Skip to content

पुरुषों के लिए सहजन लाभ | Moringa Benefits in Hindi


Published:
Updated:
image

सहजन जिसे Moringa भी कहा जाता है, पुरुषों और महिलाओं दोनों के समग्र स्वास्थ्य को बेहतर करता है। खासतौर पर पुरुषों के लिए सहजन लाभ वाकई उल्लेखनीय हैं क्योंकि इसके नियमित सेवन से पुरुषों में इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की समस्या दूर होती है, इनफर्टिलिटी दूर होती है, प्रोस्टेट कैंसर होने का खतरा कम हो जाता है, टेस्टोस्टेरोन का स्तर बढ़ता है, यौन इच्छा में वृद्धि करता है और बाल झड़ना रोकता है।

तो वहीं महिलाओं में प्रेगनेंसी के दौरान बच्चे के स्वस्थ विकास में मदद करता है, स्तनों में दूध बढ़ाता है, त्वचा को जवां और चमकदार बनाता है, हड्डियों को मजबूत बनाता है। यह ब्लॉग पोस्ट विस्तार से Moringa Benefits In Hindi पर बात करेगा और आप जानेंगे कि सहजन खाने से पुरुषों को क्या लाभ होता है।


सहजन क्या है (Moringa In Hindi)

सहजन, जिसे मोरिंगा के नाम से भी जाना जाता है, मुख्य रूप से भारत में पाया जाता है जिसका उपयोग सदियों से पारंपरिक चिकित्सा में किया जाता रहा है। यह विटामिन, खनिज और एंटीऑक्सीडेंट सहित कई पोषक तत्वों का एक समृद्ध स्रोत है जिसकी मदद से पुरुषों और महिलाओं दोनों को लाभ प्राप्त होता है। इस पेड़ की पत्तियां, फूल, फल, बीज और जड़ें सभी खाने योग्य होती हैं।

ग्रामीण इलाकों में अक्सर इसे मुनगा, सुजना और सेंजन के नाम से भी जाना जाता है। अंग्रेजी में सहजन को Moringa और Drumstick tree भी कहा जाता है। इस पौधे की खासियत यह है कि यह तेजी से बढ़ता है और सूखे से प्रभावित नहीं होता है। भारत के अलावा भी अन्य कई देशों में यह पाया जाता है जैसे कि मलेशिया, श्रीलंका, मैक्सिको, फिलिपींस। इसकी भारत सहित अन्य देशों में खेती भी की जाती है जिससे अच्छा मुनाफा भी कमाया जाता है। आपके प्रश्न Moringa Kise Kahate Hain का उत्तर है सहजन के पेड़ को।


पुरुषों के लिए सहजन लाभ (Sahjan Ke Fayde In Hindi)

सहजन हर आयु और लिंग के व्यक्ति के लिए खाना फायदेमंद है। लेकिन खासतौर पर पुरुषों में यह कई समस्याओं को दूर करता है। सहजन खाने से पुरुषों को कई लाभ मिलते हैं तो आइए जानते हैं पुरुषों के लिए सहजन लाभ कौन से हैं।


1. बालों का झड़ना रोकता है (Prevents hair fall)

सहजन खाने से पुरुषों में बालों का झड़ना कम हो जाता है और नए बालों के विकास में मदद मिलती है। सहजन में विटामिन ए, बी, सी, जिंक और आयरन मौजूद होता है। ये सभी पोषक तत्व बालों का झड़ना रोकते हैं और नए बालों के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। इसकी पत्तियों में प्रोटीन और जरूरी अमीनो एसिड पाया जाता है जोकि बालों के विकास में सबसे महत्वपूर्ण होता है।

लेकिन क्या आपके बालों के झड़ने या गंजेपन की समस्या को सहजन का पेड़ दूर कर सकता है? उत्तर है नहीं। ऐसा इसलिए क्योंकि बालों का झड़ना या नए बालों का न उगना 20 से भी अधिक कारणों से होता है। आपके बाल किस कारणवश झड़ रहे हैं यह जाने बिना आप उपचार कैसे कर सकते हैं। इसलिए हम आपको Free Hair Test देने का सुझाव देते हैं। यह टेस्ट फ्री है, स्मार्टफोन से घर बैठे दिया जा सकता है। तो देर न करें, अभी टेस्ट दें और सटीक समस्या के साथ समाधान प्राप्त करें।


2. पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन बढ़ाता है (Increases testosterone in men)

