Skip to content

पुरुषों के लिए शिलाजीत के फायदे हिंदी | Shilajit ke fayde


Published:
Updated:
image

शिलाजीत जिसे Natural Viagra भी कहा जाता है, पुरुषों और महिलाओं दोनों के लिए ही काफी फायदेमंद है। खासतौर पर शिलाजीत के फायदे पुरुषों के लिए उल्लेखनीय हैं क्योंकि दावा किया जाता है कि Premature Ejaculation, Erectile Dysfunction, Low Testosterone, Low Sex Drive, Low Sperm Count, Infertility आदि समस्याओं से जूझ रहे पुरुष इन समस्याओं से छुटकारा पा सकते हैं। Instagram Reels और YouTube Shorts में भी आपने खूब इसकी प्रशंसा सुनी होगी।

परंतु आखिर सच्चाई क्या है? क्या वाकई शिलाजीत के फायदे पुरुषों के लिए हैं या ये सिर्फ एक छलावा है। इस ब्लॉग में हम इसी पर विस्तार से बात करेंगे। आप सिर्फ शिलाजीत के फायदे हिंदी में ही नहीं जानेंगे बल्कि यह भी जानेंगे कि क्या उन फायदों को साबित करने के लिए कोई शोध किया गया है या नहीं। तो आइए इस नेचुरल वायग्रा माने जाने वाले पदार्थ के फायदों को समझते हैं।


शिलाजीत क्या है (Shilajit kya hota hai)


शिलाजीत एक आयुर्वेदिक औषधि है जिसका इस्तेमाल सदियों से शरीर में ताकत को बढ़ाने, प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने और साथ ही यौन स्वास्थ्य बेहतर करने के लिए किया जाता रहा है। यह एक चिपचिपा, काला, टार जैसा पदार्थ है जो ऊंची पर्वत श्रृंखलाओं की चट्टानों से आता है। आयुर्वेदिक ग्रंथों में शिलाजीत का पहला संदर्भ चरक संहिता में मिलता है।


चरक संहिता में लिखा गया है कि चट्टानों में सोना और अन्य धातुएँ मौजूद होती हैं जो गर्मी प्राप्त करती हैं और स्राव छोड़ती हैं, जिसे शिलाजीत कहा जाता है। आयुर्वेद के साथ ही आज के आधुनिक चिकित्सा ने भी इसके फायदों को स्वीकार किया है और माना है कि शिलाजीत एंटीऑक्सीडेंट, इम्यूनोमॉड्यूलेटरी, एंटी-इंफ्लेमेटरी, एडाप्टोजेनिक और एंटीडिस्लिपिडेमिक गुणों से भरपूर है।


पुरुषों के लिए शिलाजीत के फायदे (Shilajit ke fayde)

सबसे पहले हम आपको जानकारी देंगे कि शिलाजीत के फायदे पुरुषों के लिए क्या हैं। मुख्य रूप से हम सबसे पहले आपको यह बताएंगे कि शिलाजीत के यौन फायदे क्या होते हैं, इसके पश्चात हम अन्य फायदों पर भी बात करेंगे।


1.  प्रजनन क्षमता में वृद्धि करता है (Shilajit increases fertility)


भारत में पुरुषों में infertility की समस्या काफी हद तक बढ़ चुकी है। ICMR द्वारा किए गए एक स्टडी में यह बात सामने आई कि भारत में लगभग 15% कपल्स इस समस्या से जूझ रहे हैं जिसकी वजह से गर्भ धारण करने में दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। पुरुषों में यह समस्या low sperm count के साथ ही शुक्राणु गतिशीलता खराब होने की वजह से भी होती है। 

इस समस्या को दूर करने में शिलाजीत आपकी मदद कर सकता है। यह पुरुषों और महिलाओं दोनों के ही प्रजनन क्षमता में वृद्धि करता है और यौन स्वास्थ्य में सुधार करता है। एक शोध के मुताबिक अगर इसे लगातार 90 दिनों तक डॉक्टर की सलाह के पश्चात सेवन किया जाए तो पुरुषों में sperm count को यह 12% तक बढ़ा सकता है।


2. पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन लेवल को बढ़ाता है (Increases testosterone levels in men)

Testosterone एक male sex hormone है जो पुरुषों के लिए सबसे जरूरी होता है। अगर इसकी कमी शरीर में हो जाए तो कई दिक्कतें दिखाई देने लग जाती हैं जैसे मांशपेशियों का विकास न होना, थकान, अत्यधिक नींद आना और साथ ही sex drive जिसे libido भी कहा जाता है, का कम होना। पुरुषों की आयु जैसे जैसे बढ़ती है, इसका लेवल भी कम होता जाता है।

ऐसे में इसकी कमी को आप पूरा करने के लिए शिलाजीत का सेवन शुरू कर सकते हैं। आयुर्वेद के साथ साथ ही आधुनिक चिकित्सा ने भी यह माना है कि रोजाना शिलाजीत के सेवन से टेस्टोस्टेरोन का लेवल बढ़ता है। इससे न सिर्फ थकान और तनाव से मुक्ति मिलेगी बल्कि कामवासना (libido) भी सुधरेगा। National Institute of Health द्वारा किए गए एक शोध में इस बात की पुष्टि भी की गई है कि शिलाजीत को रोजाना दो बार सेवन करने से टेस्टोस्टेरोन में काफी बढ़ोत्तरी होती है।


