Skip to content

Biotin Tablet Uses in Hindi - बायोटिन के फायदे, नुकसान और कमी के लक्षण


Published:
Updated:
image

Biotin (बायोटिन), जिसे विटामिन बी7 और विटामिन एच भी कहा जाता है आपके पूरे स्वास्थ्य के लिए काफी लाभकारी है । यह आपके नर्वस सिस्टम, लीवर, आंखों, बालों और त्वचा को स्वस्थ बनाने में अहम भूमिका निभाता है । यहां तक कि यह गर्भावस्था की स्तिथि में भी काफी फायदेमंद साबित होता है।  

इसका कार्य है आपके शरीर में मौजूद भोजन को एनर्जी में बदलने में मदद करना । आप जिस भोजन का सेवन करते हैं, उसी से आपको इसकी प्राप्ति भी होती है परंतु वर्तमान समय का खानपान कुछ ऐसा है कि कई बार हमारे शरीर को उचित मात्रा में बायोटिन नहीं मिल पाता और हमारा स्वास्थ्य खराब हो जाता है । जो भोजन आप खाते हैं, अगर उसे सही ढंग से एनर्जी में कनवर्ट नहीं किया गया तो आपको त्वचा संबंधी समस्याएं, बाल और नाखून की समस्याएं, तंत्रिका संबंधी लक्षण, मांसपेशियों में दर्द और कमजोरी आदि का सामना करना पड़ सकता है ।

हालांकि शरीर को इसकी जरूरत कम ही होती है और यह रोज खाए जाने वाले भोजन से हमें प्राप्त हो जाता है लेकिन अगर शरीर में इसकी कमी हो जाए तो डॉक्टर एक ही सलाह देंगे - Biotin Tablet Use करने का । परंतु यह टैबलेट क्या है, कैसे काम करता है, इसके फायदे और नुकसान क्या हैं, इसकी कितनी मात्रा लेनी चाहिए जैसे कई प्रश्न भी आपके मन में आते होंगे । तो चलिए इस ब्लॉग में Biotin Tablet Uses in Hindi से जुड़े आपके सभी प्रश्नों का हम जवाब देते हैं ।


बायोटिन क्या है ? (What is Biotin)

बायोटिन पानी में घुल जाने वाला एक विटामिन है, जिसे विटामिन एच भी कहा जाता है । यह शरीर के लिए भोजन को ऊर्जा में बदलने में मदद करता है । यह खासतौर पर बालों और नाखूनों की अच्छी सेहत के साथ ही चमकदार त्वचा के लिए भी जरूरी होता है । 

आमतौर पर इसकी कमी भोजन से ही पूरी हो जाती है । जिस भोजन का सेवन आप रोजाना करते हैं, उससे उचित मात्रा में शरीर को बायोटिन प्राप्त हो जाता है । परंतु कुछ ऐसे मामले भी आते हैं जब शरीर में इसकी कमी हो जाती है और इससे हेयर लॉस, खराब स्किन, डैंड्रफ और रूसी की समस्या उत्पन्न होने का खतरा बढ़ जाता है । लेकिन इसके लिए भी बायोटिन टैबलेट का इस्तेमाल किया जा सकता है जोकि बाजार में आसानी से उपलब्ध है । 

खासतौर पर इसका इस्तेमाल हेयर लॉस (Hair Loss) में किया जाता है । इसका इस्तेमाल न सिर्फ बालों का झड़ना रोकता है बल्कि रूसी से भी आपकी रक्षा करता है । इसलिए Traya के सभी हेयर केयर उत्पादों में हम बायोटिन का इस्तेमाल करते हैं ताकि आपके बाल मजबूत बनें और आप रूसी से भी छुटकारा पाएं । अगर आप बाल झड़ने और रूसी जैसी बाल संबंधित समस्याओं से परेशान हैं तो अवश्य एक बार Hair Test दें और तुरंत समाधान पाएं । इसके अलावा अगर आप Biotin for hair loss को लेकर जिज्ञासु हैं तो भी आप हेयर टेस्ट दें और हमारे एक्सपर्ट्स से भी बात कर सकते हैं ।

