Skip to content

पुरुषों के लिए अलसी के फायदे और नुकसान | Flaxseed benefits for men in Hindi


Published:
Updated:
image

आज हम उस अद्भुत बीज की चर्चा करेंगे जो न सिर्फ पुरुषों की सेहत का खजाना है, बल्कि उन्हें तंदुरुस्त और चुस्त भी बनाए रखता है। जी हाँ, हम बात कर रहे हैं अलसी के बीजों की, जिनके छोटे-छोटे दानों में समाए हैं बड़े-बड़े स्वास्थ्य लाभ।

आधुनिक जीवनशैली में स्वस्थ खान-पान का महत्व सर्वोपरि है। अलसी के बीज, जो कि ओमेगा-3 फैटी एसिड्स, लिग्नन्स और फाइबर का शानदार स्रोत हैं, पुरुषों के लिए विशेष लाभ प्रदान करते हैं। अलसी बीज, वैज्ञानिक रूप से लिनम यूसिटाटिसिमम के नाम से जाने जाते हैं, छोटे, पोषक से भरपूर पावरहाउस हैं जिनका हजारों सालों से उपयोग विभिन्न स्वास्थ्य लाभों के लिए किया जाता है। 

अलसी के बीज पुरुषों के लिए विशेष रूप से लाभकारी होते हैं क्योंकि वे हृदय की सुरक्षा करते हैं, पाचन में सहायक होते हैं, प्रोस्टेट स्वास्थ्य को बेहतर बनाते हैं, इंफ्लेमेशन को कम करते हैं, वजन को नियंत्रित करते हैं, ब्लड शुगर स्तर को स्थिर रखते हैं और मूड को सुधारने के साथ तनाव और अवसाद के लक्षणों को कम करते हैं। 

अलसी बीजों की जगह आयुर्वेद में भी है, जो भारत में 5,000 साल पहले उत्पन्न हुए पारंपरिक चिकित्सा प्रणाली है। आयुर्वेद में, अलसी बीजों को अक्सर उनकी औषधीय गुणों के लिए मान्यता प्राप्त होती है और इन्हें शरीर के दोषों (वात, पित्त, और कफ) पर संतुलन प्रभाव होने का माना जाता है। अलसी बीज पुरुषों को हृदय स्वास्थ्य, प्रोस्टेट स्वास्थ्य और अन्य लाभों के प्रबंधन में मदद कर सकते हैं। आइए इस लेख के माध्यम से पुरुषों के लिए अलसी के फायदे को समझें।

पुरुषों के लिए अलसी के फायदे (Benefits of Flax Seeds for Men)

पुरुषों के लिए अलसी के फायदे (Benefits of Flax Seeds for Men)

१) हृदय का स्वास्थ्य (Improves Heart Health)

पुरुषों को हृदय रोग का अधिक खतरा होता है। अलसी का उपयोग करने से हृदय रोग का खतरा कम होता है। अलसी के बीज ओमेगा-3 फैटी एसिड्स में उच्च होते हैं, विशेष रूप से अल्फा-लिनोलेनिक एसिड (ALA), जो रक्तचाप, धमनीय सूजन, और कोलेस्ट्रॉल स्तरों को कम करके हृदय रोग के खतरे को कम कर सकता है।

२) प्रोस्टेट का स्वास्थ्य (Helps Prostate Health)

अलसी में लिग्नान होते हैं, जो फाइटोकेमिकल होते हैं और प्रोस्टेट स्वास्थ्य का समर्थन करने में संकेत दिखाते हैं। कुछ अध्ययनों का मानना है कि लिग्नान प्रोस्टेट कैंसर के जोखिम को कम करने और प्रोस्टेट से संबंधित लक्षणों को कम करने में मदद कर सकते हैं।

३) पाचन स्वास्थ्य (Supports Digestion)

