कारण है इसमें मौजूद पोषक तत्व। जैसे कि इसमें Vitamin D3 पाया जाता है जो आपके शरीर को कैल्शियम को अवशोषित करने में मदद करता है, जो हड्डियों के निर्माण और उन्हें मजबूत बनाए रखने के लिए महत्वपूर्ण है। 


इसके साथ ही, हड्डियों का स्वास्थ्य बेहतर रहे इसके लिए विटामिन डी के अलावा आवश्यक होता है कैल्शियम और मैग्नीशियम। सुप्राडिन टैबलेट में ये दोनों ही खनिज पदार्थ आवश्यक मात्रा में पाए जाते हैं जिससे हड्डियों का स्वास्थ्य बेहतर होता है और वे मजबूत बनती है। इससे osteoporosis का खतरा भी कम हो जाता है। 


७. दांतों को स्वस्थ और मजबूत बनाता है (Helpful for teeth health and strength)


दांतों के स्वास्थ्य और मजबूती के लिए कुछ पोषक तत्व और खनिज पदार्थ काफी आवश्यक होते हैं। जैसे, कैल्शियम जोकि दातों को मजबूत करने और आकार देने में महत्वपूर्ण होता है तो वहीं विटामिन डी कैल्शियम के सही अवशोषण में मदद करता है। इसके पश्चात, विटामिन सी मसूड़ों की मजबूती के लिए जरूरी होता है तो वहीं विटामिन ए मुंह में mucous membranes को बनाए रखने में भूमिका निभाता है।


अब आते हैं Supradyn Tablet uses in Hindi पर, इसमें ऊपर बताए गए सभी पोषक तत्व और मिनरल्स पाए जाते हैं। जी हां, इसमें कैल्शियम, विटामिन डी, विटामिन सी और विटामिन ए प्रचुर मात्रा में पाया जाता है जिससे दांतों का स्वास्थ्य बेहतर होता है और वे मजबूत बनते हैं।


८. शरीर में रक्त संचार सही रखने में सहायक है (Helpful in improving blood circulation in the body)


हमारे शरीर में रक्त का प्रवाह या संचार सुचारू रूप से हो यह बेहद ही आवश्यक है। यह सुनिश्चित करता है कि रक्त और ऑक्सीजन पूरे शरीर में लगातार प्रवाहित हो, जिससे प्रत्येक अंग ठीक से काम कर सके। यह घावों को तेजी से ठीक करने में मदद करता है, यह आपके मस्तिष्क को तेज रखता है, यह आपके हृदय को स्वस्थ रखता है। साथ ही, यह शरीर से विषाक्त पदार्थों को दूर करने के लिए भी जरूरी होता है।


Supradyn Tablet uses in Hindi आपके शरीर में रक्त संचार को बेहतर करने में मदद करता है। इसमें विटामिन बी और ई मौजूद होता है जोकि रक्त वाहिकाओं को स्वस्थ रखते हैं और उन्हें आराम देते हैं। साथ ही, मैग्नीशियम और पोटेशियम मांसपेशियों के कार्य और तंत्रिका आवेगों में शामिल होते हैं, जो अप्रत्यक्ष रूप से रक्त प्रवाह को प्रभावित करते हैं। इस तरह सुप्राडिन टैबलेट के फायदे शरीर में रक्त संचार को बेहतर करने के लिए भी है।


सुप्राडिन टैबलेट की संरचना (Composition of Supradyn tablet in Hindi)


सुप्राडिन टैबलेट कई महत्वपूर्ण पोषक तत्वों को मिलाकर बनाया गया है ताकि यह शरीर की विभिन्न स्वास्थ्य संबंधित दिक्कतों को दूर कर सके और साथ ही आवश्यक पोषण प्रदान कर सके। आइए एक नजर डालते हैं Supradyn tablet composition पर:


  • ‌Calcium Pantothenate
  • ‌Calcium Phosphorus
  • ‌Copper Sulphate
  • ‌Dried Ferrous Sulphate
  • ‌Magnesium Oxide
  • ‌Manganese Sulphate
  • ‌Nicotinamide
  • ‌Sodium Borate
  • ‌Sodium Molybdate
  • ‌Vitamin A
  • ‌Vitamin B1
  • ‌Vitamin B12
  • ‌Vitamin B2
  • ‌Vitamin B6
  • ‌Vitamin C
  • ‌Vitamin D
  • ‌Vitamin E
  • ‌Vitamin H
  • ‌Zinc Sulphate

आमतौर पर इसे एक मल्टीविटामिन सप्लीमेंट का दर्जा दिया जाता है क्योंकि इसमें सभी विटामिंस मौजूद होते हैं। कमजोरी, पोषण की कमी, प्रोटीन की कमी, विटामिन बी की कमी आदि कई परिस्थितियों में डॉक्टर आपको इसके सेवन की सलाह दे सकते हैं। 