3. शीघ्रपतन की समस्या को दूर करने में मददगार (Eliminates the problem of premature ejaculation)

पुरुषों में शीघ्रपतन तब होता है जब सेक्स के दौरान वीर्य शरीर से जल्दी निकल जाता है जिससे कई दिक्कतें होती हैं। इस वजह से व्यक्ति की निजी जिंदगी काफी हद तक प्रभावित होती है और साथ ही यह तनाव, थकान और कई बार इरेक्टाइल डिस्फंक्शन का भी कारण बन जाता है। ऐसे में इस समस्या के निदान में शिलाजीत फायदेमंद हो सकता है।

हालांकि आधुनिक चिकित्सा विज्ञान के पास शिलाजीत के फायदे शीघ्रपतन के लिए लिमिटेड ही हैं लेकिन आयुर्वेद और प्राचीन चिकित्सा प्रणाली में शिलाजीत का इस्तेमाल प्रीमेच्योर इजैकुलेशन की समस्या को दूर करने के लिए किया जाता था। इसमें फुलविक एसिड के साथ ही अन्य कई पोषक तत्व पाए जाते हैं जिससे प्रीमेच्योर इजैकुलेशन की समस्या में मदद मिल सकती है।


4. शिलाजीत यौन इच्छा को बढ़ाता है (Shilajit increases sexual desire)

शिलाजीत यौन इच्छा में कमी यानि low sex drive की समस्या को भी दूर करने में मदद करता है। यह सामान्य है और अस्थायी या दीर्घकालिक हो सकता है। कामेच्छा स्वाभाविक रूप से व्यक्ति-दर-व्यक्ति भिन्न होती है और आपके पूरे जीवन में इसमें उतार-चढ़ाव हो सकता है। खासतौर पर जैसे जैसे पुरुषों की उम्र बढ़ती है, उनमें यौन इच्छा की कमी देखने को मिलती है। यह चिंतन करने वाला विषय तब हो जाता है जब कोई भी सेक्सुअल एक्टिविटी व्यक्ति के सेक्स ड्राइव को नहीं बढ़ाते हैं।

ऐसे में शिलाजीत कामोत्तेजक गुणों को प्रदर्शित करता है जो न केवल मानसिक तनाव और चिंता को कम करने में मदद करता है बल्कि टेस्टोस्टेरोन के उत्पादन को भी उत्तेजित करता है जो प्रजनन क्षमता और कामेच्छा को बढ़ाते हैं। इसके सेवन से गुप्तांगों में रक्त प्रवाह भी बढ़ता है जिससे testosterone के उत्पादन में मदद मिलती है जोकि sex drive को बेहतर करने के लिए आवश्यक होता है।


5. Erectile Dysfunction की समस्या दूर करे शिलाजीत (Shilajit for overcoming erectile dysfunction problem)

इरेक्टाइल डिसफंक्शन (ED) वाले प्रत्येक 100 रोगियों में से लगभग 25 रोगियों की उम्र 30 वर्ष से कम है। एक दशक पहले यह संख्या महज पांच से सात थी। इसके पीछे क्या कारण है, भारत में erectile dysfunction से परेशान लोगों के संख्या में इजाफा क्यों हो रहा है? इसका कारण है तनाव, खराब खानपान, अल्कोहल का सेवन और खराब लाइफस्टाइल। 

इरेक्टाइल डिस्फंक्शन एक ऐसी समस्या है जिसमें पुरुष के लिंग में संभोग को लेकर उत्तेजना नहीं होती है। इसलिए इसे नपुंसकता भी कहा जाता है। ऐसे में शिलाजीत का सेवन इस समस्या से निदान दिलाने में मदद करता है। इसके सेवन से गुप्तांगों तक रक्त प्रवाह बढ़ जाता है और साथ ही लिंग का स्वास्थ्य भी सुधरता है जोकि एक बढ़िया इरेक्शन पाने के लिए सबसे जरूरी होते हैं।


शिलाजीत के फायदे 

Shilajit ke fayde

1. अल्जाइमर की समस्या को दूर करे (Shilajit helps dealing with the problem of Alzheimer's)

अल्जाइमर दिमाग से संबंधित एक ऐसी बीमारी है जिसमें इंसान के सोचने समझने की क्षमता काफी हद तक प्रभावित होती है। इस बीमारी में याददाश्त कम हो जाती है, सोचने समझने की क्षमता में कमी हो जाती है और साथ ही, व्यक्ति के व्यवहार में कई नकारात्मक बदलाव देखने को मिलते हैं। इसके इलाज में शिलाजीत काफी फायदेमंद साबित हो सकता है।

National Institute of Health द्वारा किए गए एक शोध से यह बात सामने निकलकर आई कि यह अल्जाइमर की समस्या की जड़ से खत्म करने या कम करने में मददगार साबित हो सकता है। इसका कारण है Fulvic Acid जोकि शिलाजीत में भरपूर मात्रा में पाया जाता है। अल्जाइमर की समस्या में Tau Protein का बड़ा हाथ होता है जिसे दूर करने में फुलविक एसिड महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।


2. थकान और कमजोरी को दूर करता है (Shilajit keeps away fatigue and weakness)