अगर आप पुरुष हैं तो आपको जीवन भर टेस्टोस्टेरोन की आवश्यकता पड़ेगी जोकि एक male sex hormone है। यह हार्मोन आपके सेक्सुअल हेल्थ को प्रभावित करता ही है, साथ ही आपकी शारीरिक बनावट और पर्सनेलिटी को भी काफी हद तक परिभाषित करता है। आजकल कई कारणों से पुरुष टेस्टोस्टेरोन की कमी से जूझ रहे हैं, जिसे दूर करने के लिए सहजन काफी फायदेमंद हो सकता है।

पुरुषों के लिए सहजन के फायदे को देखते हुए ही इसे इंडियन वायग्रा तक कहा जाता है। अमेरिकन जर्नल ऑफ़ न्यूरोसाइंस में छपे एक शोध पर ध्यान दें तो पता चलता है कि सहजन यौन इच्छा को बढ़ाता है और जननांगों तक रक्त प्रवाह को भी तेज करता है। इससे टेस्टोस्टेरोन में वृद्धि होती है। 


3. प्रोस्टेट कैंसर होने का जोखिम कम करता है (Reduces the risk of prostate cancer)

प्रोस्टेट कैंसर के जोखिम को कम करने में भी सहजन फायदेमंद है। भारत सरकार के अनुसार, 2016 में भारत में प्रोस्टेट कैंसर के 37,416 मामले और 2020 में 41,532 मामले सामने आए। ये आंकड़े वाकई चिंताजनक हैं और आपको इस रोग से हमेशा दूर रहने की कोशिश करनी चाहिए। इसमें सहजन आपकी मदद कर सकता है। पुरुषों के लिए सहजन फायदे प्रोस्टेट कैंसर के जोखिम को कम करता है और प्रोस्टेट के समग्र स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है।

खासतौर पर सहजन के बीज प्रोस्टेट कैंसर को दूर रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसके बीजों और पत्तियों में ग्लूकोसाइनोलेट्स पाए जाते हैं। ये सल्फर युक्त यौगिक से बने होते हैं। अगर इसका उचित ढंग से सेवन किया जाए तो यह व्यक्ति के शरीर में प्रोस्टेट कैंसर के कोशिकाओं के विकास को रोकता है। 


4. इरेक्टाइल डिसफिंक्शन की समस्या में फायदेमंद है (Beneficial in erectile dysfunction)

इरेक्टाइल डिस्फंक्शन एक ऐसी समस्या है जिसमें लिंग तक रक्त प्रवाह बेहतर न होने की वजह से संभोग के वक्त इरेक्शन पाने में दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। भारत सहित पूरी दुनिया में बड़ी संख्या में लोग इस दिक्कत का सामना कर रहे हैं। हालांकि इस समस्या के कारण और उपचार अलग अलग हो सकते हैं लेकिन सहजन भी कुछ हद तक फायदे प्रदान कर सकता है। 

कुछ स्रोतों के अनुसार, मोरिंगा की पत्तियां और बीज स्तंभन दोष (ईडी) में मदद कर सकते हैं। मोरिंगा उत्तर-पश्चिमी भारत का मूल निवासी पेड़ है जो विटामिन ए और सी से भरपूर है और रक्त प्रवाह में सुधार कर सकता है। लिंग में रक्त का प्रवाह बेहतर होने पर इरेक्शन पाने में मदद मिलती है, जिसमें मोरिंगा मदद करता है। 


5. फर्टिलिटी बढ़ाता है (Increases fertility)

मोरींगा यानि सहजन के फायदे पुरुषों के लिए कई स्तर पर हैं। इसके सेवन से पुरुषों में इनफर्टिलिटी की समस्या का भी समाधान होता है। पुरुषों में इनफर्टिलिटी का अर्थ है कि उनके स्पर्म की गुणवत्ता और गतिशीलता इतनी बेहतर नहीं होती कि महिलाएं गर्भ धारण कर सकें। बांझपन के लगभग 40% मामलों में पुरुषों का ही योगदान होता है और यह चिंताजनक है। 

ऐसे में सहजन की पत्तियां और बीज एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर होते हैं जो स्पर्म के स्वास्थ्य को बढ़ाते हैं और फ्री रेडिकल्स से होने वाले स्पर्म क्षति को भी रोकते हैं। खरगोशों पर किए गए अध्ययनों से पता चला है कि पौधे की पत्ती के पाउडर से वीर्य की मात्रा, साथ ही शुक्राणुओं की संख्या और गतिशीलता में काफी सुधार हुआ है। तो ये रहे पुरुषों के लिए सहजन लाभ (Moringa benefits in Hindi), आगे हम बात करेंगे कि पुरुषों के यौन स्वास्थ्य के अलावा सहजन के फायदे क्या हैं।