इसे भी पढ़ें: बालों के झड़ने का आयुर्वेदिक इलाज

Biotin Tablet Uses in Hindi (बायोटिन का उपयोग)

जैसा कि हमने आपको बताया, बायोटिन टैबलेट की वजह से आपके शरीर को कई फायदे प्राप्त होते हैं । यह न सिर्फ आपके बालों और नाखूनों के लिए फायदेमंद है बल्कि आपकी त्वचा को भी निखारता है । आइए विस्तार से Biotin Tablet Uses in Hindi जानते हैं:

1. बालों और नाखूनों के स्वास्थ्य के लिए (Biotin for Hair and Nails)

Biotin Tablet का सबसे अहम और महत्वपूर्ण इस्तेमाल होता है बालों और नाखूनों की अच्छी सेहत के लिए । बायोटिन उन लोगों में बालों के विकास में सहायता कर सकता है जिनके बाल बायोटिन की कमी के कारण पतले हो जाते हैं या झड़ने लगते हैं  । इसके लिए वर्ष 2012 की एक स्टडी पर गौर करना बहुत महत्वपूर्ण हो जाता है जिसमें पतले बालों वाली महिलाओं को 6 महीने के लिए बाल विकास सप्लीमेंट दिया गया जिसमें बायोटिन शामिल था । 

जिन लोगों ने बाल विकास सप्लीमेंट प्राप्त किया, उन्होंने उपचार अवधि के बाद बालों की कुल मात्रा, सिर की त्वचा की कवरेज और मोटाई में स्पष्ट वृद्धि दर्ज की । इसके पीछे का विज्ञान यह है बायोटिन केराटिन के संश्लेषण में शामिल है, यह एक प्रोटीन है जो बालों और नाखूनों की संरचना बनाता है। चूँकि हमारे बाल मुख्य रूप से केराटिन से बने होते हैं, इसलिए बायोटिन बालों की मजबूती में योगदान दे सकता है । ज्यादा जानकारी के लिए आप How to use biotin पढ़ सकते हैं ।

Traya's Hair Vitamin with Biotin

 

2. कमजोरी और थकान को कम करने के लिए (Helps Reduce Stress)

अगर आपको अक्सर कमजोरी और थकान महसूस होती है तो इसका एक कारण शरीर में बायोटिन की कमी हो सकती है । ऐसे में अगर आप बायोटिन कैप्सूल का सेवन करते हैं तो यह आपकी थकान और कमजोरी को दूर करने में मददगार साबित हो सकता है । यह फैटी एसिड, अमीनो एसिड के उत्पादन और पोषक तत्वों को ऊर्जा में परिवर्तित करने की क्षमता में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है ।

इसके अलावा, आपको पता होना चाहिए कि बायोटिन विटामिन बी कॉम्प्लेक्स का ही एक हिस्सा है और बी विटामिंस हमारे शरीर को ऊर्जा प्रदान कर्जे ने अहम भूमिका निभाते हैं । तो अगर आपको अक्सर कमजोरी और थकान महसूस होती है तो आप डॉक्टर की सलाह के बाद इसका सेवन कर सकते हैं ।

3. रक्त चालने के लिए (Increases Blood Circulation) 

बायोटिन रक्त चालने में भी मददगार साबित होता है । यह अन्य विटामिन की तरह ही हिमोग्लोबिन के उत्पादन में सहायक होता है । यह ग्लुकोनियोजेनेसिस में भी योगदान करता है जो रक्त में ग्लूकोज का निर्माण है । अक्सर हम व्रत रखते हैं या कई वजहों से लंबे समय तक भूखे रखते हैं, इस स्तिथि में ये प्रोसेस्ड रक्त ग्लूकोज की मात्रा को बनाए रखने में मदद करता है ।