अलसी में उच्च फाइबर सामग्री होने के कारण स्वस्थ पाचन प्रोत्साहित कर सकते हैं और कब्ज से बचा सकते हैं। यह खासकर उन पुरुषों के लिए फायदेमंद हो सकता है जिन्हें पाचन संबंधी समस्याएं हो सकती हैं।

४) हार्मोन संतुलन (Aids in Hormonal Balance)

अलसी में पाए जाने वाले लिग्नान को हार्मोन संतुलन के प्रभाव वाला माना जाता है, जो पुरुषों के हार्मोनल स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण हो सकता है। ये यौगिक एंड्रोजेन स्तर को नियंत्रित करने और हार्मोन संतुलन का समर्थन करने में मदद कर सकते हैं।

५) वजन प्रबंधन (Helps in Weight Management)

अलसी के बीज कम कार्बोहाइड्रेट में होते हैं लेकिन फाइबर में उच्च होते हैं, जो उन्हें वजन प्रबंधन के लिए एक महान भोजन बनाते हैं। उनकी फाइबर सामग्री में संतुष्टि की भावना में मदद मिलती है, जो अधिक खाने को कम कर सकती है। इसमें उच्च मात्रा में फाइबर होता है, जो पेट को लंबे समय तक भरा हुआ महसूस कराता है और अतिरिक्त खाने से रोकता है। इससे वजन प्रबंधन में मदद मिल सकती है और पुरुषों को एक स्वस्थ वजन बनाए रखने में सहायता कर सकती है।

६) रक्त शर्करा नियंत्रण (Flax seeds for controlling blood sugar)

अलसी के बीज के फायदे में पाए जाने वाले फाइबर और स्वस्थ चर्बी मधुमेह के खतरे में रहने वाले पुरुषों के लिए विशेष रूप से महत्वपूर्ण हैं, क्योंकि इनसे रक्त शर्करा स्तरों को स्थिर रखने में मदद मिल सकती है। अलसी का नियमित सेवन ब्लड शुगर को स्थिर रखने में मदद कर सकता है, जिससे मधुमेह के खतरे को कम किया जा सकता है जो महिलाओं की तुलना में पुरुषों में अधिक प्रचलित है।

७) कोलेस्ट्रॉल में अलसी के फायदे (Flax seeds for Cholesterol management)

अलसी के बीज में फाइटोस्टेरोल्स होते हैं, जो पौधे के यौगिक होते हैं और जोमेगा-3 फैटी एसिड वाले खराब (एलडीएल) कोलेस्ट्रॉल स्तर को कम करने और सामग्रीक लिपिड प्रोफाइल को सुधारने में मदद कर सकते हैं। फ्लैक्ससीड्स LDL (खराब) कोलेस्ट्रॉल में अलसी के बीज  फायदे स्तर को कम करने में मदद कर सकते हैं, जो हृदय रोगों में एक महत्वपूर्ण कारक है। 

८) इंफ्लेमेशन कम करना (Reduces Inflammation)

सूजन अनेक पुरानी बीमारियों का एक सामान्य लक्षण है, और इसकी उपस्थिति अनेक स्वास्थ्य समस्याओं को जन्म दे सकती है। अलसी के बीज ओमेगा-3 फैटी एसिड्स के प्रमुख स्रोत होते हैं, जिनमें एल्फा-लिनोलेनिक एसिड (ALA) शामिल होता है। ये फैटी एसिड्स शरीर में सूजन की प्रतिक्रियाओं को कम करने में सहायक होते हैं। 

९) तनाव और अवसाद (Helps reduce stress) 

ओमेगा-3 फैटी एसिड्स का मूड पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है और ये तनाव तथा अवसाद को कम करने में मदद कर सकते हैं। अलसी के बीजों में मौजूद ये फैटी एसिड्स मस्तिष्क की कुछ केमिकल प्रक्रियाओं को संतुलित करते हैं, जो तनाव और अवसाद के प्रबंधन में उपयोगी होते हैं। ये न्यूरोट्रांसमीटर की गतिविधि में सुधार कर सकते हैं, जैसे कि सेरोटोनिन और डोपामाइन, जो अच्छे मूड और समग्र मानसिक स्वास्थ्य के लिए जरूरी हैं।