भारत में एक बड़ी जनसंख्या Chronic fatigue syndrome (CFS) से जूझ रही है जिसकी वजह से उनकी पर्सनल और प्रोफेशनल लाइफ काफी प्रभावित होती है। यह समस्या तब शुरू होती है जब आपके शरीर की कोशिकाएं यानी सेल्स उचित मात्रा में ऊर्जा का उत्पादन नहीं कर पाती यानि Mitochondria dysfunction हो जाता है। इस समस्या के अध्ययन में डॉक्टरों तक किया गया एक शोध महत्वपूर्ण हो जाता है।

दरअसल वर्ष 2012 में कुछ डॉक्टरों ने चूहों पर एक शोध किया ताकि पता चल सके कि शिलाजीत Chronic fatigue syndrome (CFS) को दूर कर सकता है या नहीं। इस शोध से यह सामने निकलकर आया कि शिलाजीत का डोज देने से चूहों में मौजूद CFS की समस्या काफी हद तक दूर हुई। 


3. उम्र बढ़ने के लक्षणों को दूर करता है (Eliminates signs of aging)

उम्र बढ़ने के कई लक्षण होते हैं जैसे झुर्रियां, त्वचा का बेजान दिखना, त्वचा की प्राकृतिक रंगत खत्म होना आदि। कई बार उम्र बढ़ने के लक्षण समय से पहले भी दिखाई देने लग जाते हैं। ऐसे में शिलाजीत इन लक्षणों को दूर करने में काफी सहायक साबित हो सकता है। शिलाजीत में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण और एंटीऑक्सीडेंट मौजूद होते हैं जो झुर्रियों और महीन रेखाओं के लक्षणों को कम करने में मदद करते हैं। 

यह आपकी त्वचा को अधिक जवान बनाता है। यह मुक्त कणों और सेलुलर क्षति से भी रक्षा कर सकता है। इसकी वजह से, अगर आप शिलाजीत का नियमित उपयोग करते हैं तो यह आपको जवान बनाने और आपकी उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को धीमा करने में मदद कर सकता है। 


4. हृदय का स्वास्थ्य बेहतर होता है (Improves heart health)

शिलाजीत का नियमित सेवन आपके हृदय स्वास्थ्य को भी बेहतर करता है और शरीर में रक्त प्रवाह बढ़ाता है। शिलाजीत का उपयोग आयुर्वेदिक चिकित्सा की पारंपरिक प्रणाली में उच्च रक्तचाप के इलाज और कई जड़ी-बूटियों की तैयारी के साथ हृदय स्वास्थ्य में सुधार के लिए किया जाता है। शिलाजीत हृदय रोगों के खतरे को भी कम करता है। 

यह अपने एंटीऑक्सीडेंट गुणों के लिए प्रसिद्ध है जो कोशिकाओं के स्वास्थ्य में सुधार करता है, उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को धीमा करता है और कोलेस्ट्रॉल को कम करता है। खराब कोलेस्ट्रॉल के कम होने की वजह से हृदय स्वास्थ्य में सुधार आता है और साथ ही हृदय संबंधी रोगों को दूर रखने में मदद मिलती है।


5. वजन को नियंत्रित करने में भी शिलाजीत सहायक (Shilajit helps in weight control)

शिलाजीत को वजन नियंत्रण में भी उपयोगी माना गया है। शिलाजीत में 84 से भी ज्यादा खनिज पदार्थ मौजूद होते हैं जोकि शरीर में चयापचय को बढ़ावा देते हैं। इससे शरीर अधिक कैलोरी जलाने लगता है जोकि वजन बढ़ने का एक प्रमुख कारण है। इससे वजन को घटाने में मदद मिलती है। इसके साथ ही, शिलाजीत में कुछेक ऐसे पोषक तत्व भी पाए जाते हैं जो भूख को नियंत्रित करने का कार्य करते हैं।

यानि इसके सेवन के उपरांत आपका भोजन सही से पचता है लेकिन भूख कम लगती है। कम भोजन करने की वजह से आपका वजन नियंत्रण में रहता है। इसके अलावा यह शरीर में मौजूद अतिरिक्त वसा को भी जलाता है जिससे वजन कम करके मोटापा को घटाने में सहायता मिलती है।


6. आयरन की कमी से होने वाले एनीमिया का उपचार करता है (Treats iron deficiency anemia)

शिलाजीत आयरन की कमी से होने वाले एनीमिया का भी उपचार करता है और रोगी को राहत प्रदान करता है। शिलाजीत एक प्राकृतिक इम्यूनोमॉड्यूलेटरी घटक के रूप में कार्य करता है और एनीमिया की कमजोरी, कम प्रतिरक्षा और संक्रमण के प्रति संवेदनशीलता जैसी प्रचलित समस्याओं से निपटने में मदद करता है। 

इसका कारण है शिलाजीत में मौजूद ह्यूमिक एसिड और आयरन जोकि प्रचुर मात्रा में मौजूद होते हैं। इनकी मदद से आयरन की कमी से होने वाले एनीमिया के उपचार में मदद मिलती है। खासकर कि महिलाओं में अक्सर आयरन की कमी से एनीमिया की बीमारी हो जाती है तो कह सकते हैं कि शिलाजीत के फायदे पुरुषों के लिए तो हैं ही, साथ ही महिलाओं को भी इससे फायदा प्राप्त होता है।


7. दिमाग की शक्ति को बढ़ाता है (May Improve Cognitive Function)