सहजन के फायदे (Moringa Benefits In Hindi)

ऊपर आपके विस्तार से जाना कि पुरुषों के लिए सहजन लाभ क्या हैं। लेकिन सहजन के फायदे सिर्फ और सिर्फ पुरुषों के लिए ही नहीं हैं। यौन स्वास्थ्य बेहतर बनाने के अलावा इसके अन्य कई फायदे भी मिलते हैं जिसके बारे में आपको पता होना चाहिए। तो आइए जानते हैं कि इसके अन्य फायदे कौन कौन से हैं।


1. त्वचा को जवां और चमकदार बनाता है (Makes skin young and glowing)

त्वचा को जवां और चमकदार बनाने में भी सहजन मदद करता है। इसके नियमित सेवन से त्वचा संबंधित रोग दूर होते हैं, त्वचा खिली खिली नजर आती है और आप उम्र से ज्यादा जवां दिखने लगते हैं। जैसा कि हमने आपको पहले ही बताया, सहजन में विटामिन ए, सी और ई पाया जाता है जोकि पॉपुलर एंटीऑक्सीडेंट के रूप में जाने जाते हैं। ये सभी त्वचा को मुक्त कणों से होने वाले नुकसान से बचाते हैं। 

साथ ही, कुछ अध्ययनों से पता चलता है कि मोरिंगा में जीवाणुरोधी गुण हो सकते हैं जो त्वचा की सतह पर बैक्टीरिया से लड़कर मुँहासों को कम करने में मदद कर सकते हैं। अगर आपकी त्वचा रूखी और बेजान दिखती है तो आप सहजन के तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं जोकि फैटी एसिड का अच्छा स्रोत है और नमी को बनाए रखने और त्वचा को हाइड्रेटेड रखने में मदद करता है।


2. लीवर को बीमारियों से बचाता है (Protects liver from diseases)

हमारे समग्र स्वास्थ्य में लीवर का भी स्वस्थ रहना काफी आवश्यक है। अगर आपका लीवर स्वस्थ नहीं है तो आपका पूरा शरीर बीमार पड़ सकता है और कई रोग आपको हो सकते हैं। लेकिन इसके लिए पहले आपको लीवर को रोगों से बचाना होगा।  सहजन के फायदे नियमित रूप से सेवन करने पर आपके लीवर को भी मिलते हैं। मोरिंगा क्लोरोजेनिक एसिड और फ्लेवोनोइड्स जैसे एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर है।

ये एंटीऑक्सिडेंट मुक्त कणों से लड़ने में मदद करते हैं जो लीवर कोशिकाओं को नुकसान पहुंचा सकते हैं और फैटी लीवर रोग और अन्य स्थितियों में योगदान कर सकते हैं। इसके अलावा, सहजन में सूजन-रोधी प्रभाव हो सकते हैं जो लीवर को लाभ पहुंचा सकते हैं। पुरानी सूजन यकृत कोशिकाओं को नुकसान पहुंचा सकती है और फाइब्रोसिस (घाव) का कारण बन सकती है जिसे दूर करने में भी सहजन मदद करता है।


3. पेट खराब होने की स्तिथि में फायदेमंद है (Beneficial in case of stomach upset)

पेट खराब होने की स्तिथि में भी आप सहजन की सब्जी खा सकते हैं, जिससे आपको फायदा प्राप्त होगा। इसका कारण है सहजन में मौजूद प्रचुर मात्रा में फाइबर जोकि स्वस्थ पाचन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। फाइबर आपके मल में वजन बढ़ाता है जिसकी वजह से मल त्याग में आसानी होती है। इसके अलावा, सहजन में जरुरी विटामिंस जैसे थायमिन (बी1), राइबोफ्लेविन (बी2), नियासिन (बी3), और विटामिन बी12 भी पाए जाते हैं।

ये विटामिन आपके पेट और आंतों में पाचक रसों के स्राव को उत्तेजित करने में मदद करते हैं। पाचन रस भोजन के अणुओं को छोटे, अधिक अवशोषित घटकों में तोड़ देते हैं, जिससे पोषक तत्वों का कुशल अवशोषण आसान हो जाता है। फाइबर होने की वजह से यह आंतों में अच्छे बैक्टीरिया को भी बढ़ावा देते हैं जोकि स्वस्थ पाचन क्रिया के लिए जरूरी है। तो इस तरह सहजन के फायदे अपच और पेट खराब होने की स्तिथि में भी मिलते हैं।