१०) टेस्टोस्टेरोन स्तर (Regulates Testosterone levels)

अलसी के बीजों में पाया जाने वाला एल्फा-लिनोलेनिक एसिड (ALA) शरीर की चर्बी को कम कर सकता है, जिससे टेस्टोस्टेरोन स्तर स्थिर रहते हैं। चूंकि शरीर की चर्बी में टेस्टोस्टेरोन का एस्ट्रोजेन में परिवर्तन होता है, इसलिए चर्बी कम होने से टेस्टोस्टेरोन का स्तर अधिक संतुलित रहता है। इसके अतिरिक्त, शरीर की स्वस्थ वसा की मात्रा हार्मोनल संतुलन के लिए महत्वपूर्ण होती है

मांसपेशी की रिकवरी (Helps with Muscles) 

शारीरिक व्यायाम के बाद अक्सर मांसपेशियों में सोरनेस और सूजन हो सकती है। ओमेगा-3 फैटी एसिड्स इस सोरनेस और सूजन को कम करने में सहायक होते हैं, जिससे मांसपेशियों की रिकवरी में मदद मिलती है। यह सूजन कम करने के द्वारा चोट के उपचार और व्यायाम के बाद की थकान को तेजी से दूर करने में सहायक होते हैं।

१२प्रजनन क्षमता (Improves Fertility)

अलसी के बीजों का सेवन करने से ओमेगा-3 और ओमेगा-6 फैटी एसिड्स का बेहतर संतुलन बनता है, जो प्रजनन स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है। इस बेहतर संतुलन से शुक्राणुओं की गुणवत्ता और मोटिलिटी में सुधार हो सकता है, जिससे प्रजनन क्षमता बढ़ सकती है। इसके अलावा, यह संतुलन हार्मोनल स्वास्थ्य को भी सहायता प्रदान करता है, जो प्रजनन में सहायक होता है।

यह भी पढ़ें:सफेद मूसली के फायदे पुरुषों के लिए

अलसी में मौजूद पोषणतत्व (Nutritional Components present in Flax Seeds)

अलसी बीज अपने असाधारण पोषक संरचना के लिए प्रसिद्ध हैं, जिसे एक स्वस्थ आहार में महत्वपूर्ण माना जाता है। यहां अलसी बीज में पाए जाने वाले प्रमुख पोषक तत्वों की एक सारांश है:

१) आहारिक फाइबर (Dietary Fibre)

अलसी बीज आहारिक फाइबर का उत्कृष्ट स्रोत हैं। इनमें घुलनशील और अघुलनशील फाइबर दोनों होते हैं, जो पाचन को सुविधाजनक बनाते हैं, भोजन की भरपूरता को बढ़ाते हैं, और रक्त शर्करा स्तर को नियंत्रित करने में मदद करते हैं।

२) ओमेगा-3 फैटी एसिड (Omega-3 Fatty Acids)

अलसी बीज आल्फा-लिनोलेनिक एसिड (एएलए) का एक प्रमुख पौधों से प्राप्त करने वाला स्रोत हैं, जो एक प्रकार का ओमेगा-3 फैटी एसिड होता है। ओमेगा-3 फैटी एसिड हृदय स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है और इनमें एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण भी हो सकते हैं।

३) प्रोटीन (Protein)

अलसी बीज में पौधों के आधार पर प्रोटीन का एक अच्छा स्रोत हैं, जिसके कारण यह शाकाहारी और शाकाहारी लोगों के लिए आकर्षक विकल्प होता है। अलसी बीज में प्रोटीन मांसपेशियों की रखरखाव और संपूर्ण शरीर की क्रिया के लिए आवश्यक होता है।

४) लिग्नान (Lignan)

