Skip to content

मखाना के फायदे (Makhana Ke Fayde)


Published:
Updated:
image

मखाना जिसे अंग्रेजी में Fox Nut भी कहा जाता है, आज पुरे विश्वभर में सेवन किया जाता है। बल्कि भारत में खासतौर पर मेवे में मखाना को महत्वपूर्ण स्थान दिया जाता है। यह Euryale ferox plant का बीज होता है जिसकी खेती खासतौर पर उत्तरी और पूर्वी एशिया में किया जाता है। मखाना के संपूर्ण फायदे को देखते हुए इसका सेवन दूध के साथ करना चाहिए। मखाना और दूध का एक साथ सेवन करने से कई स्वास्थ्य लाभ प्राप्त होते हैं जैसे हड्डियाँ मजबूत होती हैं, पाचन स्वास्थ्य में सुधार होता है, ब्लड शुगर नियंत्रित होता है आदि।

मखाना में सोडियम, कोलेस्ट्रोल और फैट की मात्रा कम होती है तो वहीँ यह प्रोटीन और फाइबर से भरपूर होता है। साथ ही यह gluten free होने के साथ साथ एंटीऑक्सीडेंट गुणों से भरपूर होता है जिसकी वजह से उम्र बढ़ने के लक्षणों में कमी देखने को मिलती है। मखाना खाने के फायदे अन्य कई भी हैं जिसपर हम इस ब्लॉग में विस्तारपूर्वक बात करेंगे।

मखाना क्या है (Makhana Kya Hai)

मखाना जिसे fox nuts या lotus seeds भी कहा जाता है, कमल के पौधे (नेलुम्बो न्यूसीफेरा) के खाने योग्य बीज हैं। वे छोटे, गोल और सफेद या मटमैले सफेद रंग के होते हैं। यह कई एशियाई व्यंजनों में एक लोकप्रिय सामग्री है और अक्सर मेवों में इसका इस्तेमाल किया जाता है। स्वादिष्ट होने के साथ साथ ये कई पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं और इसलिए इनका सेवन स्वास्थ्य फायदों के लिए भी किया जाता है।

बात करें मखाना में मौजूद पोषक तत्वों की तो इसमें प्रोटीन, फाइबर, कार्बोहाइड्रेट्स, कैल्शियम, मैग्नीशियम, आयरन और फॉस्फोरस मौजूद होता है। ये सभी पोषक तत्व समग्र शारीरिक स्वास्थ्य को बनाए रखने में महत्वपूर्ण योगदान देते हैं। नियमित रूप से इसके सेवन से हृदय स्वास्थ्य बेहतर होता है, ब्लड शुगर पर नियंत्रण बना रहता है, वजन घटाने में मदद मिलती है, उम्र बढ़ने के लक्षणों को कम किया जा सकता है आदि।

मखाना के फायदे (Makhana Ke Fayde)

मखाना कई स्वास्थ्य फायदों के लिए जाना जाता है। इसके नियमित सेवन से हृदय रोगों का जोखिम कम होता है, वजन प्रबंधन में मदद मिलती है, उम्र बढ़ने के लक्षण कम होते हैं, पाचन शक्ति मजबूत होती है, हड्डियां मजबूत बनती हैं, बालों का समग्र स्वास्थ्य सुधरता है आदि। आइए विस्तार से मखाना के फायदे पर बात करते हैं।


1. हृदय स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है (Promotes heart health)

हृदय रोगों का जोखिम वर्तमान में काफी बढ़ चुका है, रोजाना ही हार्ट अटैक या हृदय रोगों से ग्रसित लोगों की मृत्यु की खबरें एक बड़े संकट की ओर इशारा करती हैं। इन आंकड़ों से पता चलता है कि भारत सहित दुनिया में लोगों का हृदय स्वस्थ नहीं है। इस परिस्थिति में रोजाना मखाना खाना फायदेमंद हो सकता है। इसके कई कारण होते हैं, जैसे कि मखाने में फैट और कोलेस्ट्रॉल काफी कम होता है। 