शिलाजीत के फायदे यौन स्वास्थ्य के साथ साथ ही शरीर के अन्य अंगों के लिए भी हैं। शिलाजीत के सेवन से आपके दिमाग की शक्ति भी बढ़ती है और दिमाग का स्वास्थ्य बेहतर होता है। खासतौर पर जिन्हें याददाश्त की समस्या होती है या जो खुद को एकाग्र नहीं रख पाते हैं, उन्हें खासतौर पर यह फायदा प्रदान करता है। आयुर्वेद के मुताबिक यह epilepsy यानी मिर्गी की स्तिथि में भी फायदेमंद होता है।

इसमें फुल्विक एसिड सहित 84 से भी अधिक खनिज और पोषक तत्व होते हैं जो अल्जाइमर और डिमेंशिया जैसे रोगों को दूर करने में मदद करते हैं। इसके साथ ही, इसमें एंटीऑक्सीडेंट गुण मौजूद होते हैं जोकि दिमाग को फ्री रेडिकल्स से होने वाले नुकसान से भी बचाते हैं। 


8. अनिद्रा की समस्या को दूर करता है (Can relieve the problem of insomnia)

अनिद्रा जिसे हम Insomnia भी कहते हैं, एक ऐसी स्तिथि है जिसमें व्यक्ति को एक अच्छी और गहरी नींद नहीं मिल पाती। बार बार जगना, जागने के बाद फिर सोने में दिक्कत महसूस होना, गहरी नींद न आना अनिद्रा के लक्षण हैं। ऐसे में शिलाजीत का सेवन अनिद्रा की समस्या को भी दूर करता है और शरीर को शांत करने में मदद करता है। रोजाना सुबह दूध के साथ इसका सेवन आपको गहरी नींद लेने में मदद करता है। 

शिलाजीत एक शक्तिशाली खनिज है जो किसी के सोने-जागने के चक्र को नियंत्रित करने, तनाव के स्तर को कम करने और मानसिक स्पष्टता का समर्थन करने में मदद कर सकता है। इसलिए, शिलाजीत को अपनी दिनचर्या में शामिल करना प्रभावी हो सकता है। हालांकि इसके सेवन से पहले एक बार डॉक्टर से परामर्श लेना आवश्यक है।


9. हड्डियों के स्वास्थ्य में फायदेमंद है शिलाजीत का सेवन (Shilajit is also helpful for bone health)

हड्डियों के स्वास्थ्य को बेहतर करने के लिए भी शिलाजीत काफी फायदेमंद साबित हो सकता है। इसका सेवन करने से हड्डियां मजबूत बनती हैं, इनका घनत्व बढ़ता है और साथ ही, उनके टूटने का खतरा कम हो जाता है। खासतौर पर महिलाओं को अक्सर ही हड्डियों से संबंधित परेशानियों से जूझना पड़ता है, इसलिए अगर वे इसका सेवन करें तो उनका हड्डी स्वास्थ्य बेहतर बनेगा।

एक अध्ययन में पाया गया कि रजोनिवृत्ति के बाद ऑस्टियोपेनिया वाली महिलाएं यानि जिनकी हड्डियों में घनत्व कम है, जिन्होंने दैनिक आधार पर शिलाजीत की खुराक ली, 11 महीने के बाद अस्थि घनत्व में महत्वपूर्ण सुधार देखा गया। यह एक महत्वपूर्ण अध्ययन है और इस और इशारा करता है कि शिलाजीत के फायदे पुरुषों के लिए तो हैं ही लेकिन इसके फायदे महिलाएं भी ले सकती हैं।


10. एक्सरसाइज और जिम करने वालों के लिए वरदान है (Shilajit is beneficial for gym goers)

अगर आप जिम जाते हैं और कड़ी मेहनत करते हैं तो सुबह दूध के साथ शिलाजीत का सेवन काफी मदद कर सकता है। वर्कआउट करने से कई बार चोट लग जाती है, हमारी मांसपेशियां क्षतिग्रस्त हो जाती हैं, ज्यादा थकान महसूस होने लगती है आदि। ऐसे में जिम जाने वालों के लिए शिलाजीत एक वरदान की तरह काम करता है। शिलाजीत एक्सरसाइज को बढ़ावा दे सकता है, मांसपेशियों की मरम्मत कर सकता है और घाव भरने की प्रक्रिया को तेज कर सकता है।

इसके अलावा अगर आप एक मस्कुलर बॉडी बनाना चाहते हैं तो भी शिलाजीत इसमें आपकी मदद कर सकता है। कुछ अध्ययनों में पाया गया है कि एथलीटों को कसरत के बाद कम थकान का अनुभव हुआ और शिलाजीत की खुराक लेने के बाद उन्होंने मनचाहा मस्कुलर शरीर पाया।


11. त्वचा को निखार देता है शिलाजीत (Shilajit makes skin radiant)

शिलाजीत के नियमित सेवन से चेहरे और शरीर की त्वचा में भी काफी निखार आता है। शिलाजीत में एंटीऑक्सीडेंट्स गुण पाए जाते हैं जिससे उम्र बढ़ने के लक्षणों में सुधार होता है। इसके साथ ही, यह त्वचा को हाइड्रेटेड भी रखता है। त्वचा हाइड्रेटेड होने से उसकी नमी बनी रहती है और साथ ही, वह कोमल और मुलायम बनती है। 

इसके अलावा, अगर आप अपने चेहरे पर दाग धब्बों, झुर्रियों और अन्य त्वचा संबंधित समस्याओं से परेशान हैं तो रोजाना शिलाजीत का सेवन उन समस्याओं को जड़ से दूर कर सकता है। यह त्वचा के लोच को बरकरार रखने में महत्वपूर्ण होता है। 