अलसी बीज लिग्नान में अत्यधिक समृद्ध होते हैं, जो एंटीऑक्सीडेंट युक्तियों के साथ संबंधित होते हैं। लिग्नान परिपक्वता-संतुलन गुणों के लिए प्रअलसी बीज अपने असाधारण पोषक संरचना के लिए प्रसिद्ध हैं, जो उन्हें स्वस्थ आहार में महत्वपूर्ण बनाती है। यहां अलसी बीज में पाए जाने वाले प्रमुख पोषक तत्वों का एक सारांश है:

५) विटामिन (Vitamin)

अलसी के बीज में थाइमिन (विटामिन B1), राइबोफ्लेविन (विटामिन B2), नियासिन (विटामिन B3), विटामिन B6 और फोलिक एसिड सहित विभिन्न विटामिनों की थोड़ी मात्रा होती है।

६) खनिज (Minerals)

अलसी के बीज में मैग्नीशियम, फास्फोरस और मैंगनीज जैसे आवश्यक खनिज होते हैं। ये खनिज हड्डी स्वास्थ्य और शरीर में विभिन्न बायोकेमिकल प्रक्रियाओं में मदद करते हैं।

७) फाइटोकेमिकल (Phytochemicals)

अलसी के बीज फ्लेवोनॉयड, फेनोलिक एसिड और अन्य जैव-सक्रिय पदार्थों सहित फाइटोकेमिकल से भरपूर होते हैं। ये पदार्थ एंटीऑक्सीडेंट गुण रखते हैं और कोशिकाओं को क्षति से बचाने में मदद कर सकते हैं।

८) एंटीऑक्सीडेंट (Antioxidants)

अलसी के बीज में एंटीऑक्सीडेंट होते हैं जो शरीर में ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस और सूजन के खिलाफ लड़ने में मदद करते हैं। एंटीऑक्सीडेंट स्वास्थ्य का समर्थन कर सकते हैं और अनियमित रोगों के जोखिम को कम कर सकते हैं।

९) स्वस्थ चर्बी (Healthy Fats)

ओमेगा-3 के अलावा, अलसी के बीज शरीर में विभिन्न शारीरिक क्रियाओं के लिए आवश्यक ओमेगा-6 फैटी एसिड का स्वस्थ संतुलन भी प्रदान करते हैं।

१०) फाइटोस्टेरोल (Phytosterols)

अलसी के बीज में फाइटोस्टेरॉल होता है, जो कोलेस्ट्रॉल की तरह दिखने वाले पौधे के तत्व होते हैं। फाइटोस्टेरॉअलसी के बीज में विटामिन बी1 (थायमिन), विटामिन बी2 (राइबोफ्लेविन), विटामिन बी3 (नियासिन), विटामिन बी6 और फोलिक एसिड जैसे विभिन्न विटामिनों की छोटी-सी मात्रा पाई जाती है।

यह भी पढ़ें:खजूर खाने के फायदे और नुकसान

कैसे शामिल करें अलसी को आहार में (Ways to include flax seeds in your diet)

अलसी के बीज का सेवन

१) गुड़ा खाएं: अलसी के बीज को गुड़े के साथ मिलाकर खाना एक आवश्यक और प्रचलित तरीका है, विशेष रूप से सर्दियों के मौसम में। आप बीजों को सुबह-शाम किशमिश के साथ खा सकते हैं

२) दही या छाछ में मिलाएं: अलसी के बीज को दही, छाछ, या लस्सी में मिलाकर सेवन करें. यह एक स्वादिष्ट और पोषण से भरपूर विकल्प हो सकता है

३) डाल या सब्जी में मिलाएं: अलसी के बीज को डाल और सब्जी में मिलाकर पकाएं. इससे जीरा-अलसी वाली टडका तैयार किया जा सकता है

रेसिपी आइडियास (Recipe Ideas for incorporating Flax seeds in your diet)