ऐसे में जब आप इसे अपने भोजन में शामिल करते हैं तो आपको खराब कोलेस्ट्रॉल और फैट की मात्रा कम मिलती है जोकि सीधे तौर पर हृदय रोगों से जुड़ा हुआ है। साथ ही मखाने में पोटैशियम और मैग्नीशियम भी प्रचुर मात्रा में मौजूद होता है जिसका अर्थ यह हुआ कि ये पोषक तत्व ब्लड प्रेशर को रेग्यूलेट करते हैं और साथ ही रक्त संचार को बेहतर बनाते हैं। मखाने के नियमित सेवन से रक्त वाहिकाएं भी शिथिल बनती हैं जिससे रक्त का प्रवाह बेहतर होता है जोकि हृदय स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है।


2. उम्र बढ़ने के लक्षणों को कम करता है (Reduces signs of aging)

उम्र बढ़ने के शुरुआती लक्षण हमारी त्वचा पर दिखाई शुरू होने लगते हैं। जैसे जैसे हमारी उम्र बढ़ती है, हमारे शरीर की त्वचा पर झुर्रियां आने लगती हैं, वे पहले के जैसी जवां और चमकदार नहीं रह जाती, रंगत खोने लगती है आदि। ऐसे में अगर आप नियमित रूप से मखाना का सेवन करें तो उम्र बढ़ने के लक्षणों को काफी हद तक कम किया जा सकता है। दरअसल इसमें एंटीऑक्सीडेंट्स गुण पाए जाते हैं जोकि फ्री रेडिकल्स को बेअसर करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

फ्री रेडिकल्स हमारी त्वचा को नुकसान पहुंचाने वाले सबसे बड़े कारक होते हैं और कई बार ये कैंसर का कारण भी बनते हैं। ऐसे में मखाने का सेवन करना इन्हें बेअसर कर सकता है। उम्र बढ़ने के साथ हड्डियां और पाचन शक्ति कमजोर होना भी दिखाई देता है। इस परिस्थिति में मखाना में मौजूद फाइबर, कैल्शियम और मैग्नीशियम हड्डियों और पाचन शक्ति को मजबूत बनाने में अहम भूमिका निभा सकता है।


3. बालों के समग्र स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है (Promotes overall health of hair)

बालों के समग्र स्वास्थ्य को बढ़ावा देने में भी मखाने को महत्वपूर्ण पाया गया है। दरअसल मखाना में प्रचुर मात्रा में प्रोटीन और केराटिन पाया जाता है और ये दोनों ही पोषक तत्व बालों के निर्माण में अहम भूमिका निभाते हैं। बाल काफी हद तक केराटिन से बने होते हैं, एक प्रोटीन जो बालों को संरचना और मजबूती देता है। स्वस्थ बालों के विकास के लिए पर्याप्त प्रोटीन का सेवन महत्वपूर्ण है। ऐसे में आपको नियमित रूप से प्रोटीन युक्त आहार जिसमें मखाना भी शामिल है, का सेवन करना चाहिए।

मखाने में मिनरल्स भी पाए जाते हैं जो बालों को मजबूती प्रदान करके झड़ना कम करते हैं। हालांकि अगर आपके बाल तेजी से झड़ रहे हैं तो मखाना खाने के साथ साथ Hair Test भी जरूर दीजिए। तेजी से झड़ते बालों की समस्या का सही समय पर सटीक कारण पता लगाना जरुरी है ताकि सही उपचार के साथ आगे बढ़ा जा सके। यह हेयर टेस्ट फ्री है, घर बैठे स्मार्टफोन की मदद से मात्र 2 मिनट में दिया जा सकता है। 

4. हड्डियों को मजबूती प्रदान करता है (Provides strength to bones)