साथ ही बायोटिन टेबल का इस्तेमाल अगर आप करते हैं तो यह अमीनो एसिड कैटाबोलिज्म में भी योगदान करता है जिसमें अमीनो एसिड्स के टुकड़े किए जाते हैं । इससे रक्त में अमीनो एसिड का संतुलन बना रहता है । कुछ अध्ययनों में यह भी पाया गया है कि बायोटिन इन्सुलिन के प्रति संवेदनशील बनने में भी मदद करता है । तो कुल मिला जुलाकर देखा जाए तो यह आपके रक्त के लिए भी काफी फायदेमंद है ।

4. त्वचा के लिए (Biotin Uses for Skin)

बायोटिन कैप्सूल का इस्तेमाल चमकदार त्वचा के लिए भी किया जा सकता है । कई लोगों में ऐसा देखा गया है कि विटामिन एच की कमी की वजह से उनमें त्वचा से संबंधित समस्याएं उत्पन्न होती हैं । विटामिन एच की कमी से उनकी त्वचा के आंतरिक स्वास्थ्य और बाहरी स्वरूप में कुछ समस्याएं पैदा हो सकती हैं। त्वचा संबंधी अन्य समस्याओं में शुष्क, खुजलीदार त्वचा या मुँहासे शामिल हैं । 

इन सभी परेशानियों से छुटकारा पाने के लिए बायोटिन टैबलेट महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है । शोध में पाया गया है कि बायोटिन त्वचा में हाइड्रेशन को बनाए रखती है और इसे निखारती भी है । जैसा कि हमने आपको पहले ही बताया, यह फैटी एसिड के निर्माण में शामिल होता है जो त्वचा को पोषण प्रदान करता है, मुँहासों को साफ़ करने में मदद करता है, जवान त्वचा को बढ़ावा देता है ।

5. नर्वस सिस्टम के लिए (Regulates Nervous System)

Biotin Tablet में Vitamin B7 मौजूद होता है जोकि नर्वस सिस्टम के लिए महत्वपूर्ण है क्योंकि ये एक बी विटामिन है जो शरीर को न्यूरोलॉजिकल फंक्शन में योगदान करता है । यह Neurotransmitter Acetyl Cho के उत्पादन के लिए जिम्मेदार है जोकि नर्वस को सिग्नल भेजने में सहायक है । साथ ही, जो नर्व फाइबर होती हैं उनकी रक्षा करने के लिए Myelin Sheath जिम्मेदार होता है और इसके सुचारू रूप से कार्य करने के लिए भी बायोटिन अहम भूमिका निभाता है ।

बायोटिन की कमी के लक्षण जैसे डिप्रेशन, सुस्ती, मतिभ्रम, सुन्नता और झुनझुनी आदि अगर आपको दिखाई दे रही हैं तो बायोटिन टैबलेट का इस्तेमाल फायदेमंद हो सकता है । इसके अलावा अगर आप पोषक तत्वों से भरपूर भोजन का सेवन करते हैं तो भी आपके शरीर को उचित मात्रा में इसकी प्राप्ति होगी और आप तंदरुस्त बने रहेंगे ।

6. प्रेग्नेंसी के लिए (Support during Pregnancy) 

कुछ महिलाएं गर्भावस्था यानी प्रेग्नेंसी के दौरान बायोटिन का सेवन करती हैं क्योंकि यह बच्चे के विकास में मदद करता है । यह भ्रूण के विकास में शामिल है और यह भ्रूण के तंत्रिका तंत्र के निर्माण में योगदान देता है । ऐसे में शरीर को अगर इसकी भरपूर मात्रा प्राप्त होती है तो भ्रूण (embryo) का सही विकास हो पाता है ।

इसके साथ ही, अगर हम बात करें बच्चे के मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी का निर्माण की तो, इसमें भी बायोटिन टैबलेट मदद करता है । यह गर्भावस्था के दौरान मां के संपूर्ण स्वास्थ्य के लिए भी महत्वपूर्ण है । यह ऊर्जा चयापचय में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है और विभिन्न जैव रासायनिक प्रतिक्रियाओं का समर्थन करता है जो मां और भ्रूण दोनों के स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण हैं ।