12. बालों के देखभाल में मदद करता है (Shilajit helps in hair care)

शिलाजीत बालों के देखरेख में भी मददगार है। अगर आप बाल झड़ने, रूसी और बालों का विकास न होने जैसी समस्याओं से परेशान हैं तो शिलाजीत फायदेमंद साबित हो सकता है। रोजाना दूध के साथ शिलाजीत का सेवन करने से hair follicles मजबूत बनते हैं जिससे बालों का टूटना रुकता है तो वहीं इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट्स गुण रूसी को दूर करते हैं और बालों की त्वचा को मुक्त कणों से होने वाले नुकसान से भी बचाते हैं।

लेकिन, यह बालों से जुड़ी समस्या का समाधान कर भी सकता है और नहीं भी। खासतौर पर अगर आपको अपनी बालों की समस्या का सही कारण न पता हो तो इसके सेवन से फायदा नहीं होगा। फायदा होगा Free Traya Hair Test देने से, क्योंकि इसकी मदद से आप न सिर्फ यह जानते हैं कि आपके बाल क्यों झड़ रहे हैं बल्कि यह भी जानेंगे कि उसका समाधान कैसे किया जाना चाहिए। हजारों लोगों ने झड़ते बाल और गंजेपन से छुटकारा पाया है, आप भी पा सकते हैं जिसकी शुरुआत एक फ्री टेस्ट से होती है। 


शिलाजीत के नुकसान (Disadvantages of Shilajit)

शिलाजीत के फायदे हैं तो साथ ही इसके कुछ नुकसान भी हैं। इसके नुकसान आपको खासकर कि तब देखने को मिलते हैं जब आप मनमाने ढंग से इसका सेवन शुरू कर देते हैं और साथ ही जरूरी सावधानियां नहीं बरतते हैं। शुद्ध शिलाजीत में heavy metals जैसे arsenic, lead, and mercury पाए जाते हैं जिसका सेवन जानलेवा हो सकता है इसलिए इसका सेवन तभी करें जब इसका शोधाधन की प्रक्रिया से गुजरा हो। 

इसके साथ ही, अगर आप पहले से बीमार हैं और दवाइयां ले रहे हैं तो शिलाजीत उन दवाइयों से इंटरैक्ट कर सकता है। इससे शरीर पर नकारात्मक प्रभाव देखने को मिल सकता है। जैसा कि हमने आपको पहले ही बताया, शिलाजीत में आयरन भरपूर मात्रा में मौजूद होती है और इसलिए अगर आप hemochromatosis (iron overload), sickle cell anemia या thalassemia से जूझ रहे हैं तो शिलाजीत का सेवन बिलकुल न करें। यह इन समस्याओं को ज्यादा बेकार बना सकता है। कुछेक लोगों में इसके सेवन से उल्टी, मितली, पेट दर्द जैसी दिक्कतें हो सकती हैं। 


क्या शिलाजीत महिलाओं के लिए भी फायदेमंद है (Is Shilajit beneficial for women also)

शिलाजीत के फायदे पुरुषों के लिए तो सबको ज्ञात हैं लेकिन क्या महिलाएं भी इसका सेवन कर सकती हैं? क्या महिलाओं को भी शिलाजीत के फायदे हिंदी में प्राप्त होंगे? आइए समझते हैं।

तो देखिए कि शिलाजीत के फायदे पुरुषों के लिए ही सिर्फ नहीं हैं। यह महिलाओं के लिए भी संभावित लाभ प्रदान करता है। यह महिलाओं के समग्र स्वास्थ्य और कल्याण को बनाए रखने में मदद कर सकता है। साथ ही यह माना जाता है कि शिलाजीत हार्मोनल संतुलन में सहायता करता है, जोकि अगर असंतुलित हो जाए तो पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (पीसीओएस) और रजोनिवृत्ति जैसी स्थितियों के लक्षणों को कम कर सकता है।

इसके अलावा महिलाओं में अक्सर हड्डियों से जुड़ी समस्याएं जन्म लेती हैं, खासकर कि जब वे एक उम्र सीमा को पार कर लेती हैं। इसमें ओस्टियोपोरोसिस सबसे आम है। ऐसे में शिलाजीत का सेवन महिलाओं में हड्डियों से जुड़ी समस्याएं जैसे हड्डियों के घनत्व में कमी और ऑस्टियोपोरिस को दूर करने में सहायक हो सकता है। तो निष्कर्ष यह हुआ कि महिलाएं भी इसका सेवन कर सकती हैं। परंतु स्तनपान कराने वाली महिलाओं और गर्भवती महिलाओं को इसका सेवन करने से पहले डॉक्टर से परामर्श लेना आवश्यक है।


शिलाजीत से जुड़े मिथक (Myths related to Shilajit) 

शिलाजीत को हजारों वर्षों से कई फायदों के लिए इस्तेमाल किया जाता रहा है। खासतौर पर उम्र बढ़ाने और शारीरिक ताकत को बढ़ाने के लिए इसका इस्तेमाल किया जाता था। जहां एक तरफ शिलाजीत के फायदे पुरुषों के लिए कई हैं तो वहीं इससे जुड़ी कुछ ऐसी बातें हैं जो भ्रम पैदा करती हैं और झूठी हैं। आइए नीचे उन्हीं मिथकों का भंडाफोड़ करते हैं।