सुप्राडिन टैबलेट का महत्व (Importance of Supradyn Tablet in Hindi) 


सुप्राडिन टैबलेट हमारे पूरे शरीर के स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है। इसका कारण है इसमें मौजूद ढेरों पोषक तत्व और खनिज पदार्थ। हमारा शरीर भी इन्हीं खनिज पदार्थों और पोषक तत्वों की देन है। हमारा चलना फिरना, बोलना, देखना, सुनना आदि किसी भी एक्टिविटी को सुचारू रूप से होने देने और शरीर के समग्र विकास में इन्हीं विटामिंस और मिनरल्स का हाथ होता है।


खासतौर पर मल्टीविटामिन, जोकि शरीर के सभी अंगों के लिए काफी महत्वपूर्ण होते हैं। त्वचा से लेकर हृदय और हड्डियों से लेकर आंखों तक सबकुछ इसलिए सुचारू रूप से कार्य करते हैं क्योंकि हमारे शरीर में मल्टीविटामिन यानी कई विटामिनों का समूह उचित मात्रा में मौजूद है। Supradyn Tablet में ये सभी पोषक तत्व मिल जाते हैं जिसके सेवन से आप शरीर को पोषण दे सकते हैं।

सुप्राडिन टैबलेट के नुकसान (Disadvantages of Supradyn Tablets in Hindi)


आपको हम बताते चलें कि सुप्राडिन टैबलेट के फायदे और नुकसान दोनों हैं। एक तरफ जहां यह समग्र स्वास्थ्य को बेहतर बनाता है तो वहीं दूसरी तरफ अगर इसका सेवन मनमाना ढंग से बिना डॉक्टर की सलाह के किया जाए तो परिणाम नकारात्मक देखने पड़ सकते हैं। आइए जानते हैं कि सुप्राडिन टैबलेट के नुकसान क्या हैं:


  • ‌पेट की परेशानी 
  • ‌कब्ज
  • ‌मतली
  • ‌उल्टी
  • ‌दस्त
  • ‌मुँहासे
  • ‌पेट में ऐंठन
  • ‌सूजन
  • ‌वजन बढ़ना
  • ‌जिल्द की सूजन और एक्जिमा

अगर आपने डॉक्टर की परामर्श के पश्चात इसका सेवन किया है और ऊपर दी गई किसी भी एलर्जिक रिएक्शन या समस्या का आप सामना करते हैं तो तुरंत ही सुप्राडिन टैबलेट का सेवन बंद कर दें। इसके पश्चात अपने डॉक्टर को इसकी वजह से होने वाली साइड इफेक्ट्स के बारे में बताएं। हालांकि सुप्राडिन टैबलेट के साइड इफेक्ट्स आम नहीं हैं।


सुप्राडिन टैबलेट लेने का तरीका (How to take Supradyn Tablets in Hindi)


Supradyn Tablet हालांकि आपको बिना डॉक्टर के प्रिस्क्रिप्शन के मिल सकती है लेकिन बिना डॉक्टर की सलाह और अनुशंसित मात्रा को जाने बिना इसका सेवन करना हानिकारक साबित हो सकता है। हालांकि हम आपको सुप्राडिन टैबलेट लेने का तरीका बता रहे हैं लेकिन यह एक सामान्य तरीका है जोकि सभी पर लागू नहीं होता है।


आपको प्रतिदिन एक सुप्राडिन डेली टैबलेट लेने की सलाह दी जाती है, भोजन के बाद या अपने चिकित्सक के निर्देशानुसार। गोली को पानी के साथ निगल लें। प्रतिदिन एक गोली लें या चिकित्सक के निर्देशानुसार लें। इसके सेवन से पूर्व एक्सपायरी डेट अवश्य जांचें ताकि किसी प्रकार का साइड इफेक्ट्स न झेलना पड़े। उम्मीद है आप supradyn daily tablet uses in Hindi समझ गए होंगे। अगर आप दूध या अन्य किसी भी पदार्थ के साथ इसका सेवन करना चाहते हैं तो पहले डॉक्टर से परामर्श लें।


सुप्राडिन टैबलेट से जुड़ी सावधानियां (Precautions related to Supradyn Tablets)


Supradyn Tablet से जुड़ी कुछ सावधानियां हैं जिसे आपको बिलकुल भी नजरंदाज नहीं करना चाहिए। ये सावधानियां इस प्रकार हैं:


  • ‌ठंडे जगह पर स्टोर करें
  • ‌सीधी गर्मी और धूप से दूर रखें
  • ‌बच्चों की पहुंच से दूर रखें
  • ‌एक्सपायरी डेट का ध्यान रखें
  • ‌ओवरडोज से बचें
  • ‌किसी बीमारी के इलाज के लिए इसका सेवन न करें
  • ‌गर्भवती महिलाओं को बिना डॉक्टर की सलाह के बिल्कुल सेवन न करें
  • ‌स्तनपान कराने वाली महिलाओं को इसके सेवन से पूर्व डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए 
  • ‌अगर साइड इफेक्ट्स दिखाई दें तो सेवन तुरंत बंद करें और डॉक्टर को सूचित करें

ये कुछ सावधानियां हैं जिन्हें आपको ध्यान रखकर ही Supradyn tablet uses in Hindi करना चाहिए। अगर आप इन बातों को ध्यान में नहीं रखते हैं तो आपको नुकसान झेलना पड़ सकता है।


निष्कर्ष (Conclusion)

Supradyn tablet uses in Hindi तो कई सारे हैं जैसे इसके सेवन से हड्डियों का स्वास्थ्य बेहतर होता है, इम्यून सिस्टम मजबूत बनती है, बालों से संबंधित समस्या दूर होती है, त्वचा और नाखूनों के लिए फायदेमंद है, शरीर में रक्तसंचार बेहतर होता है, एनीमिया रोग का जोखिम कम होता है। लेकिन एक बात का ध्यान रखा जाना चाहिए कि सुप्राडिन टैबलेट के फायदे और नुकसान दोनों हैं।


इसके फायदे में शामिल है उल्टी, मितली, पेट दर्द, पेट खराब होना, मुंहासे, सूजन आदि। इसलिए आपको सलाह दी जाती है कि Supradyn tablet uses से पहले डॉक्टर से परामर्श अवश्य लें। 


अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (Frequently Asked Question)


१. सुप्राडिन टैबलेट लेने का तरीका क्या है?

आपको प्रतिदिन एक सुप्राडिन डेली टैबलेट लेने की सलाह दी जाती है, भोजन के बाद या अपने चिकित्सक के निर्देशानुसार। गोली को पानी के साथ निगल लें। प्रतिदिन एक गोली लें या चिकित्सक के निर्देशानुसार लें। 


२. सुप्राडिन टैबलेट किस काम आती है?

सुप्राडिन टैबलेट शरीर को आवश्यक पोषक तत्त्व प्रदान करने के काम आता है। अगर शरीर कुपोषण से जूझ रहा है तो Supradyn Tablet शरीर को पोषण प्रदान करता है। साथ ही यह एनीमिया के खतरे को कम करता है, रक्त संचार बेहतर बनाता है, हड्डियों बालों और त्वचा की स्वास्थ्य के लिए मददगार है। 


३. सुप्राडिन मल्टीविटामिन में कौन कौन से विटामिन होते हैं?

सुप्राडिन मल्टीविटामिन में विटामिन ए, बी, सी, डी, ई और एच पाया जाता है। इनके अलावा, इसमें अन्य कई खनिज पदार्थ और पोषक तत्व जैसे आयरन, प्रोटीन, कैल्शियम, जिंक आदि भी पाया जाता है।


४. सुप्राडिन का सेवन कब करना चाहिए?

सुप्राडिन का सेवन रोजाना भोजन करने के बाद सुबह के समय करना चाहिए। गोली को पानी के साथ निगल लें। प्रतिदिन एक गोली लें या चिकित्सक के निर्देशानुसार लें। 


५. क्या सुप्राडिन पुरुषों के लिए अच्छा है?

सुप्राडिन पुरुषों और महिलाओं दोनों के लिए अच्छा है। यह महिलाओं और पुरुषों दोनों में इम्यून सिस्टम को मजबूत करता है, एनीमिया के खतरे को कम करता है, हड्डियों को मजबूती प्रदान करता है और रक्त प्रवाह को बढ़ाता है।


References

files/author_Dr.-Shailendra-Chaubey-BAMS_300x_3fb01719-6325-4801-b35b-3fb773a91669.jpg

Dr. Shailendra Chaubey, BAMS

Ayurveda Practioner

A modern-day Vaidya with 11 years of experience. He is the founder of Dr. Shailendra Healing School that helps patients recover from chronic conditions through the Ayurvedic way of life.

Popular Posts

Leave a comment

Please note, comments need to be approved before they are published.

आपके बाल झड़ने का कारण क्या है?

डॉक्टरों द्वारा डिज़ाइन किया गया Traya का मुफ़्त 2 मिनट का हेयर टेस्ट लें, जो आपके बालों के झड़ने के मूल कारणों की पहचान करने के लिए आनुवांशिक, स्वास्थ्य, जीवनशैली और हार्मोन जैसे 20+ कारकों का विश्लेषण करता है।

हेयर टेस्ट लेTM