हड्डियां हमारे पूरे शरीर को एक निश्चित ढांचा प्रदान करती हैं और साथ ही हमारे सभी क्रियाकलापों के लिए बेहद आवश्यक हैं। ऐसे में इनका स्वस्थ और मजबूत होना भी काफी आवश्यक है। इनकी मजबूती के लिए आप नियमित रूप से मखाने का सेवन कर सकते हैं। दरअसल मखाने में प्रचुर मात्रा में कैल्शियम और फॉस्फोरस पाया जाता है और ये दोनों ही पोषक तत्व हड्डियों के निर्माण, स्थिरता और मजबूती में महत्वपूर्ण योगदान देते हैं।

अध्ययनों से पता चलता है कि मखाना जैसे कैल्शियम से भरपूर खाद्य पदार्थ खाने से अस्थि खनिज घनत्व (bone mineral density) को बढ़ाने में मदद मिल सकती है। अस्थि खनिज घनत्व आपकी हड्डियों में मौजूद खनिज की मौजूदगी की मात्रा की ओर संकेत करता है। अगर BMD अधिक होगा तो ओस्टियोपोरोसिस का खतरा कम होगा और साथ ही हड्डियां अधिक मजबूत और स्वस्थ होंगी। ऐसे में आपको नियमित रूप से मखाने का सेवन करना चाहिए।

5. वजन प्रबंधन में मदद करता है (Helps in weight management)

अगर आप बढ़े हुए वजन से परेशान हैं और छुटकारा पाना चाहते हैं तो मखाने का सेवन करना फायदेमंद हो सकता है। जैसा कि हमने आपको पहले ही बताया, मखाना में कैलोरी कम तो फैट बिल्कुल भी मौजूद नहीं होता है। ऐसे में अगर आप इसे अपने आहार में शामिल करते हैं तो आपके शरीर में कम मात्रा में कैलरी और फैट जाता है, ये दोनों ही वजन को तेजी से बढ़ाने में योगदान देते हैं। साथ ही मखाने में प्रचुर मात्रा में प्रोटीन और फाइबर भी मौजूद होता है।

प्रोटीन आपको लंबे समय तक तृप्त महसूस करने में मदद करता है, लालसा को रोकता है और अधिक खाने की इच्छा को कम करता है। फाइबर पाचन को धीमा कर देता है, जिससे आपको पेट भरा हुआ महसूस होता है और संभावित रूप से कैलोरी की मात्रा कम हो जाती है। कुछेक अध्ययनों से यह भी पता चलता है कि मखाना के नियमित सेवन से पाचन तंत्र भी मजबूत होता है और इसकी कार्यक्षमता में वृद्धि होती है। ऐसे में मखाना के सेवन से कैलरी अधिक तेजी से जलती है जिससे वजन को घटाने में मदद मिलती है।

6. पाचन शक्ति को बढ़ाता है (Helps in increasing digestion power)

पाचन शक्ति को बढ़ाने के लिए भी मखाने का नियमित सेवन किया जा सकता है। इसका कारण है मखाने में मौजूद उच्च मात्रा में फाइबर, जोकि घुलनशील और अघुलनशील दोनों है। घुलनशील फाइबर एक जेल जैसा पदार्थ बनाकर पाचन को नियंत्रित करने में मदद करता है जो आपके पाचन तंत्र के माध्यम से भोजन की गति को धीमा कर देता है। यह बेहतर पोषक तत्व अवशोषण और तृप्ति की भावना को बढ़ावा देता है।

तो वहीं अघुलनशील फाइबर आपके मल को गाढ़ा बनाता है, नियमितता में सहायता करता है और कब्ज को रोकता है। यह भी देखा गया है कि मखाने में मौजूद फाइबर आंतों में prebiotics का कार्य करता है और मौजूद बैक्टीरिया समूह का भोजन बनाता है। इससे आंतों में बैक्टीरिया का संतुलन बना रहता है जिससे आंत स्वस्थ होते हैं। आंतों के स्वस्थ होने का सीधा प्रभाव पाचन तंत्र पर पड़ता है।