Myth 1. शिलाजीत दैवीय जड़ी बूटी है (Shilajit is divine herb)

हालांकि शिलाजीत के फायदे अनेकों हैं और यह उम्र को भी थामने का कार्य करती है लेकिन यह कोई दैवीय जड़ी बूटी या औषधि नहीं है। शिलाजीत एक प्राकृतिक उत्पाद है जो हिमालय जैसे पर्वतीय क्षेत्रों में हजारों वर्षों से पौधों और सूक्ष्म जीवों के क्रमिक अपघटन से बनता है। इसे The Nectar of the Gods की उपाधि अवश्य दी गई है पर यह सिर्फ इसलिए क्योंकि यह वाकई शारीरिक ताकत और जवान दिखने में मदद करता है।


Myth 2. शिलाजीत को सिर्फ सेक्सुअल बेनिफिट्स के लिए इस्तेमाल किया जाता है (Shilajit is only for sexual health)

शिलाजीत को लेकर के जो सबसे बड़ा भ्रम लोगों में है, वो ये कि इसका इस्तेमाल सिर्फ और सिर्फ सेक्सुअल हेल्थ को बेहतर बनाने के लिए किया जाता है। यह पूरी तरह सत्य नहीं है क्योंकि इसका इस्तेमाल अन्य कई स्वास्थ्य लाभों जैसे हड्डियों को मजबूत बनाने, दिमाग की शक्ति बढ़ाने, शरीर में ऊर्जा के स्तर को बढ़ाने और उम्र बढ़ने के लक्षणों को दूर करने के लिए भी किया जाता है। 


Myth 3. शिलाजीत का सेवन अधिक मात्रा में किया जाना चाहिए (Shilajit should be consumed in large quantities)

लोगों के मन में यह भ्रम भी है कि शिलाजीत को अधिक मात्रा में खाने से दोगुने फायदे मिलते हैं। लेकिन अगर आप इसकी तय मात्रा से अधिक का सेवन करते हैं तो कई प्रकार के साइड इफेक्ट्स देखने पड़ सकते हैं। इसके साइड इफेक्ट्स में शामिल है पेट दर्द, उल्टी, मितली, सांस फूलना, दिल की धड़कन तेज होना इत्यादि। 


Myth 4. शिलाजीत का सेवन सबके लिए सुरक्षित है (Consumption of Shilajit is safe for everyone)

शिलाजीत का सेवन सबके लिए बिलकुल भी सुरक्षित नहीं है। खासतौर पर बच्चों और बुजुर्गों को इसका सेवन करने से बचना चाहिए। इसका कारण है कि इसकी तासीर गर्म होती है और इसके सेवन से शरीर में काफी तेजी से एनर्जी बढ़ जाती है जिसको सभी सहन नहीं कर सकते। इसके साथ ही, गर्भवती महिलाओं और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को भी इसका सेवन नहीं करना चाहिए। 


Myth 5. शिलाजीत हर रोगों का इलाज है (Shilajit is the cure for every disease)

सबसे बड़ा मिथक एक यह भी है कि शिलाजीत हर रोगों की दवाई है। सच जान लीजिए कि यह किसी भी गंभीर बीमारी का इलाज नहीं है बल्कि यह सिर्फ उनके जोखिम को कम करती है। अगर आपको erectile dysfunction या premature ejaculation की समस्या है तो उस समस्या के कई कारण हो सकते हैं और सिर्फ शिलाजीत खाने भर से समस्या सही नहीं होगी। 


जिस प्रकार लोग बालों का झड़ना रोकने के लिए ढेरों प्रकार के घरेलू नुस्खे अपनाते हैं लेकिन कोई फायदा नहीं होता। क्योंकि जब तक आप सही कारण को नहीं समझेंगे तो फिर इलाज भी असंभव है इसलिए हम फ्री हेयर टेस्ट का सुझाव देते हैं। इसी प्रकार से शिलाजीत किसी बीमारी का इलाज नहीं करती बल्कि उस बीमारी से आपको दूर रखने में मदद कर सकती है। अगर कोई शारीरिक समस्या छोटे स्तर की है तभी जाकर शिलाजीत उसमें मदद कर सकती है लेकिन बीमारी का इलाज बिना डॉक्टर के परामर्श के करना खतरनाक हो सकता है। 


Myth 5: शिलाजीत गर्मी में नहीं खाना चाहिए (Shilajit should not be consumed in summer)

शिलाजीत को लेकर एक बड़ा भ्रम यह भी है कि लोग गर्मी के मौसम में इसके सेवन को लेकर चेतावनी देते हैं। शिलाजीत की तासीर गर्म होती है इसलिए गर्मियों के मौसम में इसका सेवन करना चाहिए, लेकिन कुछ बातों का ध्यान देकर। जैसे इसका कम क्वांटिटी में सेवन करना, इसे खाने के बाद कम से कम 3 से 4 लीटर पानी पीना जरूरी हो जाता है।


शिलाजीत का सेवन कैसे करें ?