4. पथरी के जोखिम को कम करता है (Reduces the risk of kidney stones)

पथरी के जोखिम को कम करने में भी सहजन के फायदे हैं। गलत खानपान और खराब लाइफस्टाइल की वजह से किडनी में पथरी होने की समस्या हो जाती है। ऐसे में आप अगर इसके जोखिम से बचना चाहते हैं तो सहजन की सब्जी का सेवन शुरू कर सकते हैं। प्राचीन आयुर्वेद चिकित्सा में सहजन का इस्तेमाल पथरी के जोखिम को कम करने के लिए ही किया जाता था। 

आज के आधुनिक चिकित्सा पद्धति ने भी इस बात को प्रमाणित किया है कि सहजन खाने से पथरी का जोखिम कम होता है। एक लेबोरेटरी अध्ययन में यह पाया गया कि सहजन के नियमित इस्तेमाल से यह पेट में मिनरल्स के जमाव को रोकता है जोकि पथरी का निर्माण करते हैं। 


5. उच्च रक्तचाप में फायदेमंद है (Treats high blood pressure problem)

अगर आपको उच्च रक्तचाप की समस्या है तो आप डॉक्टर की सलाह के पश्चात सहजन की सब्जी का सेवन कर सकते हैं। सहजन का सेवन करने से आपके शरीर में मौजूद blood vessels की सतहों को रिलैक्स करने में मदद करता है। साथ ही, मोरिंगा क्वेरसेटिन और क्लोरोजेनिक एसिड जैसे एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर है। ये एंटीऑक्सिडेंट ऑक्सीडेटिव तनाव और सूजन से निपटने में मदद कर सकते हैं, जो दोनों उच्च रक्तचाप में योगदान कर सकते हैं।

साथ ही, सहजन के फूलों में बायोएक्टिव यौगिक वासोडिलेशन को बढ़ावा दे सकते हैं, जिसका अर्थ है कि वे रक्त वाहिकाओं को चौड़ा करने में मदद कर सकते हैं। इसके परिणामस्वरूप रक्त प्रवाह में सुधार हो सकता है और संभावित रूप से रक्तचाप कम हो सकता है। सहजन शरीर में सोडियम की मात्रा को रेग्यूलेट करने या कम करने में भी मदद करता है। सोडियम उच्च रक्तचाप के लिए जिम्मेदार होता है। तो इस तरह Sahjan Ke Fayde In Hindi उच्च रक्तचाप के लिए भी हैं।


6. एनीमिया की समस्या में फायदेमंद होता है (Beneficial in the problem of anemia)

एनीमिया एक ऐसा रोग है जिसमें रक्त में हीमोग्लोबिन की कमी हो जाती है। यह रोग होने पर आपको अत्यधिक थकान और कमजोरी, त्वचा में पीलापन, चक्कर और सिर दर्द जैसे लक्षण दिखाई दे सकते हैं। इस समस्या को दूर करने में भी सहजन मदद कर सकता है। बल्कि विश्व के कुछ देशों या भागों में सहजन का उपयोग एनीमिया कन्ट्रोल करने के लिए भी किया जाता है। लेकिन आखिर एनीमिया में सहजन कैसे फायदेमंद है? आइए समझते हैं।

सहजन आयरन, विटामिन सी और फोलेट से भरपूर होता है, जो लाल रक्त कोशिका उत्पादन के लिए सभी आवश्यक पोषक तत्व हैं। अगर इन पोषक तत्वों में से किसी एक की भी कमी हो जाए तो एनीमिया या रक्त में कम हीमोग्लोबिन की समस्या से जूझना पड़ सकता है। हालांकि आपको अगर एनीमिया की समस्या है तो बेहतर है कि आप डॉक्टर से संपर्क करें और डाइट में सहजन इस्तेमाल करके आप उपचार को गति दे सकते हैं।


7. वजन घटाने में मदद करता है (Drumstick helps in weight loss)

अगर आपका वजन बढ़ गया है या आप मोटापे का शिकार हो गए हैं तो अपने आहार में सहजन का इस्तेमाल भी कर सकते हैं। सहजन में ऐसे यौगिक और पोषक तत्व पाए जाते हैं जोकि मोटापा घटाने में फायदेमंद हो सकता है। दरअसल सहजन में आमतौर पर कम कैलोरी होता है जिससे इसका सेवन आपका पेट भी भरता है और वजन बढ़ाने के लिए जिम्मेदार कैलोरी का सेवन भी कम होता है।