7. मेटाबॉलिज्म के लिए (Regulates metabolism)

बायोटिन की कमी के कारण metabolic processes में रुकावट आती है, जिससे कि शरीर के कई कार्य प्रभावित होते हैं । ऐसे में अगर आप Biotin Tablet का इस्तेमाल करते हैं तो यह कार्बोहाइड्रेट में मौजूद ग्लूकोड की ऊर्जा में बदल देता है । 

इसके अलावा, इसका एक फायदा यह भी है कि यह शरीर में अमीनो एसिड्स की मात्रा बढ़ाने में भी सहायता करता है जिससे शरीर अपना कार्य सुचारू ढंग से करता रहे । 

8. डायबिटीज के मरीजों के लिए (Helpful for Diabetic Patients)

हालांकि डायबिटीज के मरीजों के लिए बायोटिन टैबलेट सीधा कोई इलाज नहीं है लेकिन कुछ अध्ययन सुझाते हैं कि बायोटिन इन्सुलिन के प्रति संवेदनशील बनने में मदद कर सकता है । इन्सुलिन एक हार्मोन है जो रक्त में ग्लूकोज का इस्तेमाल बढ़ाता है । डायबिटीज के मरीजों में इन्सुलिन सेंसिटिविटी का संवेदनहीन होना एक समस्या होती है और यह टैबलेट टैबलेट इसमें मरीज की मदद कर सकता है ।

साथ ही, वर्तमान में Peripheral Neuropathy में भी छोटे स्तर पर ही बायोटिन का उपयोग किया जा रहा है । पेरीफेरल न्यूरोपैथी की वजह से नर्व डैमेज होता है और इससे हाथ पैरों में चुभन, दर्द या कमजोरी हो जाती है ।

Disadvantages of biotin capsule (बायोटिन कैप्सूल के नुकसान)

हालांकि बायोटिन के नुकसान सीधे तौर पर तो आपको नहीं होंगे लेकिन अगर इसका इस्तेमाल आप जरूरत से ज्यादा करते हैं और डॉक्टर की परामर्श नहीं मानते हैं तो निम्नलिखित नुकसान आपको झेलना पड़ सकता है ।

1. एलर्जी प्रतिक्रियाओं की संभावना (Can cause allergies)

दुनिया में ऐसा कोई उत्पाद नहीं है, जिससे कुछ लोगों को एलर्जी न हो । खाद्य पदार्थों से लेकर दवाइयों तक, सभी उत्पाद हर व्यक्ति के लिए फायदेमंद नहीं होते हैं । ठीक यही बात बायोटिन टैबलेट पर भी लागू होता है । कुछ व्यक्तियों को बायोटिन की खुराक से एलर्जी हो सकती है, जिससे खुजली, सूजन या सांस लेने में कठिनाई जैसी एलर्जी प्रतिक्रियाएं हो सकती हैं ।

इसमें अक्सर बायोटिन कैप्सूल की गलती नहीं होती है बल्कि आपका खुद का Immune System ही उसे विदेशी सब्सटेंस मान बैठता है और उसे लगता है कि यह शरीर के लिए अच्छा नहीं है । ऐसे में वह तुरंत रिस्पॉन्स देने की कोशिश करता है और इस प्रक्रिया में histamines और अन्य केमिकल रिलीज होने लगते हैं जिससे एलर्जी के लक्षण दिखाई देते हैं ।

 

2. कुछ दवाओं के साथ खराब तालमेल (Can interact with Medication)

अगर आप अपने किसी भी स्वास्थ्य संबंधित परेशानी या स्तिथि के लिए दवाएं ले रहे हैं तो हो सकता है कि बायोटिन टैबलेट का इस्तेमाल करना फायदेमंद न साबित हो । बायोटिन की खुराक कुछ दवाओं के साथ परस्पर क्रिया कर सकती है, जिससे अवशोषण या प्रभावशीलता प्रभावित हो सकती है ।