१) अलसी के परांठे - Flax Seed Parathas

२) अलसी की चटनी - Flax Seed Chutney

३) अलसी के लड्डू - Flax Seed Ladoos

४) अलसी के बीज का उपयोग कैसे करें - How to use Flax seeds 

अलसी के तेल के उपयोग

पुरुष के लिए अलसी तेल के लाभ

अलसी का तेल पुरुषों के लिए कई महत्वपूर्ण स्वास्थ्य लाभ प्रदान करता है। यह तेल अलसी के बीजों से प्राप्त होता है और इसमें ओमेगा-3 फैटी अम्लों की एक उच्च मात्रा होती है, विशेषकर अल्फा-लिनोलेनिक अम्ल (ALA)। इन फैटी अम्लों का शरीर में कई प्रकार के स्वास्थ्य लाभ हैं, जैसे कि हृदय स्वास्थ्य में सुधार, रक्तचाप को नियंत्रित करना, और रक्त वाहिकाओं के स्वास्थ्य को बढ़ाना। यह हृदय रोगों के जोखिम को कम कर सकता है और कोलेस्ट्रॉल के स्तर को भी संतुलित रखता है।

इसके अलावा, अलसी का तेल पुरुषों में प्रोस्टेट स्वास्थ्य को भी बेहतर बना सकता है। इसमें एंटी-इन्फ्लेमेटरी गुण होते हैं जो प्रोस्टेट संबंधी समस्याओं और सूजन को कम कर सकते हैं। अलसी का तेल पाचन स्वास्थ्य में भी सहायक होता है, जिससे कब्ज और अन्य पाचन समस्याओं में राहत मिलती है। इसके अतिरिक्त, यह तेल त्वचा की स्वास्थ्य को भी बढ़ाता है, जिससे त्वचा स्वस्थ और चमकदार बनती है। इस प्रकार, अलसी का तेल पुरुषों के लिए एक बहुत ही लाभकारी आहार पूरक है।

अलसी का तेल की मालिश

  • गर्म पानी में अलसी के तेल के डिब्बे को हल्के से गर्म करने के लिए रखें।
  • अपने हाथों में थोड़ा सा गर्म अलसी के तेल निकालें, इसे और गर्म करें और मालिश करने वाले इलाकों पर लगाएं।
  • हल्के दबाव के साथ विभिन्न मालिश तकनीकों का उपयोग करें।

पुरुषों के लिए अलसी के नुकसान (Side-effects of consuming Flax Seeds for Men)

अलसी के बीज और उनके तेल का सेवन कई स्वास्थ्य लाभ प्रदान करता है, लेकिन कुछ परिस्थितियों में यह पुरुषों के लिए हानिकारक भी हो सकता है। अलसी में लिग्नन्स होते हैं, जो एस्ट्रोजेन जैसे प्रभाव डालते हैं और कुछ मामलों में हार्मोनल असंतुलन का कारण बन सकते हैं। दूसरी ओर, अलसी के तेल का अत्यधिक सेवन पाचन संबंधी समस्याओं का कारण भी बन सकता है। इसमें फाइबर की उच्च मात्रा होती है, जो कभी-कभी पेट फूलना, दस्त, और आंत्र असुविधा जैसे लक्षणों को जन्म दे सकती है।

इन संभावित जोखिमों के प्रति सचेत रहना आवश्यक है ताकि अलसी का सेवन सुरक्षित और लाभकारी रहे।

अलसी के प्रति एलर्जिक प्रतिक्रिया (Allergic Reaction)

हालांकि यह असामान्य है, अलसी के प्रति एलर्जिक प्रतिक्रिया हो सकती है। लक्षण हल्के से लेकर गंभीर तक हो सकते हैं, और गंभीर जटिलताओं से बचने के लिए इन संकेतों को पहचानना महत्वपूर्ण है।

हॉर्मोनल संतुलन पर प्रभाव (Hormonal Imbalance)