7. ब्लड शुगर नियंत्रण के लिए महत्वपूर्ण है (Important role in blood sugar control)

हमने आपको पहले ही बताया कि मखाना में Low Glycemic Index (GI) पाया जाता है जिसका अर्थ हुआ कि यह शरीर में धीरे धीरे विभाजित होता है जिससे रक्त वाहिकाओं में शर्करा कम या धीरे धीरे रिलीज होती है। इसकी वजह से अचानक से शुगर लेवल नहीं बढ़ता है जोकि मधुमेह का सबसे बड़ा कारण है। साथ ही, मखाना में फाइबर की मौजूदगी भी प्रचुर मात्रा में होती है। 

फाइबर भोजन से रक्तप्रवाह में शर्करा के अवशोषण को धीमा करने में मदद करता है। यह रक्त शर्करा के स्तर को स्थिर बनाए रखने में मदद करता है और अचानक इंसुलिन स्पाइक्स की आवश्यकता को कम करता है। कुछ शोध यह भी बताते हैं कि मखाने के सेवन से इन्सुलिन को लेकर संवेदनशीलता बढ़ती है, जोकि ब्लड शुगर को नियंत्रण में रखने के लिए बेहद आवश्यक है 

8. स्पर्म की गुणवत्ता और गतिशीलता के सुधार करता है (Improves sperm quality and motility)

मखाना के फायदे पुरुषों के लिए भी हैं हालांकि इस विषय पर लेकर शोध कम ही किए गए हैं। आयुर्वेद के मुताबिक, जो पुरुष नियमित रूप से मखाने का सेवन करते हैं, उनमें स्पर्म की गुणवत्ता और गतिशीलता बढ़ती है जिससे नपुंसकता का जोखिम कम हो जाता है। महिलाओं में गर्भ धारण के लिए पुरुषों का स्पर्म उच्च गुणवत्ता वाला होना चाहिए और साथ ही इनका गतिशील होना भी आवश्यक है ताकि फर्टिलाइजेशन प्रक्रिया सुगमता से हो सके।

ऐसे में माना जाता है कि मखाना के नियमित सेवन से पुरुषों में स्पर्म काउंट के साथ ही उसकी गुणवत्ता और गतिशीलता में भी सुधार होता है। आयुर्वेद में कामोत्तेजक के रूप में, मखाना को पुरुषों में यौन क्रिया में सुधार करने वाला भी माना जाता है यानि इसके सेवन से पुरुषों में लिबिडो भी बढ़ सकता है।

9. गर्भवती महिलाओं को देता है आवश्यक पोषण (Helpful in health of pregnant women)

मखाना के फायदे महिलाओं के लिए भी हैं, खासतौर पर गर्भवती महिलाएं डॉक्टर की सलाह के पश्चात मखाने का सेवन कर सकती हैं। दरअसल मखाना में फोलेट की मात्रा पाई जाती है, जोकि गर्भावस्था के दौरान भ्रूण के स्वस्थ विकास के लिए अतिआवश्यक है। फोलेट भ्रूण के विकास में अहम भूमिका निभाता है और शिशु के सर्वांगीण विकास में मदद करता है। इसके अलावा, मखाना में अन्य पोषक तत्व जैसे प्रोटीन और फाइबर भी पाए जाते हैं।

फाइबर और प्रोटीन भी आवश्यक खनिज में गिने जाते हैं जो गर्भावस्था के दौरान जच्चा बच्चा दोनों के समग्र स्वास्थ्य को बढ़ावा देते हैं। नियमित रूप से मखाने के सेवन से प्रोटीन और फाइबर की पर्याप्त मात्रा प्राप्त होती है जोकि गर्भावस्था के दौरान अत्यावश्यक होती है। हालांकि गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को इसका सेवन डॉक्टर की परामर्श के पश्चात ही करना चाहिए।