इसके अलावा, सहजन में डाइटरी फाइबर की मात्रा प्रचुर होती है जिसकी वजह से आप लंबे समय तक पेट भरा हुआ महसूस करते हैं। लम्बे समय तक पेट भरा होने महसूस होने से आप कम भोजन का सेवन करेंगे, यानि कम कैलोरी आपके शरीर में जायेगी जिससे वजन प्रबंधन में मदद मिलेगी। साथ ही, कुछ अध्ययनों से पता चलता है कि सहजन में कुछ यौगिक, जैसे आइसोथियोसाइनेट्स चयापचय-बढ़ाने वाला प्रभाव डाल सकते हैं। 


8. डायबिटीज के उपचार में सहायक है (Helpful in treating diabetes)

डायबिटीज के उपचार में भी सहजन काफी फायदेमंद है। अगर आप नियमित रूप से सहजन का सेवन करते हैं तो न सिर्फ डायबिटीज का जोखिम कम होता है बल्कि अगर आप पहले से ही डायबिटीज के मरीज हैं तो उपचार में मदद मिलती है। सहजन में दरअसल ऐसे यौगिक और गुण पाए जाते हैं जोकि शरीर में रक्त शर्करा के स्तर को कम करने में सक्षम होते हैं। शोध से पता चलता है कि इसका सेवन इन्सुलिन उत्पादन और सेंसिटिविटी दोनों को रेग्यूलेट कर सकता है।

साथ ही, मोरिंगा क्लोरोजेनिक एसिड और क्वेरसेटिन जैसे एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर है। ये एंटीऑक्सिडेंट ऑक्सीडेटिव तनाव से निपटने में मदद कर सकते हैं, जो मधुमेह जटिलताओं के लिए एक जोखिम कारक है। अगर आपको टाइप 2 डायबिटीज है तो सहजन के सेवन से आपके शरीर में पैंक्रियाज के माध्यम से इन्सुलिन का उत्पादन बढ़ सकता है जिससे बीमारी के उपचार में मदद मिलती है।


9. हृदय स्वास्थ्य को बेहतर करता है (Can improve heart health)

सहजन के फायदे आपके हृदय के लिए भी हैं। हृदय हमारे शरीर का एक बेहद ही संवेदनशील और महत्वपूर्ण अंग है जिसका स्वस्थ रहना बहुत जरूरी है। ऐसे में सहजन का सेवन हृदय के समग्र स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है जिसकी वजह से हृदय रोगों का खतरा कम हो जाता है। सहजन में क्वेरसेटिन जैसे एंटीऑक्सिडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी एजेंटों की एक श्रृंखला होती है, जो हृदय स्वास्थ्य की रक्षा में मदद कर सकती है।

इसके अलावा, क्वेरसेटिन लिपिड के फॉर्मेशन और सूजन को रोकने में मदद कर सकता है, जो दोनों हृदय रोग में योगदान कर सकते हैं। सहजन में कोलेस्ट्रॉल कम करने वाले गुण भी हो सकते हैं जोकि हृदय को स्वस्थ रखने के लिए जरूरी है। ऐसे में अगर आप अपने हृदय को स्वस्थ रखना चाहते हैं और किसी भी प्रकार के हृदय रोगों से बचना चाहते हैं तो नियमित रूप से सहजन का सेवन कर सकते हैं।


10. बैक्टिरियल इन्फेक्शन से रक्षा करता है (Protects against bacterial infections)

सहजन का नियमित सेवन करना बैक्टिरियल इन्फेक्शन से भी आपकी रक्षा करता है। बल्कि सदियों से सहजन का इस्तेमाल घावों और त्वचा संबंधित बीमारियों को ठीक करने के लिए किया जाता रहा है। आयुर्वेद बखूबी सहजन के फायदे समझता था तभी प्राचीन चिकित्सा ग्रंथों में बैक्टिरियल इन्फेक्शन को दूर करने के लिए इसके इस्तेमाल का उल्लेख भी मिलता है। दरअसल सहजन में एल्कलॉइड्स, फेनोलिक्स और ग्लूकोसाइनोलेट्स जैसे यौगिक पाए जाते हैं जोकि बैक्टिरियल इन्फेक्शन को दूर करते हैं।