शिलाजीत का सेवन आपको हमेशा डॉक्टर की सलाह के पश्चात ही करना चाहिए। आमतौर पर शिलाजीत की लगभग 250mg मात्रा को दूध में मिलाकर सुबह शाम पीने से फायदे मिलते हैं। खासतौर पर ठंडी के मौसम में आप दूध के साथ शिलाजीत को मिलाकर रोजाना सुबह शाम पी सकते हैं। ध्यान रखें कि अधिकतम 200mg से 300mg शिलाजीत की मात्रा होनी चाहिए, इससे अधिक होने पर ओवरडोज हो सकता है जोकि नुकसानदेह है।

अगर आपके पास दूध मौजूद नहीं है तो आप गुनगुने पानी या फिर ठंडे पानी के साथ ही इसका सेवन कर सकते हैं। सबसे पहले एक छोटे चम्मच की मदद से 250mg की मात्रा निकालें और उसे पानी/दूध में मिलाएं। इसे आपको तब तक मिलाना है जब तक कि यह सही से पानी में घुल न जाए। ठंडे पानी में यह 3 से 4 मिनट का समय ले सकता है। इसके बाद आप इसका सेवन कर सकते हैं। इसका सेवन खाली पेट और खाने के बाद भी किया जा सकता है, हालांकि बेहतर है कि आप इसे खाली पेट ही सेवन करें। शिलाजीत के फायदे पुरुषों के लिए प्राप्त करने के लिए इन बातों को अवश्य ही ध्यान में रखें। 


शिलाजीत के विभिन्न रूप और उपयोग (Uses of Shilajit in Hindi)

शिलाजीत विभिन्न रूपों में बाजारों में मिलता है। हालांकि पहाड़ों से शिलाजीत को द्रव्य और कठोर काले पत्थर के समान रंग के रूप में ही पाया जाता है लेकिन आज मार्केट में इसके उपयोग से ढेरों अलग अलग प्रकार की दवाइयां बन गई हैं। उदाहरण के तौर पर, अब आप न सिर्फ Shilajit resin का सेवन कर सकते हैं बल्कि इसका कैप्सूल, टैबलेट और पाउडर भी आपको मिल जायेगा।

खासतौर पर शिलाजीत रेसिन के पश्चात इसके कैप्सूल को अधिक मात्रा में लोग खरीदते हैं और सेवन करते हैं। शिलाजीत कैप्सूल खाने के फायदे भी शिलाजीत रेसिन की ही तरह हैं हालांकि ऐसा माना जाता है कि कैप्सूल रेसिन से कम प्रभावी होता है और उसमें शिलाजीत की कम मात्रा मौजूद होती है। ऐसे में अगर आप शिलाजीत का सेवन करने का विचार कर रहे हैं तो सभी shilajit khane ke fayde प्राप्त करने के लिए इसके लिक्विड यानी रेजिन फॉर्म का ही सेवन करें।


असली शिलाजीत की पहचान कैसे करें (How to identify real Shilajit)


वर्तमान समय में मार्केट में ढेरों शिलाजीत के ब्रांड आ गए हैं। कई व्यापारी घूम घूम कर भी गांवों शहरों में शिलाजीत बेचने का काम करते हैं। लेकिन सभी शिलाजीत शुद्ध नहीं होते और सभी फायदेमंद भी नहीं होते। Shilajit benefits in Hindi प्राप्त करने के लिए जरूरी है कि आप सिर्फ असली शिलाजीत का ही सेवन करें। तो आइए जानते हैं कि पुरुषों के लिए शिलाजीत के फायदे प्राप्त करने के लिए असली शिलाजीत की पहचान कैसे करें: 

  1. शिलाजीत अगर गर्म तापमान के संपर्क में आएगा तो यह चिपचिपा हो जाता है तो वहीं ठंडे तापमान में यह पत्थर जैसा कठोर हो जाता है, जोकि पत्थर जैसा ही टूटता भी है।
  1. शिलाजीत का एक छोटा टुकड़ा लें और इसे पानी में डाल दें। प्रामाणिक शिलाजीत पानी में आसानी से घुल जाएगा, बिना कोई अवशेष छोड़े इसे गहरे भूरे या लाल काले रंग में बदल देगा।
  1. शुद्ध शिलाजीत शराब में नहीं घुलता। शराब में शिलाजीत मिलाने पर छोटे-छोटे थक्के बन जाते हैं।
  1. शुद्ध शिलाजीत जलाने पर नहीं जलता। लेकिन शिलाजीत उच्च तापमान पर गर्म करने पर राख और बुलबुला बन जाएगा।
  1. शुद्ध शिलाजीत मुख्य रूप से गहरे रंग का होता है और बहुत कम ही सफेद होता है। इसमें तीखी गंध होती है क्योंकि यह पौधे के पदार्थ और खनिजों के टूटने के कारण बनता है।

निष्कर्ष (Conclusion)

शिलाजीत एक दुर्लभ पदार्थ है जो हिमालय क्षेत्र में ऊंची पर्वत श्रृंखला में पाया जाता है। प्राचीन आयुर्वेद में इसका इस्तेमाल शारीरिक शक्ति को बढ़ाने, उम्र बढ़ने के लक्षणों को कम करने और साथ ही शरीर में एनर्जी का संचार करने के लिए किया जाता है। साथ ही, सदियों से इसका इस्तेमाल यौन स्वास्थ्य के लिए भी किया जाता रहा है इसलिए पुरुषों के लिए शिलाजीत के फायदे उल्लेखनीय हैं।  

Shilajit ke fayde में शामिल है स्पर्म काउंट बढ़ना, नपुंसकता की समस्या दूर होना, शरीर में एनर्जी का बढ़ना, टेस्टोस्टेरोन का स्तर बढ़ना, हड्डियों का घनत्व बढ़ना, बालों और त्वचा का स्वास्थ्य बेहतर होना आदि। इसके साथ ही, शिलाजीत के फायदे दिमाग को शक्ति को बढ़ाने और शरीर में मेटाबॉलिज्म को भी बढ़ाने के लिए उल्लेखनीय है। उम्मीद है कि आप सभी शिलाजीत बेनिफिट्स को समझ गए होंगे। 


अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (Frequently Asked Question)

1. पुरुषों के लिए शिलाजीत के फायदे क्या हैं?