10. स्तन में दूध की मात्रा बढ़ाता है (Increases the milk supply in breasts)

कई सालों से मखाने का सेवन स्तनों में दूध की मात्रा को बढ़ाने के लिए भी किया जाता रहा है। स्तनपान कराने वाली महिलाओं में बेहतर दूध उत्पादन आवश्यक है ताकि बच्चे को आवश्यक पोषण दिया जा सके। इसके लिए स्तनपान कराने वाली महिलाओं को डॉक्टर की सलाह के पश्चात नियमित रूप से मखाने का सेवन करना चाहिए। हालांकि वर्षों से स्तनपान कराने वाली महिलाएं इसका सेवन स्तनों में दूध बढ़ाने के लिए इसका सेवन करती आई हैं, लेकिन इस विषय पर कोई भी वैज्ञानिक शोध अब तक नहीं किया जा सका है।

हालांकि, तर्क दिया जा सकता है कि मखाने में भरपूर मात्रा में पोषक तत्व पाए जाते हैं जैसे प्रोटीन, कैल्शियम, आयरन, फॉस्फोरस, मैग्नीशियम, फाइबर आदि जो स्तनों में दूध की मात्रा में वृद्धि करने के लिए आवश्यक हैं। साथ ही, इस बीज में पाए जाने वाले पोषक तत्व महिलाओं के समग्र स्वास्थ्य को भी बेहतर बनाता है जोकि बेहतर दूध उत्पादन के लिए आवश्यक है। यह पूरी तरह से सुरक्षित खाद्य पदार्थ है जिसका सेवन किया जा सकता है।

मखाना के फायदे बालों के लिए (Benefits of Makhana for hair)

बालों के लिए मखाना काफी फायदेमंद है और इसलिए इसका नियमित रूप से सेवन किया जाना चाहिए। इसमें पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन की मौजूदगी होती है जोकि स्वस्थ बाल विकास के लिए अतिआवश्यक होता है। प्रोटीन की पर्याप्त मात्रा मौजूद होने की वजह से बालों के निर्माण में तेजी आती है और साथ ही बाल मजबूत भी बनते हैं। साथ ही, मखाने में अमीनो एसिड की भी प्रचुरता होती है जोकि बालों के विकास में महत्वपूर्ण योगदान देता है।

मखाने में आयरन, मैग्नीशियम और जिंक जैसे खनिज होते हैं, जो बालों के स्वास्थ्य के लिए आवश्यक हैं। आयरन बालों के रोमों तक ऑक्सीजन पहुंचाने में मदद करता है, जो बालों के विकास के लिए जिम्मेदार होते हैं। मैग्नीशियम और जिंक बालों के समग्र स्वास्थ्य में योगदान करते हैं और बालों के झड़ने को रोक सकते हैं। साथ ही, इसमें एंटीऑक्सीडेंट भी होते हैं जो मुक्त कणों से होने वाले नुकसान से लड़ने में मदद कर सकते हैं। यह संभावित रूप से बालों को समय से पहले सफ़ेद होने से रोकने में मदद कर सकता है।

लेकिन अगर आप झड़ते बालों से परेशान हैं, गंभीर रूसी की समस्या है, बाल समय से पहले सफेद हो रहे हैं या बालों से जुड़ी अन्य समस्या है तो हम आपको Hair Test देने का सुझाव देते हैं। इन समस्याओं को जड़ से दूर करने के लिए सिर्फ मखाना खाना काफी नहीं है बल्कि holistic approach के साथ आगे बढ़ना जरूरी है। हेयर टेस्ट बिलकुल फ्री है और आप इसे घर बैठे स्मार्टफोन की मदद से दे सकते हैं। यह टेस्ट आपकी बालों की समस्या का सटीक कारण पता लगाकर सही उपचार की शुरुआत करता है।


मखाना में मौजूद पोषक तत्व (Nutrients present in Makhana)