अगर आप दवाएं ले रहे हैं, खासकर कि मिर्गी जैसे रोग के लिए तो सबसे पहले डॉक्टर से अवश्य परामर्श लें । बायोटिन कैप्सूल आपकी अन्य दवाओं के साथ कई बार तालमेल बिठाने में नाकामयाब हो सकता है ।

 

3. रक्त शर्करा के स्तर में कमी (May lead to decrease in blood glucose levels)

Biotin के कैप्सूल या टैबलेट अगर आप लेना चाहते हैं तो सबसे पहले आपको अपने डॉक्टर से परामर्श लेना चाहिए । इसके अलावा, हमेशा ध्यान रखें कि इसका जरूरत से ज्यादा सेवन भी आप न करें क्योंकि यह फायदे की जगह आपको नुकसान भी पहुंचा सकता है । 

अत्यधिक सेवन से आपके रक्त शर्करा के स्तर में कमी आ सकती है जो अंततः आपकी पूरी सेहत को प्रभावित करेगा । इसलिए डॉक्टर के द्वारा सुझाए गया मात्रा में ही इसका सेवन करें ।


बायोटिन की कमी के लक्षण ( Symptoms of Biotin Deficiency)

अगर आपके शरीर में बायोटिन की कमी हो जाती है, तो इसके कई लक्षण दिखने शुरू हो जायेंगे । हमने नीचे बायोटिन की कमी के लक्षण को सूचीबद्ध किया है, जिसे आप देख सकते हैं:

  • ‌बायोटिन की कमी से बालों का गिरना शुरू हो सकता है
  • ‌इसकी कमी से नाखूनों में दुर्बलता आती है और वे चिपक लगते हैं
  • ‌इसकी कमी से खुश्की, खुजली और रैशेज जैसी समस्याएं देखने को मिल सकती हैं
  • ‌इसकी कमी मांसपेशियों में दर्द का कारण भी बन सकती है
  • ‌इसकी कमी की वजह से बच्चों का विकास सही ढंग से नहीं हो पाता
  • ‌यह अगर कम हो तो ब्लड शुगर लेवल भी बढ़ जाता है
  • ‌बायोटिन की कमी से डिप्रेशन, सुस्ती और सुन्न  होने की समस्या भी उत्पन्न हो सकती है 

तो इस तरह आपने देखा कि अगर आपके शरीर के इसकी कमी हो जाए तो आपको ढेरों प्रोब्लेम्स का सामना करना पड़ सकता है । ऐसे में आपको उचित मात्रा में पोषणयुक्त भोजन का सेवन करना चाहिए । इसके साथ ही, अगर भोजन की वजह से आपके शरीर को बायोटिन की पूर्ति ठीक से नहीं हो रही है तो आप इसका टैबलेट भी इस्तेमाल कर सकते हैं ।


Biotin Tablet का सेवन रोज कितना करना चाहिए ?

बायोटिन टैबलेट का सेवन हर व्यक्ति के लिए अलग अलग होती है । अगर आप एक एडल्ट हैं तो 30 से 100 माइक्रोग्राम बायोटिन का सेवन प्रतिदिन कर सकते हैं । परंतु अगर आप अपने बालों और नाखूनों के विकास के लिए इसका इस्तेमाल करना चाहते हैं तो रोजाना 2000 से 5000 माइक्रोग्राम बायोटिन का सेवन कर सकते हैं ।

कुछ परिस्थितियां जैसे biotinidase deficiency या अन्य स्तिथियां जिसमें बायोटिन के अवशोषण में दिक्कत होती है, इसमें डॉक्टर ज्यादा डोज लेने की सलाह देते हैं । इसके साथ ही अगर आप गर्भवती हैं तो भी आपको अपने डॉक्टर से संपर्क करके इसका डोज लेना चाहिए । हम आपको सुझाव देते हैं कि बिना डॉक्टर के परामर्श के इसका सेवन कभी नहीं करना चाहिए ।