आधुनिक प्रयोगों और शोधों से पता चलता है कि सहजन का इस्तेमाल करना ई कोली, साल्मोनेला, और स्टैफिलोकोकस ऑरियस जैसे बैक्टीरिया से जुड़े इन्फेक्शन में मददगार साबित होता है। सहजन इम्यून सिस्टम को भी मजबूत बनाता है जिसकी वजह से जिससे इन्फेक्शन और अन्य संक्रमण से लड़ने में मदद मिलती है। उम्मीद है आप समझ गए होंगे कि सहजन का पेड़ के फायदे क्या हैं।


पुरुषों के लिए सहजन लाभ क्या हैं (Benefits of drumstick for men in Hindi)

पुरुषों के लिए सहजन लाभ कई हैं। इसके नियमित सेवन से इम्यून सिस्टम मजबूत बनता है, टेस्टोस्टेरोन का उत्पादन बढ़ता है, इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की समस्या दूर होती है, प्रोस्टेट कैंसर होने का जोखिम कम हो जाता है, हड्डियां मजबूत बनती हैं और शरीर में ऊर्जा का संचार होता है। साथ ही, इसका सेवन पुरुषों में स्पर्म काउंट बढ़ाने के साथ ही स्पर्म की गुणवत्ता और गतिशीलता में भी इजाफा करता है जिससे इनफर्टिलिटी की समस्या का समाधान होता है।

इसके अलावा, सहजन का नियमित सेवन करने से पुरुषों में यौन शक्ति भी बढ़ती है जिससे सेक्सुअल परफॉर्मेंस बेहतर होता है। पुरुषों को सहजन के लाभ प्राप्त करने के लिए इसकी सब्जी खानी चाहिए। इसके अलावा, सहजन के बीज और अर्क का इस्तेमाल करके भी पुरुष कई यौन फायदे प्राप्त कर सकते हैं।


महिलाओं के लिए सहजन लाभ क्या हैं (Benefits of drumstick for women in Hindi)

पुरुषों के साथ ही सहजन के फायदे महिलाओं के लिए भी हैं। इसके नियमित सेवन से महिलाओं में हड्डियों का स्वास्थ्य बेहतर होता है, बालों का झड़ना कम होता है, त्वचा जवां और कोमल बनती है, स्तनों में दूध का उत्पादन तेज गति से होता है, भ्रूण का स्वास्थ्य बेहतर बनता है, गर्भवती महिलाओं का प्रजनन क्षमता बेहतर बनती है, शरीर में एनर्जी बढ़ती है।

कुछ अध्ययनों से पता चलता है कि सहजन का सेवन करने से महिलाओं में PCOS के लक्षणों को दूर करने में भी मदद मिल सकती है। सहजन रक्त शर्करा के स्तर और हार्मोन को नियंत्रित करने में मदद कर सकता है, जो संभावित रूप से पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (पीसीओएस) से पीड़ित महिलाओं के लिए लाभ प्रदान करता है।


गठिया बाई में सहजन के फायदे (Benefits of drumstick in arthritis)

गठिया यानि arthritis की समस्या को दूर करने में भी सहजन के फायदे हैं। सहजन के बीज और पत्तियों में सुजनरोधी गुण पाए जाते हैं जिसकी वजह से गठिया रोग में होने वाली सूजन से राहत मिलती है। सूजन ही जोड़ों में अकड़न और दर्द का कारण बनती हैं, जिसे दूर करने में भी सहजन फायदेमंद हो सकता है। इसके साथ ही सहजन में एंटीऑक्सीडेंट्स गुण पाए जाते हैं जोकि हड्डियों और कार्टिलेज की कोशिकाओं और ऊतकों की भी रक्षा मुक्त कणों से करते हैं।

आप जानते ही होंगे कि हड्डियों का स्वास्थ्य बेहतर हो, वे मजबूत और स्थिर बने इसके लिए कैल्शियम की आवश्यकता होती है। हड्डियों में विटामिन डी के अवशोषण में भी कैल्शियम बहुत जरूरी होता है। ऐसे में सहजन में कैल्शियम की भरपूर मात्रा पाई जाती है जिससे हड्डियों को मजबूती मिलती है। इससे आर्थराइटिस का जोखिम काफी कम हो जाता है।


सहजन के पत्ते खाली पेट खाने से क्या होता है?