मखाना में कई पोषक तत्वों की मौजूदगी होती है जो हमारे समग्र स्वास्थ्य के लिए आवश्यक होता है। इस nutrients powerhouse बीज में फाइबर, प्रोटीन, आयरन, मैग्नीशियम, कैल्शियम, फास्फोरस जैसे पोषक तत्व पाए जाते हैं जो हमारे स्वास्थ्य को बेहतर बनाते हैं और रोगों को दूर रखते हैं। आइए नीचे दिए टेबल की मदद से जानते हैं कि मखाना में कौन कौन से पोषक तत्व पाए जाते हैं।

पोषक तत्व

मात्रा (प्रति 100 ग्राम)

फायदे

प्रोटीन

9.7 ग्राम

मांसपेशियों के निर्माण और मरम्मत में मदद करता है, ऊर्जा प्रदान करता है

कार्बोहाइड्रेट

76.9 ग्राम

ऊर्जा का मुख्य स्रोत है, मस्तिष्क और तंत्रिका तंत्र के लिए महत्वपूर्ण है

वसा

0.1 ग्राम

कम कैलोरी वाला भोजन, वजन घटाने में मददगार

फाइबर

5.3 ग्राम

पाचन तंत्र को स्वस्थ रखता है, कब्ज से राहत दिलाता है

खनिज

1.3 ग्राम

कैल्शियम, फास्फोरस, आयरन, मैग्नीशियम, पोटेशियम जैसे खनिजों का अच्छा स्रोत

विटामिन

विटामिन बी1, बी2, बी6

ऊर्जा उत्पादन, लाल रक्त कोशिकाओं के निर्माण, तंत्रिका तंत्र के कार्य में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं


सुबह खाली पेट मखाने खाने के फायदे (Benefits of eating makhana on an empty stomach)

सुबह खाली पेट मखाने खाने के फायदे भी कई हैं। इससे शरीर में पोषक तत्वों का अवशोषण बेहतर होता है और साथ ही चयापचय (metabolism) भी बेहतर होता है। मखाने में कुछ ऐसे गुण पाए जाते हैं जो मेटाबॉलिज्म को बढ़ाने में अहम योगदान दे सकते हैं। साथ ही, ब्लड शुगर को नियंत्रित करने और वजन प्रबंधन करने में भी यह मददगार हो सकता है। 

हालांकि, सुबह खाली पेट मखाना खाने के फायदे पर अधिक रिसर्च नहीं किया गया है। लेकिन आप सुबह खाली पेट उचित मात्रा में बिलकुल इसे खा सकते हैं और इसके स्वास्थ्य फायदे प्राप्त कर सकते हैं। ध्यान रखें कि सुबह खाली पेट इसका सेवन करने से कुछ लोगों में एलर्जी भी हो सकती है तो कुछ लोगों को पेट में असहजता भी महसूस हो सकती है। ऐसे में आप कुछ मखाने को सुबह खाली पेट खाकर देखें, अगर सबकुछ ठीक रहा तो इसका सेवन आप आगे भी खाली पेट अवश्य कर सकते हैं।


दूध और मखाने खाने के फायदे (Benefits of eating milk and makhana)

दूध और मखाने खाने के फायदे दोगुने मिलते हैं। दूध और मखाना दोनों में ही कई पोषक तत्व जैसे प्रोटीन, कैल्शियम, फाइबर, कार्बोहाइड्रेट और विटामिन पाया जाता है और ये पोषक तत्व व्यक्ति के समग्र स्वास्थ्य को सुधारने में अहम भूमिका निभा सकते हैं। इसके सेवन से हड्डियां मजबूत बनती हैं, मांशपेशियों का विकास होता है, पाचन शक्ति बढ़ती है, ब्लड शुगर को नियंत्रित किया जा सकता है।