अलसी में फाइटोएस्ट्रोजेन्स होते हैं, जो शरीर में एस्ट्रोजेन हार्मोन की नकल करते हैं। कुछ व्यक्तियों के लिए, यह हॉर्मोनल असंतुलन की ओर ले जा सकता है, जिससे हमारे एंडोक्राइन सिस्टम पर अलसी के प्रभाव को और अधिक गहराई से देखना जरूरी हो जाता है।

गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल समस्याएं (Gastrointestinal Problems)

अलसी से फाइबर की अधिक मात्रा का सेवन करने से पाचन संबंधी असुविधा हो सकती है। हम गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल दुष्प्रभावों और उन्हें कम करने के तरीकों का पता लगाएंगे।

ब्लड थिनिंग प्रभाव (Blood Thinning Properties)

अलसी में मौजूद ओमेगा-3 फैटी एसिड्स का खून को पतला करने का प्रभाव होता है, जो कि कुछ दवाइयों पर होने वाले या कुछ विशेष चिकित्सा स्थितियों वाले व्यक्तियों के लिए चिंता का विषय हो सकता है।

दवाइयों के साथ इंटरैक्शन (Interaction with Medications)

अलसी कई प्रकार की दवाइयों के साथ इंटरैक्ट कर सकते हैं, जिससे उनकी प्रभावशीलता बदल सकती है। दवा लेने वाले किसी भी व्यक्ति के लिए जो अलसी को अपने आहार में शामिल कर रहा है, इन इंटरैक्शनों को समझना महत्वपूर्ण है।

साइनाइड सामग्री (Presence of Cyanide

अलसी में साइनोजेनिक ग्लाइकोसाइड्स की थोड़ी मात्रा होती है, जो सेवन करने पर साइनाइड छोड़ सकती है। हम इसके निहितार्थों और सुरक्षित सेवन के स्तरों पर चर्चा करेंगे।

निष्कर्ष 

सारांश के रूप में, पुरुषों के लिए अलसी के फायदे हैं। अलसी के बीज हृदय स्वास्थ्य, पाचन स्वास्थ्य और हार्मोन संतुलन को बढ़ावा देने में संभावित स्वास्थ्य लाभों का एक विस्तार प्रदान करते हैं। पुरुषों के लिए, अपने आहार में मात्रागत रूप से अलसी के बीजों को शामिल करना आमतौर पर सुरक्षित है और परिणामस्वरूप टेस्टोस्टेरोन स्तर पर महत्वपूर्ण प्रभाव नहीं डालेगा। पुरुषों के लिए अलसी के बीजों को सामग्री युक्त आहार में एक महत्वपूर्ण योगदान माना जा सकता है, जो पोषक तत्वों और स्वास्थ्य लाभों की विविधता प्रदान करता है, इसके साथ-साथ सावधानी और व्यक्तिगत सिफारिशें उनके संभावित लाभों को अधिकतम करने के लिए महत्वपूर्ण हैं। हालांकि अलसी के बीज अधिकांश व्यक्तियों के स्वस्थ आहार का हिस्सा हो सकते हैं, तो संयम महत्वपूर्ण है, विशेषकर यदि आपके पास विशेष स्वास्थ्य संबंधी चिंताएं या स्थितियाँ हैं।



अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

१) अलसी कौन कौन सी बीमारी में काम आता है?

अलसी के बीज अपने ओमेगा-3 फैटी एसिड, फाइबर, लिग्नान्स और अन्य लाभदायक पोषक तत्वों की समृद्धता के कारण हृदय रोग, उच्च कोलेस्ट्रॉल, मधुमेह, पाचन समस्याएं, वजन प्रबंधन, कैंसर की रोकथाम (विशेष रूप से स्तन और प्रोस्टेट कैंसर), सूजन संबंधित स्थितियों, हार्मोन संतुलन, हड्डी स्वास्थ्य, मनोविकार और त्वचा संबंधी स्थितियों को रोकने या प्रबंधित करने में उपयोगी हैं।


२) रोजाना अलसी खाने से क्या फायदा?