सहजन के पत्ते खाली पेट खाने से पाचन शक्ति मजबूत बनती है और पाचन संबंधित सभी बीमारियां भी दूर होती हैं। वे विटामिन, खनिज और एंटीऑक्सिडेंट से भरे हुए हैं जो विभिन्न प्रकार के स्वास्थ्य लाभ प्रदान कर सकते हैं। सहजन की पत्तियां विटामिन ए, बी, सी और ई से भरपूर होती हैं जिससे शरीर को आवश्यक पोषक तत्वों की प्राप्ति होती है। इसमें पाए जाने वाले यौगिक और गुण इम्यून सिस्टम को भी मजबूत बनाते हैं इसलिए रोजाना खाली पेट इसका सेवन किया जाना चाहिए।

इसके अलावा, खाली पेट सहजन की पत्तियां खाने से त्वचा संबंधित बीमारियां दूर होती हैं और बाल झड़ना भी कम होता है। जहां तक रही बाल झड़ने का प्रश्न तो इसके 20 से भी अधिक कारण होते हैं। अगर आप बाल झड़ने या गंजेपन की समस्या से पीड़ित हैं तो सहजन की पत्तियां चबाने से पहले Hair Test दें। इस टेस्ट के माध्यम से आप जान सकेंगे कि आपके बाल क्यों झड़ रहे हैं ताकि जल्द से जल्द सही ट्रीटमेंट किया जा सके। आप हमारे हेयर केयर एक्सपर्ट्स से बात करके सहजन की पत्तियों का सेवन खाली पेट बालों के विकास में मदद करने के लिए कर सकते हैं।


सहजन के फायदे और नुकसान (Benefits and disadvantages of drumstick in Hindi)

सहजन के सेवन से जहां बालों का झड़ना कम होता है, इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की समस्या से राहत मिलती है, उच्च रक्तचाप कम होता है, वजन प्रबंधन में मदद मिलती है, त्वचा संबंधित दिक्कतें दूर होती हैं, हृदय स्वास्थ्य बेहतर होता है, फर्टिलिटी बढ़ाता है और लिवर को बीमारियों से बचाता है तो वहीं इसके नुकसान में रक्त शर्करा कम होना, अन्य दवाओं से इंटरेक्शन, एलर्जी और पेट दर्द की दिक्कत हो सकती है।

इसलिए जरूरी है कि आप इसका सेवन उचित मात्रा में करें। अगर आप पहले से ही किसी भी बीमारी से जूझ रहे हैं या किसी बीमारी के लिए दवाओं का सेवन कर रहे हैं तो डॉक्टर की सलाह सहजन के सेवन से पूर्व जरूरी है। इसके अलावा, अगर आपको सहजन के नुकसान इसके सेवन के उपरांत दिखाई देते हैं तो सेवन करना तुरंग बंद भी कर दें।


सहजन के सेवन के तरीके क्या हैं (Ways to consume drumstick in Hindi)

पुरुषों के लिए सहजन लाभ प्राप्त करने के लिए इसका सही सेवन विधि आपको मालूम होना चाहिए। सहजन के फायदे प्राप्त करने के लिए सबसे बेहतर है कि आप इसके फलों की सब्जी बनाकर खाएं। इसकी सब्जी नियमित रूप से खाने से कई बीमारियां आसपास भी नहीं फटकती हैं और आपका समग्र स्वास्थ्य बेहतर बनता है। इसके अलावा, आप सहजन की पत्तियों का इस्तेमाल भी स्वास्थ्य फायदों के लिए कर सकते हैं।

आप इसकी कुछ पत्तियों को सब्जी बनाते समय इस्तेमाल कर सकते हैं या किसी फल के जूस में इसकी पत्तियों को भी पिस कर मिला सकते हैं। सहजन के अर्क का चूर्ण/पाउडर भी पाचन तंत्र को मजबूत करने और हृदय को स्वस्थ रखने के लिए किया जाता है। ध्यान रखें कि इसका सेवन एक या दो दिन करने से फायदे नहीं मिलने वाले, इसलिए नियमित रूप से इसकी पत्तियों, फलों और फूलों का इस्तेमाल करें और फायदे प्राप्त करें।

सहजन की रेसिपी (Sahjan Recipes)

सहजन एक ऐसा पेड़ है जिसके सभी भागों का इस्तेमाल आप कर सकते हैं। खासतौर पर इसके फूलों और फलों की कई रेसिपी बनाई जा सकती हैं और सेवन किया जा सकता है। तो आइये देखते हैं कि सहजन की स्वादिष्ट और पौष्टिक रेसिपीज कौन सी हैं और इन्हें आप कैसे बना सकते हैं। आप इन सभी रेसिपीज का विडियो देख सकते हैं। 