पुरुषों के लिए शिलाजीत के फायदे उल्लेखनीय हैं। यह पुरुषों के सेक्सुअल हेल्थ को बेहतर करता है और इरेक्टाइल डिस्फंक्शन, प्रीमेच्योर इजेकुलेशन, कामवासना में कमी, टेस्टोस्टेरोन में कमी, स्पर्म की संख्या में कमी आदि समस्याओं को दूर करता है। साथ ही, इसके सेवन से पुरुष अंदर से ताकतवर और जवान महसूस करते हैं।


2. शिलाजीत कब खाना चाहिए ?

शिलाजीत रोजाना सुबह और शाम भोजन से पहले खाना चाहिए। हालांकि आप भोजन करने के पश्चात भी इसका सेवन कर सकते हैं लेकिन भोजन से पूर्व शिलाजीत का सेवन सबसे फायदेमंद होता है।


3. शिलाजीत कितनी देर में असर करता है?

शिलाजीत के फायदे आपको 2 से 3 सप्ताह के अंदर ही दिखाई देने लगेंगे। लेकिन अगर आप सभी शिलाजीत बेनिफिट्स प्राप्त करना चाहते हैं तो इसका सेवन आपको कम से कम 3 माह तक करना चाहिए। 


4. शिलाजीत कैप्सूल खाने के फायदे क्या हैं ?

शिलाजीत कैप्सूल खाने के कई फायदे हैं। यह हड्डियों के घनत्व को कम करता है, दिमागी शक्ति को बढ़ाता है, त्वचा और बालों का स्वास्थ्य बेहतर होता है, शरीर में टेस्टोस्टेरोन का स्तर बढ़ता है, स्पर्म की गुणवत्ता और गतिशीलता में सुधार होता है, शरीर में चयापचय आसानी से होता है और साथ ही वजन को भी नियंत्रित करने में मदद मिलती है।


5. महिलाओं के लिए शिलाजीत के फायदे क्या हैं?

महिलाओं के लिए भी शिलाजीत काफी फायदेमंद है। इसके सेवन से उनकी हड्डियों का स्वास्थ्य बेहतर होता है, दिमागी शक्ति बढ़ती है, स्ट्रेस कम होता है, फर्टिलिटी बढ़ती है और साथ ही महिलाओं की त्वचा में भी निखार आता है।


6. असली शिलाजीत की कीमत कितनी है?

शिलाजीत एक दुर्लभ पदार्थ है और इसलिए यह महंगा बिकता है। अगर कोई काफी सस्ते दामों में शिलाजीत बेच रहा है तो संभवतः वह नकली है। आमतौर पर शिलाजीत के 20 ग्राम मात्रा को खरीदने के लिए आपको 900 रुपए से 1000 रुपए खर्च करने पड़ सकते हैं। 


7. पुरुष शिलाजीत का सेवन किस प्रकार से कर सकते हैं?

पुरुषों को शिलाजीत का सेवन करने के लिए इसकी 250mg खुराक को गर्म दूध में मिलाकर रोजाना सुबह शाम पीना चाहिए। अगर दूध उपलब्ध न हो तो गुनगुने पानी के साथ भी इसका सेवन किया जा सकता है।


8. यौन क्षमता पर शिलाजीत के सेवन से क्या लाभ होते हैं?

शिलाजीत के सेवन से यौन क्षमता बेहतर होती है। इसके सेवन से बढ़िया इरेक्शन में मदद मिलती है और साथ ही शीघ्रपतन की समस्या भी दूर होती है जिससे आप लंबे समय तक संभोग कर पाते हैं। साथ ही, यह स्पर्म काउंट को बढ़ाता है जिससे गर्भ धारण में आसानी होती है। यह टेस्टोस्टेरोन को भी बढ़ाता है इसलिए मर्दाना ताकत में वृद्धि होती है और सेक्स ड्राइव बेहतर होता है।


References

files/author_Dr.-Shailendra-Chaubey-BAMS_300x_3fb01719-6325-4801-b35b-3fb773a91669.jpg

Dr. Shailendra Chaubey, BAMS

Ayurveda Practioner

A modern-day Vaidya with 11 years of experience. He is the founder of Dr. Shailendra Healing School that helps patients recover from chronic conditions through the Ayurvedic way of life.

Popular Posts

Leave a comment

Please note, comments need to be approved before they are published.

आपके बाल झड़ने का कारण क्या है?

डॉक्टरों द्वारा डिज़ाइन किया गया Traya का मुफ़्त 2 मिनट का हेयर टेस्ट लें, जो आपके बालों के झड़ने के मूल कारणों की पहचान करने के लिए आनुवांशिक, स्वास्थ्य, जीवनशैली और हार्मोन जैसे 20+ कारकों का विश्लेषण करता है।

हेयर टेस्ट लेTM