बायोटिन सप्लीमेंट कब और कैसे लें ( When and how to take biotin supplement)

बायोटिन सप्लीमेंट्स लेने का कोई एक निश्चित समय नहीं है, हालांकि आप रात के समय सोने से पहले इसका सेवन कर सकते हैं । अगर आप एक एडल्ट हैं तो 30 से 100 एमसीजी प्रतिदिन और अगर आप बालों के विकास के लिए इसे इस्तेमाल करना चाहते हैं तो रोजाना 2000 से 5000 एमसीजी का सेवन कर सकते हैं ।

अगर आपको आपके डॉक्टर से बायोटिन सप्लीमेंट लेने की सलाह मिलती है तो इसका लगातार इस्तेमाल करें तभी जाकर आपको इसके फायदे महसूस होंगे । यह गर्भवती महिलाओं और दूध पिला रही महिलाओं के लिए भी फायदेमंद है लेकिन इसके लिए पहले अपने डॉक्टर से परामर्श लें।


बायोटिन किन भोज्य पदार्थों में पाया जाता है ? ( In which foods is biotin found?)

बायोटिन विभिन्न प्रकार के खाद्य पदार्थों में पाया जाता है और इसे संतुलित आहार के माध्यम से प्राप्त करना आम तौर पर रिकमेंड भी किया जाता है । आप अगर संतुलित आहार लेते हैं तो आपको बायोटिन टैबलेट लेने की अवश्यकता नहीं पड़ेगी । आइए देखते हैं उन खाद्य पदार्थों को, जिनसे हमें यह प्राप्त होता है: 

  • ‌अंडे: बायोटिन अंडे की जर्दी में पाया जाता है। एक बड़े पके हुए अंडे में लगभग 10 माइक्रोग्राम बायोटिन होता है ।
  • ‌मीट: जीवित मांस जैसे अंग मांस में महत्वपूर्ण मात्रा में बायोटिन होता है जो प्रति 3 औंस पकाए गए हिस्से में लगभग 3 से 5 माइक्रोग्राम प्रदान करता है ।
  • ‌मछली: सैल्मन और टूना में बायोटिन होता है । इन मछलियों की थोड़ी सी मात्रा लगभग 5 से 6 माइक्रोग्राम बायोटिन प्रदान करती है ।
  • ‌सब्जियां: ब्रोकोली और पालक सहित कुछ सब्जियों में थोड़ी मात्रा में बायोटिन होता है । एक कप पका हुआ पालक लगभग 1 माइक्रोग्राम बायोटिन प्रदान करता है ।

निष्कर्ष

अगर आप हेयर लॉस और रूसी जैसी समस्याओं से जूझ रहे हैं तो आपके लिए बायोटिन का इस्तेमाल काफी फायदेमंद हो सकता है । इसके अलावा हमने Biotin Tablet Uses in Hindi के अन्य कई फायदे भी हैं जिनके बारे में हमने विस्तार से आपको बताया ।

हमारी Traya Products में भी बायोटिन की मौजूदगी है जो आपके बालों को मजबूत बनाती है और झड़ने से रोकती है । अगर आपको बालों से संबंधित कोई भी समस्या है तो तुरंत हेयर टेस्ट लें और अपनी बालों की समस्या को कहें बाय बाय ।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (Frequently Asked Questions)

बायोटिन टैबलेट का क्या काम है ?

बायोटिन टैबलेट का कार्य शरीर के विभिन्न भागों को स्वस्थ रखना है । यह कमजोर नाखून, झड़ते बाल, कमजोरी और थकान, खराब त्वचा आदि में सहायक होता है । साथ ही यह शरीर में मेटाबॉलिज्म की प्रक्रिया को भी सुधारता है ।


1 दिन में कितना बायोटिन लेना चाहिए ?