इसके लिए आप रोजाना रात को सोने से डेढ़ से दो घंटे पहले शुद्ध दूध में मखाने को धीमी आंच पर पका सकते हैं। इसमें स्वाद के लिए आप थोड़ी मात्रा में गुड़ भी मिला सकते हैं। तत्पश्चात इस ड्रिंक का सेवन करने से आप पाएंगे कि डेढ़ से दो सप्ताह के अंदर ही आपके शरीर में कई सकारात्मक बदलाव आने लगे हैं। खासतौर पर मांशपेशियों और हड्डियों की मजबूती और विकास में दूध और मखाने का मिश्रण जादू कर सकता है।


मखाना के फायदे और नुकसान (Benefits and disadvantages of Makhana)

मखाना खाने के फायदे और नुकसान दोनों हैं। मखाना खाने के फायदों में हड्डियां मजबूत होना, पाचन शक्ति बढ़ जाना, हृदय स्वास्थ्य बेहतर होना, त्वचा और बालों के समग्र स्वास्थ्य में सुधार होना, वजन प्रबंधन, ब्लड शुगर नियंत्रण, पुरुषों में स्पर्म की गुणवत्ता बढ़ना आदि शामिल है तो वहीं इसके नुकसान में एलर्जी होना, पाचन दिक्कतें होना, वजन बढ़ना शामिल है।

ध्यान दें कि अगर आप मखाना के नुकसान से बचना चाहते हैं तो आपको इसका सेवन अधिक मात्रा में नहीं करना चाहिए। हालांकि अगर आपका लक्ष्य वजन बढ़ाने का है तो आप मखाने को दूध के साथ रोजाना खा सकते हैं। इससे स्वस्थ वजन बढ़ाने में मदद मिल सकती है। जिन लोगों में इसके सेवन से एलर्जी दिखाई दे, उन्हें तुरंत इसका सेवन बंद कर देना चाहिए।


1 दिन में मखाना कितना खाना चाहिए (How much quantity of Makhana to consume)

1 दिन में आपको अधिकतम 30 ग्राम से लेकर 35 ग्राम मखाने का सेवन ही करना चाहिए। एक स्वस्थ व्यस्क को लगभग 1/4 से लेकर 1/2 कप का सेवन करने की सलाह दी जाती है। हालांकि आपकी जरूरतों के हिसाब से इसमें बदलाव किया जा सकता है। वजन बढ़ाने के लिए इसकी मात्रा अधिक होनी चाहिए तो वहीं अगर आपका लक्ष्य वजन घटाने का है तो इसकी कम मात्रा का ही सेवन करना चाहिए।

ध्यान रखें कि मखाने खाने के फायदे और नुकसान दोनों हैं और इसलिए शुरुआत में इसका सेवन कम मात्रा में ही करें। इससे आप समझ सकेंगे कि यह आपके लिए फायदेमंद है अथवा नुकसानदेह। तत्पश्चात आप इसका सेवन आवश्यकता के अनुसार कर सकते हैं।


मखाना का सेवन करने के तरीके (Ways to consume Makhana)

मखाना का सेवन कई तरीकों से किया जा सकता है। पहले तो आप इसका सेवन सादे तौर पर ही कर सकते हैं। 5 से 7 मखाने को आप यूंही उठाकर खा सकते हैं और पूरे दिनभर में आवश्यकता अनुसार 30 ग्राम मखाने का सेवन कर सकते हैं। इसके अलावा दूध के साथ उबालकर रात में भी इसका सेवन किया जा सकता है। लेकिन, सिर्फ यहीं दो तरीके इसके सेवन करने के लिए नहीं हैं। आइए अन्य सेवन के तरीकों को भी जानते हैं, जिन्हें आप यूट्यूब की मदद से देख सकते हैं।

  1. चटपटा मखाना: चटपटा मखाना संजीव कपूर
  2. मसाला मखाना रेसिपी: रोस्टेड मखाना चाट
  3. फूल मखना: Weight Loss Makhana Recipe
  4. मखाना नमकीन: Types of Makhana Masala Recipe