अपने दैनिक आहार में अलसी के बीज शामिल करने से विभिन्न स्वास्थ्य लाभ मिल सकते हैं। ये छोटे बीज ओमेगा-3 फैटी एसिड, फाइबर और लिग्नान्स से भरपूर होते हैं, जो हृदय स्वास्थ्य के समर्थन में मदद करने के लिए महत्वपूर्ण होते हैं। इन्हें खाने से हृदय रोग के जोखिम को कम करने, कोलेस्ट्रॉल स्तर को नियंत्रित करने और कार्डियोवास्कुलर स्वास्थ्य को सुधारने में मदद मिलती है। ये पाचन स्वास्थ्य में मदद करते हैं, कब्ज को रोकने और पाचन नियमितता प्रदान करने में सहायता करते हैं, मधुमेह वाले व्यक्तियों के लिए रक्त शर्करा स्तर को नियंत्रित करने में मदद करते हैं, और भोजन के अनुभव में पूर्णता की भावना को बढ़ाकर वजन प्रबंधन में मदद करते हैं।


३) अलसी को कब और कैसे खाएं?

अलसी को अपने आहार में शामिल करने के लिए उन्हें पीस लें या चक्की से पीस लें, ताकि पोषक तत्वों का अवशोषण बेहतर हो सके। दैनिक खाने में 1 से 2 बड़े चम्मच का सेवन एक अच्छी शुरुआत है। आप सुबह के स्मूदी, दही या अनाज के साथ पीसी हुई अलसी को मिला सकते हैं, या सलाद या पके हुए सब्जियों पर छिड़का सकते हैं। अलसी को मफिन जैसे बेक्ड आइटम में शामिल किया जा सकता है या रेसिपी में तेल का हिस्सा बदलने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। यह फायदेमंद होता है कि अअपने दैनिक आहार में अलसी के बीज शामिल करने से विभिन्न स्वास्थ्य लाभ मिल सकते हैं। ये छोटे बीज ओमेगा-3 फैटी एसिड, फाइबर, और लिग्नान्स से भरपूर होते हैं, जो हृदय रोग को कम करके, कोलेस्ट्रॉल स्तर को नियंत्रित करके, और सामग्री पूरी करके हृदय स्वास्थ्य का समर्थन करते हैं। ये पाचन स्वास्थ्य में मदद करके कब्ज को रोकते हैं, मधुमेह वाले व्यक्तियों के लिए रक्त शर्करा स्तर को नियंत्रित करने में मदद करते हैं, और पूर्णता की भावना को बढ़ाकर वजन प्रबंधन में मदद करते हैं।


४) अलसी कब नहीं खानी चाहिए?

अगर आपको अलसी की जानी गई एलर्जी होती है या आपको उससे एलर्जिक प्रतिक्रियाएं होती हैं, यदि आपको पाचन संबंधी समस्याएं हैं या उनकी उच्च फाइबर मात्रा के कारण उनकी संख्या बढ़ सकती है, यदि आप दवाओं का सेवन कर रहे हैं जिनके साथ अलसी का प्रभाव हो सकता है, विशेष रूप से रक्त पतला करने वाली दवाओं के साथ, या यदि आपको हार्मोन-संबंधी स्थितियाँ हैं जैसे कि कुछ प्रकार के स्तन कैंसर, तो अलसी को त्याग देना चाहिए या सतर्कता से सेवन करना चाहिए। गर्भवती और स्तनपान कराने वाले व्यक्ति को अपने स्वास्थ्य संबंधी प्रदाता से सलाह लेनी चाहिए, और जिनके पास बांझपन की इतिहास है उन्हें पूरा अलसी बीज से बचना चाहिए।


५) अलसी कौन सी बीमारी में काम आती है?

अलसी कई स्वास्थ्य स्थितियों में लाभ प्रदान करती है, जिनमें हृदय रोग, उच्च कोलेस्ट्रॉल, मधुमेह, पाचन स्वास्थ्य, सूजन संबंधित विकार, हार्मोन संतुलन, कैंसर रोकथाम, वजन प्रबंधन, मनोविकार, हड्डी स्वास्थ्य और त्वचा की स्थितियाँ शामिल हैं।


६) क्या अलसी शुक्राणु के लिए अच्छा है?