अगर आप एक एडल्ट हैं तो आपको एक दिन में लगभग 30 से 100 माइक्रोग्राम बायोटिन लेना चाहिए । हालांकि अगर आप अपने बालों और नाखूनों का विकास करना चाहते हैं तो यह मात्रा 2000 से 5000 माइक्रोग्राम हो सकती है ।


क्या बायोटिन से बाल बढ़ते हैं ?

बायोटिन केराटिन के संश्लेषण में शामिल है जो एक प्रोटीन है जो बालों, त्वचा और नाखूनों की संरचना बनाता है । चूँकि हमारे बाल मुख्य रूप से केराटिन से बने होते हैं इसलिए बायोटिन बालों को बढ़ाने में योगदान दे सकता है ।


किस भोजन में बायोटिन होता है ?

अंडे, मीट, मछली और सब्जियों में बायोटिन होता है । खासतौर पर अंडे और मीट में उचित मात्रा में बायोटिन पाया जाता है ।


बालों के लिए आवश्यक बायोटिन की मात्रा क्या है ?

बालों के लिए आवश्यक बायोटिन की मात्रा 500 माइक्रोग्राम से लेकर 1000 माइक्रोग्राम तक है । यह पूरी तरह व्यक्ति और उसके बालों की स्तिथि पर निर्भर करता है । 


चबाने वाली बायोटिन बनाम पारंपरिक विटामिन में से क्या चुनना चाहिए ?

अक्सर यह पूछा जाता है कि Biotin Gummies vs Traditional Vitamins: Which should I opt for यानि चबाने वाली बायोटिन और पारंपरिक विटामिन में से क्या चुनना चाहिए । ऐसे में पारंपरिक गोलियाँ लेना ज्यादा बेहतर विकल्प है क्योंकि मीठे स्वाद और चबाने योग्य बनावट के अलावा चबाने वाली बायोटिन में कुछ फायदेमंद नहीं होता है और उलटे वे नुकसान भी करती हैं ।

References

  1. A Double-blind, Placebo-controlled Study Evaluating the Efficacy of an Oral Supplement in Women with Self-perceived Thinning Hair: Ablon Glynis, MD, FAAD, corresponding author. :https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3509882/
  2. Biotin for Hair Growth: Does It Work? Medically reviewed by Imashi Fernando, MS, RDN, CDCES — By Gavin Van De Walle, MS, RD and Tess Catlett — Updated on March 15, 2023 :https://www.healthline.com/health/biotin-hair-growth#biotin-needs-foods 
  3. Lipner SR. Rethinking biotin therapy for hair, nail, and skin disorders. Journal of the American Academy of Dermatology. 2018 Jun 1: https://www.jaad.org/article/S0190-9622(18)30204-4/abstract 

अस्वीकरण: इस आर्टिकल में दी गई जानकारी सिर्फ सामान्य जानकारी के लिए है, न कि किसी बीमारी के इलाज के लिए। आर आप किसी भी बीमारी से जूझ रहे हैं तो आपको सबसे पहले डॉक्टर से परामर्श लेना चाहिए।

files/author_Dr.-Shailendra-Chaubey-BAMS_300x_3fb01719-6325-4801-b35b-3fb773a91669.jpg

Dr. Shailendra Chaubey, BAMS

Ayurveda Practioner

A modern-day Vaidya with 11 years of experience. He is the founder of Dr. Shailendra Healing School that helps patients recover from chronic conditions through the Ayurvedic way of life.

Popular Posts

Leave a comment

Please note, comments need to be approved before they are published.

आपके बाल झड़ने का कारण क्या है?

डॉक्टरों द्वारा डिज़ाइन किया गया Traya का मुफ़्त 2 मिनट का हेयर टेस्ट लें, जो आपके बालों के झड़ने के मूल कारणों की पहचान करने के लिए आनुवांशिक, स्वास्थ्य, जीवनशैली और हार्मोन जैसे 20+ कारकों का विश्लेषण करता है।

हेयर टेस्ट लेTM