 

निष्कर्ष (Conclusion)

पुरुषों के लिए सहजन लाभ कई हैं। इसके नियमित सेवन से पुरुषों में इरेक्टाइल डिस्फंक्शन, इनफर्टिलिटी और यौन उत्तेजना में कमी की समस्या दूर होती है। साथ ही इसका सेवन पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन के उत्पादन को बढ़ाता है, स्पर्म की गुणवत्ता और गतिशीलता में सुधार करता है, प्रोस्टेट कैंसर के जोखिमों को भी कम करता है। इसके नियमित सेवन से पुरषों और महिलाओं दोनों में बाल झड़ना कम होता है और त्वचा का स्वास्थ्य बेहतर होता है।

हालांकि सहजन के फायदे (Moringa Benefits In Hindi) कई हैं लेकिन ध्यान रखें कि इसके सेवन से कुछ लोगों में साइड इफेक्ट्स भी दिखलाई पड़ सकते हैं जैसे एलर्जी। इसके अलावा यह दवाओं से इंटरैक्ट कर सकता है। इसके सेवन से आपके रक्त में शुगर को मात्रा भी कम हो सकती है यानि सहजन के फायदे और नुकसान दोनों हैं। सहजन के सभी भागों यानि जड़, छाल, पत्ती, फूलों और फलों का सेवन स्वास्थ्य फायदों के लिए किया जा सकता है।


अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (Frequently Asked Questions)

1. पुरुषों के लिए सहजन लाभ क्या हैं?

पुरुषों के लिए सहजन लाभ कई हैं। इसके नियमित सेवन से पुरुषों में इरेक्टाइल डिस्फंक्शन और इनफर्टिलिटी की समस्या दूर होती है, यौन उत्तेजना बढ़ती है, प्रोस्टेट कैंसर का जोखिम कम हो जाता है, स्पर्म की गुणवत्ता और गतिशीलता में सुधार आता है और साथ ही टेस्टोस्टेरोन का उत्पादन भी बढ़ जाता है। 


2. सहजन की तासीर कैसी होती है?

सहजन की तासीर ठंडी होती है। आयुर्वेद जैसी पारंपरिक चिकित्सा प्रणालियों में सहजन की पत्तियों (मोरिंगा की पत्तियों) की प्रकृति ठंडी मानी जाती है।


3. सहजन का पेड़ के फायदे क्या हैं?

सहजन का पेड़ के कई फायदे हैं जैसे इसके नियमित सेवन से बालों का झड़ना कम होता है, त्वचा संबंधित बीमारियां दूर हो जाती हैं, रक्त शर्करा कम होता है, आर्थराइटिस के उपचार में मदद मिलती है, पाचन स्वास्थ्य और इम्यून सिस्टम मजबूत बनता है, शरीर में ऊर्जा का संचार होता है, खराब कोलेस्ट्रॉल कम होता है।


4. सहजन कौन कौन सी बीमारी में काम आता है?

सहजन कई बीमारियों को दूर करने के काम आता है। इसके नियमित सेवन से त्वचा संबंधित रोग दूर होते हैं, किडनी में पथरी का जोखिम कम हो जाता है, अस्थमा और आर्थराइटिस रोग के उपचार में मदद मिलती है, पाचन संबंधित दिक्कत दूर होते हैं, हृदय रोग दूर होते हैं, इरेक्टाइल डिस्फंक्शन और प्रोस्टेट कैंसर का जोखिम कम हो जाता है।


References

files/author_Dr.-Shailendra-Chaubey-BAMS_300x_3fb01719-6325-4801-b35b-3fb773a91669.jpg

Dr. Shailendra Chaubey, BAMS

Ayurveda Practioner

A modern-day Vaidya with 11 years of experience. He is the founder of Dr. Shailendra Healing School that helps patients recover from chronic conditions through the Ayurvedic way of life.

Popular Posts

Leave a comment

Please note, comments need to be approved before they are published.

आपके बाल झड़ने का कारण क्या है?

डॉक्टरों द्वारा डिज़ाइन किया गया Traya का मुफ़्त 2 मिनट का हेयर टेस्ट लें, जो आपके बालों के झड़ने के मूल कारणों की पहचान करने के लिए आनुवांशिक, स्वास्थ्य, जीवनशैली और हार्मोन जैसे 20+ कारकों का विश्लेषण करता है।

हेयर टेस्ट लेTM