निष्कर्ष (Conclusion)

मखाना खाने के फायदे कई हैं। इसके नियमित सेवन से हड्डियां मजबूत बनती हैं, वजन प्रबंधन में मदद मिलती है, हृदय रोगों का जोखिम कम होता है, ब्लड शुगर मैनेजमेंट आसान हो जाता है, स्पर्म की क्वालिटी में इजाफा होता है, स्तनों में दूध सप्लाई बढ़ती है, भ्रूण का विकास सही ढंग से होता है, पाचन शक्ति बढ़ती है, उम्र बढ़ने के लक्षण कम होते हैं, बालों और त्वचा के स्वास्थ्य में सुधार होता है।

लेकिन ध्यान दें कि मखाना खान के फायदे और नुकसान दोनों हैं और इसलिए इसका सेवन उचित मात्रा में ही करना चाहिए। एक स्वस्थ व्यस्क को प्रतिदिन 30 ग्राम से 35 ग्राम मखाने का सेवन ही करना चाहिए अन्यथा एलर्जिक रिएक्शन, वजन बढ़ना, पेट में असहजता जैसे अनुभव हो सकते हैं। मखाने की चाट, नमकीन, मसाला आदि रेसिपी बनाकर सेवन किया जा सकता है।


अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (Frequently Asked Questions)

1. रोज मखाना खाने से क्या होगा?

रोज मखाना खाने से हड्डियां मजबूत बनेंगी, उम्र बढ़ने के लक्षण कम होंगे, ब्लड शुगर नियंत्रित होगा, हृदय रोगों का जोखिम कम होगा, हाई चोलेस्ट्रोल की मात्रा कम की जा सकेगी, स्पर्म की गुणवत्ता में इजाफा होगा, स्तनों में दूध की वृद्धि होगी और साथ ही गर्भवती महिलाओं और शिशु का स्वास्थ्य भी बेहतर होगा।

2. 1 दिन में कितना मखाना खाना चाहिए?

1 दिन में आपको अधिकतम 30 ग्राम से लेकर 35 ग्राम मखाने का सेवन करना चाहिए यानि आप रोजाना 1/2 से लेकर 1/4 कप मखाने का सेवन कर सकते हैं जोकि एक स्वस्थ व्यस्क के लिए काफी है।

3. मखाना कब नहीं खाना चाहिए?

अगर आप ब्लड शुगर या डायबिटीज की समस्या से पीड़ित हैं तो आपको इसका सेवन नहीं करना चाहिए। साथ ही, अगर आप वजन घटाने की सोच रहे हैं तो इसका सेवन कम ही मात्रा में करें।

4. मखाने में कौन से विटामिन मौजूद होते हैं?

मखाने में मुख्य रूप से विटामिन बी1 और कैरोटिन पाया जाता है। विटामिन बी1 एनर्जी उत्पादन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है तो वहीं कैरोटिन स्वस्थ कोशिका विकास, दृष्टि और इम्यूनिटी के लिए फायदेमंद होता है।

References

files/author_Dr.-Shailendra-Chaubey-BAMS_300x_3fb01719-6325-4801-b35b-3fb773a91669.jpg

Dr. Shailendra Chaubey, BAMS

Ayurveda Practioner

A modern-day Vaidya with 11 years of experience. He is the founder of Dr. Shailendra Healing School that helps patients recover from chronic conditions through the Ayurvedic way of life.

Popular Posts

Leave a comment

Please note, comments need to be approved before they are published.

आपके बाल झड़ने का कारण क्या है?

डॉक्टरों द्वारा डिज़ाइन किया गया Traya का मुफ़्त 2 मिनट का हेयर टेस्ट लें, जो आपके बालों के झड़ने के मूल कारणों की पहचान करने के लिए आनुवांशिक, स्वास्थ्य, जीवनशैली और हार्मोन जैसे 20+ कारकों का विश्लेषण करता है।

हेयर टेस्ट लेTM