कुछ अध्ययनों का मानना है कि अलसी में पाए जाने वाले ओमेगा-3 फैटी एसिड शुक्राणु उत्पादन को समर्थन करने में एक भूमिका निभा सकते हैं। हालांकि, महत्वपूर्ण है कि अलसी के प्रभाव को शुक्राणु उत्पादन पर अन्य कारकों जैसे कि कुल आहार, जीवनशैली और निश्चित खाद्य पदार्थों जैसे जस्ता और फोलिक एसिड के साथ तुलनात्मक रूप से अच्छी तरह से दस्तावेजीकृत नहीं किया गया है।


७) पुरुषों के लिए कितना अलसी?

सामान्य रूप से, अलसी के 1 से 2 बड़े चम्मच भूने हुए बीज रोज़ाना अधिकांश व्यक्तियों के लिए एक उचित मात्रा मानी जाती है।


८) क्या अलसी पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन कम करती है?

अलसी में लाइग्नेन्स मौजूद होते हैं, जो फाइटोएस्ट्रोजन के प्रकार हैं, यानी इनकी रासायनिक संरचना महिला हार्मोन एस्ट्रोजन के समान होती है। कुछ अध्ययनों ने सुझाव दिया है कि जब इन्हें सेवन किया जाता है, तो लाइग्नेन्स का बहुत ही कम एस्ट्रोजेनिक प्रभाव हो सकता है। हालांकि, पुरुषों में अलसी के प्रति टेस्टोस्टेरोन स्तर पर कुल मानसिक प्रभाव अच्छी तरह से दस्तावेजीकृत नहीं है, और उपलब्ध अल्प अध्ययन इसका प्रभाव निश्चित रूप से कम होने की संकेत देते हैं।


९) क्या अलसी पुरुषों के लिए खराब है?

अलसी पुरुषों के लिए स्वाभाविक रूप से बुरा नहीं होती है। वास्तव में, पुरुषों के लिए अलसी के फायदे कई सारे हैं, यह स्वास्थ्य के विभिन्न लाभ प्रदान करती है और संतुलित आहार में महत्वपूर्ण योगदान हो सकती है। यद्यपि इसमें लाइग्नेन्स, जो फाइटोएस्ट्रोजन होते हैं, मौजूद होते हैं, लेकिन टेस्टोस्टेरोन स्तर पर प्रभाव आमतौर पर कम होता है और चिंता का कारण नहीं होता है। हालांकि, किसी भी आहारिक घटक की तरह, मायाने में रखना महत्वपूर्ण है।

References:

Flaxseed supplementation (not dietary fat restriction) reduces prostate cancer proliferation rates in men presurgery
https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/19064574/

Biomedical features of flaxseed against different pathologic situations: A narrative review
https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC8244609/

Flaxseed and cardiovascular health
https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/19568181 

files/author_Dr.-Shailendra-Chaubey-BAMS_300x_3fb01719-6325-4801-b35b-3fb773a91669.jpg

Dr. Shailendra Chaubey, BAMS

Ayurveda Practioner

A modern-day Vaidya with 11 years of experience. He is the founder of Dr. Shailendra Healing School that helps patients recover from chronic conditions through the Ayurvedic way of life.

Popular Posts

Leave a comment

Please note, comments need to be approved before they are published.

आपके बाल झड़ने का कारण क्या है?

डॉक्टरों द्वारा डिज़ाइन किया गया Traya का मुफ़्त 2 मिनट का हेयर टेस्ट लें, जो आपके बालों के झड़ने के मूल कारणों की पहचान करने के लिए आनुवांशिक, स्वास्थ्य, जीवनशैली और हार्मोन जैसे 20+ कारकों का विश्लेषण करता है।

हेयर टेस्ट लेTM